सेक्स एजुकेशन की गुत्थी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-01 09:30:52
http://navbharattimes.indiatimes.com/other/home-and-relations/fitness/Mystery-of-Sex-Education/articleshow/37402034.cms
 नहीं होगी शादी में दिक्कत
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-01 09:30:52
http://navbharattimes.indiatimes.com/other/home-and-relations/fitness/Will-not-affect-your-marriage/articleshow/37401534.cms
 समर में ऐसी डायट से फिट रहेंगे आप
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-01 09:30:52
http://navbharattimes.indiatimes.com/other/home-and-relations/fitness/Healthy-foods-to-add-to-your-summer-diet/articleshow/37134596.cms
 ऐसे बचें फैमिली स्ट्रेस से
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-01 09:30:52
http://navbharattimes.indiatimes.com/other/home-and-relations/fitness/Tips-To-Reduce-Family-Stress/articleshow/37134504.cms
 दादू-दादी चले बॉडी बनाने
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-01 09:30:52
http://navbharattimes.indiatimes.com/other/home-and-relations/fitness/Dadu--Grandma-went-to-Body/articleshow/36812654.cms
 90 नहीं, 100 मिनट में आगरा पहुंची सुपर हाई स्पीड ट्रेन
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-03 16:11:20
लखनऊ। भारत की पहली हाई स्पीड ट्रेन का ट्रायल रन आज नई दिल्ली से आगरा के बीच शुरू हो गया। यह ट्रेन ट्रायल रन में दिल्ली से आगरा की दूरी डेढ़ घंटे में तय कर लेगी। माना जा रहा है कि ट्रेन करीब 140 से 160 किली प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ेगी। हाई स्पीड ट्रेन आज दिन में 11:15 बजे नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से रवाना हुई और सीधे आगरा जाकर रुकी। इसने दिल्ली से आगरा की दूरी 100 मिनट में पूरी की। जबकि इसे यह दूरी 90 मिनट में पूरी करनी थी। इस ट्रेन में स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस जैसे दस एसएलबी कोच लगे थे। इसका इंजन 5400 हार्स पावर का है। दिल्ली -आगरा रूट पर ट्रेन के संचालन के लिए ट्रैक को बेहद मुस्तैदी से दुरुस्त किया गया। वापसी में यह आगरा से दोपहर 1:50 पर चलकर 3:55 पर नई दिल्ली स्टेशन पहुंचेगी। नई दिल्ली स्टेशन पर ट्रेन की जांच फिर से की जाएगी। रेल अनुसंधान एवं मानक संगठन (आरडीएसओ) लखनऊ देश की इस हाई स्पीड ट्रेन के संचालन की तैयारी में काफी समय से जुटा था। कल भी दिल्ली में आरडीएसओ की टीम ने इंजन और कोच का बारीकी से परीक्षण किया था। इसके साथ ही नई दिल्ली से आगरा के उस ट्रैक का भी पूरा परीक्षण किया गया जिस पर इस ट्रेन का ट्रायल होगा। परीक्षण सफल रहने पर अक्टूबर से इस ट्रेन को नियमित नई दिल्ली से आगरा के बीच संचालित किया जाएगा।
 शहर में बिक रहा है मिलावटी पदार्थ
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-05 17:19:57
शादी समारोह का दौर शुरू होते ही शहर के कई क्षेत्रों में मिलावटी खाद्य पदार्थों की बिक्री जमकर की जा रही है। हाल यह है कि इन बाजारों में सरसों के तेल से लेकर घी में मिलावटी हो रही है। वहीं मिर्च मसालों में भी मिलावटी सामग्री मिलाई जा रही है। जिससे जहां ग्राहकों को चूना लग रहा है वहीं उनका स्वास्थ्य भी बिगड़ रहा है। गंभीर बात यह है कि मिलावटखोरों को पकडऩे के लिए फूड सेफ्टी विभाग कोई कार्रवाई करता नजर नहीं आता। जिससे मिलावटखोरों के हौसले बुलंद हो गए हैं। जानकारी के अनुसार मिलावटी कारोबार में लिप्त मिलर्स और तेल कारोबारी 60 से 70 प्रतिशत पाम ऑयल और 30 से 40 प्रतिशत सोयाबीन तेल की मिलावट का रिफाइंड ऑयल के नाम से न सिर्फ खुला तेल बाजार में बेच रहे हैं बल्कि आकर्षक पैकिंग में भी धड़ल्ले से बेच रहे हैं। बाजार में खुलेआम चल रहे है इस मिलावटी कारोबार ना ही प्रदेश सरकार के नुमाइंदों का अंकुश है और ना ही संबंधित विभाग के आला अफसरों का। बाजार जानकारों का कहना है कि आम उपभोक्ताओं को खुले तेल के नाम धीमा जहर परोसा जा रहा है। विक्रेताओं ने तेल का स्टॉक करने और मिलावटखोरी को अंजाम देने बकायदा गोदामों में टंकियां बनवा रखी है। इसके साथ ही टीन और डिब्बों में री-पैकिंग के जरिए उसमें मिलावटी तेल का भरवा करके के अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार शहर में बड़े पैमाने पर तेल के व्यापार में मिलावट का खेल चल रहा है क्योंकि मिलावट और खपत के लिए सीजन उपयुक्त है। व्यापारी 30 प्रतिशत सोयाबीन और 70 प्रतिशत पाम ऑयल मिलाकर खुले रूप में या और आकर्षक पैकिंग कर ग्राहकों रिफाइड सोयाबीन तेल के नाम से ऊंचे दाम पर बेच रहे हैं। इन स्थानीय तेल बाजार में सोयाबीन तेल 90 से 95 रुपए लीटर है तो पाम ऑयल 70 से 75 रुपए प्रति लीटर है। मुनाफाखोरी करने व्यापारी तो व्यापारी कुछ स्टॉकिस्ट भी इस मिलावटी कारोबार में लिप्त हैं।
 16 साल की लड़की के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या का आरोप, शव रखक चक्काजाम
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-12 15:39:57
भिलाई। वांबे आवास नेहरू नगर के लोगों ने मोहल्ले के एक युवक पर स्थानीय स्कूली छात्रा से दुष्कर्म कर एक अन्य की मदद से उसकी हत्या कर देने का आरोप लगाते हुए फोरलेन पर शव रखकर चक्का जाम कर दिया। करीब एक घंटा के जाम में लोगों ने प्रशासन की बात मानकर रोड पर से शव जाम को कई बार हटाया और कई बार फिर आक्रोशित होकर रोड फिर शव रखा और जाम किया। वे कथित आरोपियों के खिलाफ अपराध कायम कर उन्हें गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। अंत में पुलिस ने जाम हटाने के लिए हवा में लाठियां लहराई तो लोग भागने लगे। इससे जाम तो हट गया पर लोग फिर वहां एकत्रित हो गए। बाद में जब वे वहां से हटे थाने के सामने धरना दे दिया। देर शाम तक वे धरने पर ही थे। देर शाम तक चलता रहा ड्रामा पुलिसके इस आश्वासन के बाद कि इस मामले में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, लोग शव हटाने के लिए तैयार हो गए। शव को वाहन की ओर ले जाने लगे। तभी किसी ने कहा कि संदेहियों के खिलाफ अपराध दर्ज होने के बाद ही शव हटाया जाएगा। शव फिर रोड पर रख दिया गया और लोगों ने फिर चक्काजाम करने की कोशिश की। शव छोड़कर भागे लोग पुलिसकी लाठी के कारण जब भगदड़ मची गई और लोग भाग रहे थे उस वक्त काजल के शव के पास कोई नहीं था। उसकी मां केसर बाई रोती हुई पहले ही दूर खड़ी थी। बाद में सभी लोग शव के पास एकत्रित हो गए। पुलिस के तेवर देखकर वे शव को रोड से हटाकर थाना परिसर ले जाने के लिए तैयार हो गए। पुलिस ने उनसे कहा था कि जो भी मांग है या आरोपियों के गिरफ्तारी का इंतजार करना है तो थाने में करो। यहां रोड जाम मत करो। महिलाएं कतार से बैठ गईं सड़क पर इसघटना से वांबे आवास के लोग गुरुवार से ही आक्रोशित थे। शुक्रवार को पोस्ट मार्टम के बाद शव भिलाई के लिए जैसे ही रवाना किया गया लोग फोरलेन पर एकत्रित हो गए। शव वाहन जैसे ही कोसानाला के पास पहुंचा लोगों ने वाहन से शव उतारा और उसे रोड पर रखकर चक्काजाम जाम कर दिया। महिलाएं कतार से रोड पर बैठ गई। लोगों की भीड़ देखकर पुलिस वहां पहले से मौजूद थी। कुछ ही समय में बड़ी संख्या में और बल बुला लिया गया। काफी समझाइश के बाद भी लोग हटने के लिए तैयार नहीं हुए। वे तीनों संदेहियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। पुलिस ने लोगों को समझाइश देने की कोशिश की। लेकिन वे नहीं माने। शुक्रवार को कोसानाला टोलप्लाजा पर ऐसी स्थिति बनीं। एक घंटे तक वाहन को जाने नहीं दिया गया। विवाद और हंगामा भी होता रहा। लोगों ने बताया-इसलिए जाम भीड़की नेतृत्व कर रहे नितिश कश्यप और अभिषेक गौर ने कहा कि वे जाम इसलिए कर रहे हैं कि हमें ये आशंका है कि कहीं मामला कहीं रफा दफा हो जाए। क्योंकि पार्षद हरिओम वाले मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर पाई। उस पर नाबालिग से लैंगिक अपराध करने का आरोप है। मांने कहा काजल को पीटता था होलसिंह : पुलिसके अनुसार केसर बाई ने पुलिस बयान में कहा कि होलसिहं अक्सर काजल को डांटता पीटता था। केसर बाई का पति भरत पांडे है। लेकिन काजल उसकी बेटी नहीं थी। वह दूसरे बच्चे उसके पहले पति से हैं। दिखाई लाठी, बुजुर्ग महिला घायल दोबाराचक्काजाम होते देख पुलिस ने हवा में लाठियां लहराई और जाम कर रहे लोगों पर हल्का प्रयोग भी शुरू किया। इसमें कई महिलाएं भी थीं। इससे भगदड़ मच गई। लोग भागने लगे। कुछ महिलाओं को पुलिस की लाठी से चोट भी लगी। एक बुजुर्ग महिला के पैर में लाठी लगी तो वह गिर गई। सुमन और पोखन बाई नामक दो महिलाओं को भी लाठी की मार लगी। सुमन ने तो पीठ के निशान दिखाते हुए कहा कि उसे पुलिस ने मारा है। पहले कहासुनी हुई, फिर लड़की ने लगा ली फांसी यहघटना गुरुवार शाम करीब 4 बजे की है। पुलिस को घटना के संबंध में जो जानकारी मिली उसके अनुसार केसर पांडे की बेटी काजल को स्थानीय निवासी होलसिंह उर्फ नेता ने किसी लड़के साथ बात करते हुए देख लिया था। उसने काजल को डांटा भी था। इसके ढाई घंटे बाद हल्ला मचा कि लड़की ने फांसी लगा ली। शुक्रवार को दिनभर इसे लेकर हंगामा हुआ।
 स्टंट बाइकिंग बन रही है जानलेवा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-11 16:04:40
लीड़ सड़को पर अवारा लड़को के झुण्ड रात होने पर जो हुडदंग मचाते है,उससे न केवल यातायात प्रभावित होता है बल्कि अक्सर अन्य वाहन चालक दुर्घंटना के शिकार भी हो जाते है। मेट्रो सिटी की तर्ज पर यहंा लड़के फर्राटे से गाड़ी चलाते हमको आते-जाते सडको में दिख जाते है। जो कि दो पहियावाहन मेंं तीन-चार सवारी बैठा अश्लील शब्दों का इस्तेमाल करते निकलते है जिन पर पुलिस प्रशासन नकेल कसने में असफल दिखाई पड़ा रहा है। आप रात ९ बजे के बाद सिविक सेन्टर,न्यू सिविक सेंटर,सेक्टर१०और सुपेला से पावर हाऊस जाने वाली सड़को पर रोज इनका तमाशा होता है ये लोग नशे में टुन्न होकर गाडी चलाते है। ऊपर से अगर पीछे वाली सीट पर लडकी बैठी हो तो क्या कहना? इनकी गाड़ी का कांटा८०-९० से नीचे उतरता ही नहीं है मानों बंदूक से निकल कर गोली छूटी हो ऐसा लगता है । इन लोगों ने सड़क और कानून को अपनी जागीर समझ रखी है जिसका उपयोग अपनी मर्जी के हिसाब से करते है। इन पर लगाम लगाने में यातायात विभाग नाकाम हो गया है। भिलाई। भिलाई की सड़को का इन दिनों सबसे अच्छी तरह उपयोग अवारा किस्म के लड़के कर रहे है जो कि अपनी मौज मस्ती के लिए रोड़ मेंंं फर्राटे से गाड़ी दौड़ाते है और इन पर रोक लागाने वाला कोई जिम्मेदार नजर नहीं आ रहा है। हमारा यातायातत विभाग भी केवल बड़ी-बड़ी बाते करके हवाई किला बनाता रहता है। लेकिन कोई भी उचित कार्यवाही के नाम पर अभी तक मैदानी स्तर पर तैयारी नहंी दिख रही है। इन लड़को का कोई जिम्मेदार व्यक्ति उपस्थित नहंी रहता है अगर रहता भी होगा तो वह झुण्ड आपको सिविक सेन्टर ,न्यू सिविक सेेन्टर,सेक्टर -१०,सुपेला (आकाशगंगा) ,चौहान स्टेट, पावर हाऊस जाने वाली सड़को पर खड़ा दिखेगा। जो कि रात ९ बजे के बाद शहरों की सड़को को नापने निकलता है जिनके सामने पुलिस प्रशासन भी घुटने टेक देता है। वैसे भी रात्रि के समय टे्रफिक सिग्रलों में अदृश्य शकित के रूप में उपस्थित रहते होंगे। सारा खेल इसी समय होता है जब इनको रोकने वाला कोई नहीं होता है और ये अवारा लड़के अपने हिसाब से कानून का पालन करते है। इनकी वजह इन बाइकर्स की वजह से सड़को पर आवागमन करने वालों की शामत आ जाती है। इनकी स्पीड कम से कम ८०-९० किलोमीटर प्रति घण्टा होती है रफ्तार से धुंआ उड़ाते गााड़ी लेकर निकल जाते हैं। खासकर उस समय इनकी रफ्तार देखने लायक होती है जब इनकी पिछली सीट पर कोई लड़की बैठी हो। उस समय इन पर ऐसा जुनून सवार हो जाता है कि फिर कुछ नहीं देखते और गलत तरीके से ओवरटेक करते हुए आगे निकल जाते हैं। इसमें कई बार बेकसूर लोग पीस जाते हैं जिनकी कोई गलती भी नहीं होती है वे बेवजह दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं। खासकर परिवार सहित भ्रमण करने वालों को अत्यधिक पेरशानी का सामना करना पड़ता है। ये आवारा लड़के न केवल सड़को पर हंगामा करते चलते हैं बल्कि हर आती-जाती युवतियों एवं महिलाओं को छेडऩे तक से गुरेज नहीं करते हैं। इनके हौंसले व हिम्मत इतनी ज्यादा हो गई है कि परिवार सहित निकली युवतियों तक भी नहीं छोड़ते हैं। इनके द्वारा अश्लील फब्तियां भी कसी जाती है। इन पर रोकथाम लगाने के लिए विभाग के द्वारा कभी भी ठोस व कड़ी कारवाई नहीं की गई जो कि उनके लिए वरदान साबित हो रही है। ये जरूर है कि ट्रेफिक विभग के बड़े अधिकारी यातायात में सुधार लाने की बात कहते हैं। उनके द्वारा कहा भी जाता है और इसका कुछ दिनों तक पालन भी होता है लेकिन समय बीतने के साथ ही मामला टांय-टांय फिस्स हो जाता है और फिर गाड़ी पुराने ढर्रे पर चलने लगती है। ट्रेफि क विभाग की निरंतर अनेदखी की वजह से जहां सड़कों पर रात के समय आम आदमी का निकलना दूभर हो गया है वहीं इनकी वजह से आए दिन दुर्घटनाएं हो रही है जिन पर किसी भी प्रकार रोक लगा पाने में यातायात विभाग असफल हो गया है। आपको याद होगा कि दिल्ली में कुछ दिनों पूर्व रात के समय पुलिस प्रशासन ने सैकड़ों वाहनों व चालकों को गिरफ्तार भी किया और जमकर पीटा। अब दिल्ली की तर्ज पर यहां भी लोग किसी बड़ी कार्यवाही का इंतजार कर रहे हैं जिस पर ट्रेफिक विभाग क्या करता है अब यह देखना है। बाक्स कुछ दिनों पूर्व रायपुर में एक लड़का अपनी फोर व्हीलर गाड़ी सड़क पर स्टंट दिखा रहा था जिसकी रफ्तार १२०-२४० किमी प्रतिघण्टा रही होगी गाड़ी अनियंत्रित होकर सेंटर से टकरा गई और उसकी अंदरूनी हिस्से में चोट लगने से मौत हो गई। इसके अलावा भिलाई के सेन्ट्रल एवन्यू में गत दिनों सुबह ६:३० बजे एक इंजीनियरिंग कालेज का लड़का स्टंटबाजी करते मौत के काल में समा गया। इसी प्रकार रायपुर, मोमिन पारा निवासी मो. रविस २२ सितंबर २०१३ को स्टंट दिखाते-दिखाते दुर्घटना का शिकार हो गया जिसमें उसकी मौत हो गई। वर्जन कैलाश चौहान, यातायात विभाग अभी तक ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली। शिकायत मिलने पर जरूर कारवाई करेंगे बाकी तीन सवारी हमारी रूटीन चेकिंग जो जारी है।
 माउवादी की एयरफोर्स और नेवी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-15 16:53:34
रायपुर। मैदानी व पहाड़ी इलाकों में पुलिस फोर्स से जमीनी लड़ाई के बाद अब माओवादी नेवी और एयर फोर्स दलम बनाने की ओर कदम बढ़ा चुके हैं। यह खुलासा हुआ है माओवादियों की केरल के एर्नाकुलम से निकलने वाली मैग्जीन पीपुल्स मार्च से। माओवादियों ने नेवी के गठन की शुरूआत तीन साल पहले ही कर दी थी। माओवादी अब सरकार को जमीन के साथ ही आसमान व पानी में भी चुनौती देना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने पूरा खाका तैयार कर लिया है। वे एयरफोर्स दलम व नेवीफोर्स भी बना रहे हैं। नेवी दलम के लिए उन्होंने छत्तीसगढ़ व ओडिशा सीमा पर शबरी व सेलुर नदी को चुना है। प्रदेश की सीमा पर बहने वाली शबरी नदी की छत्तीसगढ़ सीमा पर लम्बाई लगभग 170 किलोमीटर है। वर्ष 2003 से छत्तीसगढ़ में माओवादियों के सामरिक गतिविधियों पर अध्ययन कर रहे साइंस कॉलेज में डिफेंस विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. गिरीशकांत पांडेय बताते हैं कि नेवी और एयर फोर्स के सम्बंध में माओवादियों की मैग्जीन में इस बात का खुलासा हुआ है। माओवादियों की मंशा 2060 तक देश पर कब्जा करने की है। इसी उद्देश्य को लेकर वे काम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि पीपुल्स मार्च मैग्जीन के सम्पादक पी. गोविंदन कुट्टी हैं, जो इसरो का वैज्ञानिक भी रह चुका है। यह है माओ-नेवी का काम अध्ययन के मुताबिक माओवादियों द्वारा गठित नेवी का यह प्रारंभिक दौर है। छत्तीसगढ़ व ओडिशा की सीमा पर शबरी नदी और सेलुर नदी पर वे अभ्यास करते हैं। नदी रास्तों पर स्टीमर व नाव भी चलते हैं। ये नाव के जरिए अपने दस्ते को एक छोर से दूसरे छोर तक पहुंचाने का काम कर रहे हैं। वे इस मार्ग से गश्त करने वाले पुलिस व फोर्स को भी निशाना बनाने के उद्देश्य को लेकर कार्य कर रहे हैं। कर चुके हैं हमला माओवादी सेलुर नदी के रास्ते मलकानगिरी के चित्रकोंडा इलाके में बालिमेला जलाशय के कटऑफ एरिया में ग्रेहाउंड के जवानों पर जून 2008 में हमला भी बोल चुके हैं। इसमें कई जवान शहीद भी हुए थे। जिस सेलुर नदी के जरिए यह हमला हुआ वह नदी शबरी नदी की मुख्य सहायक नदी है। एयरफोर्स भी प्लान में माओवादियों की भविष्य की योजना में एयरफोर्स दलम का गठन भी शामिल है। छोटे रूप में इसकी शुरूआत बेहद जल्द करने की योजना है। हवाई गश्ती दल के विरूद्ध हमला करने की नीति के जरिए ये इसकी शुरूआत करने की फिराक में हैं। रिसर्च में ये बातें सामने आई हैं कि माओवादी ?सा लॉन्चर विकसित करने की फिराक में हैं, जिससे हेलीकॉप्टर सर्चिग के दौरान पुलिस को निशाना बनाया जा सके। माओवादी नेवी व एयरफोर्स दलम बनाने के लिए योजनाबद्ध तरीके से आगे बढ़ रहे हैं। यह बातें उनकी मैग्जीन पीपुल्स मार्च के जरिए सामने आ चुकी हैं। मैग्जीन के मुताबिक नेवी दलम के लिए उन्होंने सुकमा जिले से सटे मलकानगिरी के शबरी व सेलुर नदी को चुना है। डॉ. गिरीशकांत पांडेय, एचओडी डिफेंस, साइंस कॉलेज रायपुर
 प्रशांत भूषण ने मोइली पर लगाया पसंदीदा कंपनी को फायदा पहुंचाने का आरोप
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-17 16:55:23
52 हजार करोड़ के घोटाले की तैयारी नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी (आप) के नेता प्रशांत भूषण ने ऐन चुनाव के बीच केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री वीरप्पा मोइली पर सनसनीखेज आरोप लगा दिया है। भूषण के मुताबिक मोइली अपनी पसंद की कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए सरकारी खजाने को 52 हजार करोड़ का चूना लगाने की तैयारी में हैं। इस संबंध में उनके आदेश की प्रति सहित कागजात पेश कर उन्होंने दावा किया कि मंत्रलय के अधिकारियों ने भी इसे गलत माना है।1आप नेता और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण के मुताबिक मोइली 21 साल पहले के केंद्र सरकार के फैसले की आड़ में यह काम करना चाहते हैं। उन्होंने आदेश जारी कर दिया है कि कैबिनेट की मंजूरी लेकर रत्ना तेल कुएं एस्सार कंपनी को दे दिए जाएंगे। मोइली चाहते हैं कि कंपनी को यह तेल कुएं वर्ष 1993 की दर पर ही दिए जाएं। जबकि सुप्रीम कोर्ट कह चुका है कि ऐसे मामले में जब तक कंपनी के साथ समझौते पर दस्तखत नहीं हुआ हो, सरकार उसका पालन करने को बाध्य नहीं है। यहां तक कि पेट्रोलियम मंत्रलय के अधिकारियों ने भी लिखित तौर पर कहा है कि इस पुराने फैसले को इसी रूप में लागू करना ठीक नहीं होगा। उधर, एस्सार का कहना है कि रत्ना ब्लाक का आवंटन पारदर्शी नीलामी प्रक्रिया के तहत हुआ था। यहां काम शुरू करने में पहले ही काफी देर हो चुकी है। आप नेता ने कहा, चुनाव आयोग से करेंगे शिकायत भूषण ने कहा कि साफ है कि मोइली जाते-जाते चहेती कंपनियों को मोटा फायदा करा देना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने अटार्नी जनरल जीई वाहनवती की सलाह का सहारा लिया है। 2जी मामले में ए राजा ने भी इन्हीं की सलाह का सहारा लिया था। उन्होंने कहा कि चुनाव आचार संहिता लागू होने के दौरान इस तरह का फैसला करने की शिकायत वह चुनाव आयोग से भी करेंगे। ऐसे मामलों में भाजपा की चुप्पी पर भी उन्होंने हैरानी जताई। इतने गंभीर आरोपों के बावजूद पेट्रोलियम मंत्री और कंपनी दोनों ने ही इस मामले में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।
 क्या बृजमोहन सिंह थामेंगे भाजपा का हाथ
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-18 16:14:43
भिलाई के तेज तर्रार कांग्रेसी नेता व पूर्व साडा उपाध्यक्ष बृजमोहन सिंह के भाजपा प्रवेश करने की अटकलें लगाईं जा रही हैं . सूत्रों की माने तो अपना व्यक्तिगत रसूख रखने वाले बृजमोहन सिंग इन दिनों कांग्रेस में अपनी कम होती पूछ - परख से नाराज़ चल रहे हैं .इससे आहत होकर नरेंद्र मोदी के भिलाई में होने वाले कार्यक्रम में बृजमोहन सिंग भाजपा प्रवेश कर सकते हैं
 क्या बृजमोहन सिंह थामेंगे भाजपा का हाथ
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-18 16:14:44
भिलाई के तेज तर्रार कांग्रेसी नेता व पूर्व साडा उपाध्यक्ष बृजमोहन सिंह के भाजपा प्रवेश करने की अटकलें लगाईं जा रही हैं . सूत्रों की माने तो अपना व्यक्तिगत रसूख रखने वाले बृजमोहन सिंग इन दिनों कांग्रेस में अपनी कम होती पूछ - परख से नाराज़ चल रहे हैं .इससे आहत होकर नरेंद्र मोदी के भिलाई में होने वाले कार्यक्रम में बृजमोहन सिंग भाजपा प्रवेश कर सकते हैं
  विश्वमित्री नदी के तट पर तीन दिन पहले नजर आए, 10 फुट से ज्यादा लंबे मगरमच्छ को वन अधिकारियों ने पकड़ लिया है.
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-18 16:31:24
विश्वमित्री नदी के तट पर तीन दिन पहले नजर आए, 10 फुट से ज्यादा लंबे मगरमच्छ को वन अधिकारियों ने पकड़ लिया है. वन अधिकारियों ने बताया कि नदी के तट पर फतेहगंज जोन में इस मगरमच्छ को देख कर लोग दहशत में आ गए और उन्होंने वन अधिकारियों को इसकी सूचना दी. इसको कल वन अधिकारियों ने पकड़ लिया. मगरमच्छ देख घबराए हुए स्थानीय लोगों को आशंका थी कि इसने इलाके में एक कुत्ते तथा कुछ पशुओं को मारा है. बाद में स्थानीय लोगों और वन विभाग के कर्मियों ने इसे पकड़ लिया. मगरमच्छ को पकड़ कर पिंजरे में डाला गया. इसे जब ले जाया जा रहा था तब भारवाड़ और आसपास के इलाकों के सैकड़ों लोग इसे देखने के लिए आ गए. अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें. आप दिल्ली आजतक को भी फॉलो कर सकते हैं.
  विश्वमित्री नदी के तट पर तीन दिन पहले नजर आए, 10 फुट से ज्यादा लंबे मगरमच्छ को वन अधिकारियों ने पकड़ लिया है.
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-18 16:32:40
विश्वमित्री नदी के तट पर तीन दिन पहले नजर आए, 10 फुट से ज्यादा लंबे मगरमच्छ को वन अधिकारियों ने पकड़ लिया है. वन अधिकारियों ने बताया कि नदी के तट पर फतेहगंज जोन में इस मगरमच्छ को देख कर लोग दहशत में आ गए और उन्होंने वन अधिकारियों को इसकी सूचना दी. इसको कल वन अधिकारियों ने पकड़ लिया. मगरमच्छ देख घबराए हुए स्थानीय लोगों को आशंका थी कि इसने इलाके में एक कुत्ते तथा कुछ पशुओं को मारा है. बाद में स्थानीय लोगों और वन विभाग के कर्मियों ने इसे पकड़ लिया. मगरमच्छ को पकड़ कर पिंजरे में डाला गया. इसे जब ले जाया जा रहा था तब भारवाड़ और आसपास के इलाकों के सैकड़ों लोग इसे देखने के लिए आ गए. अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें. आप दिल्ली आजतक को भी फॉलो कर सकते हैं.
  भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-18 16:36:41
इटावा। भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को आड़े हाथों लिया। इटावा में रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा,दिल्ली के शहजादे चांदी का चम्मच लेकर पैदा हुए हैं। वह गरीबों के घर ऎसे जाते हैं जैसे लोग ताजमहल देखने जाते है। दिल्ली के शहजादे ने गरीबी नहीं देखी है,इसलिए वह देखने जाते हैं कि गरीब कैसे दिखते हैं। उनके कितने पैर होते हैं। वे कैसे रहते हैं। शहजादे कैमरे लेकर गरीब के घर ऎसे जाते हैं जैसे लोग ताजमहल देखने जाते हैं। वह गरीबी के बारे में बातें कर आनंद लेते हैं। वे चांदी का चम्मच लेकर पैदा हुए हैं। उनके लिए गरीबी पर्यटन है। मैं गरीब परिवार से ताल्लुक रखता हूं। मैंने गरीबी देखी है। मैं चाय बेचकर यहां पहुंचा हूं। मोदी ने सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह पर भी निशाना साधा। मोदी ने कहा,मुलायम सिंह बलात्कारियों पर तो नरम हैं ,लेकिन मुजफ्फरगनर दंगा पीडितों पर गरम हैं। मोदी ने कहा,हमारे नेताजी की एक दिक्कत है,उन्होंने जहां सॉफ्ट होना चाहिए वहां कड़क हो जाते हैं,जहां कड़क होना चाहिए वहां नरम हो जाते हैं। वह बलात्कार के मामलों पर नरम हैं लेकिन जब राहत शिविरों में दंगा पीडितों के बच्चे मर रहे थे तब वह कड़क हो गए। मोदी ने बसपा सुप्रीमो मायावती और यूपी के मुख्यमंत्री अशिलेश यादव पर भी निशाना साधा। मोदी ने कहा,कुछ लोग हाथियों के पार्क बनाने में व्यस्त थे तो कुछ लोग शेरों की सफारी में बिजी हैं। किसी को यूपी के लोगों की कोई परवाह नहीं है। गन्ना किसान मर रहे हैं , लेकिन किसी को उनकी चिंता नहीं है। देश में किसान आत्महत्याएं कर रहे हैं। सीमाओं पर जवान मारे जा रहे हैं। सरकार का अब नारा हो गया है"मर जवान,मर किसा - See more at: http://www.patrika.com/news/rahul-visits-a-poors-family-the-way-people-visit-taj-mahal-narendra-modi/1001663#sthash.1YrW1F7f.dpuf
  कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के बारे में नया खुलासा हुआ है।
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-18 16:46:41
कोलकाता। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा के बारे में नया खुलासा हुआ है। समाचार पत्र वॉल स्ट्रीट जर्नल के मुताबिक रॉबर्ट वाड्रा दसवीं पास है। वाड्रा ने 2007 में अपनी कंपनी 90 हजार रूपए के निवेश के साथ शुरू की थी। 2012 तक उनके पास 324 करोड़ रूपए की जमीन जायदाद हो गई। वाड्रा ने पांच साल में यह पैसा जमीन की खरीद-फरोख्त के जरिए कमाया। समाचार पत्र के मुताबिक 2012 के बाद वाड्रा ने कितनी जमीन खरीदी और बेची इसका आंकड़ा उपलब्ध नहीं है। 2012 तक रॉबर्ट वाड्रा के पास 252 करोड़ की जमीन जायदाद थी। उसी साल वाड्रा ने 72 करोड़ की जमीन बेची यानि 2012 में वाड्रा के पास 324 करोड़ की प्रोपर्टी हो गई। समाचार पत्र के मुताबिक 2004 में यूपीए सरकार के सत्ता में आने के वक्त वाड्रा इनएक्सपेंसिव कस्टम ज्वैलरी के एक्सपोर्ट के कारोबार में थे। उस वक्त उन्हें प्रोपर्टी कारोबार का कोई अनुभव नहीं था। 2007 में वाड्रा ने 90 हजार रूपए के निवेश से स्काई लाइट हॉस्पिटैलिटी नाम की कंपनी बनाई। वाड्रा की कंपनी ने खुद यह जानकारी वाणिज्यिक मामलों के मंत्रालय के कंपनीज ऑफ रजिस्ट्रार को दी थी। 2008 में वाड्रा ने गुडग़ांव में 1.3 मिलियन डॉलर में साढ़े तीन एकड़ जमीन खरीदी। यह जानकारी बेचान दस्तावेजों के जरिए दी गई है। दो महीने बाद वाड्रा ने हरियाणा की कांग्रेस सरकार से कृषि भूमि को कमर्शियल लैंड में बदलने की इजाजत मांगी,18 दिन में ही इजाजत मिल गई। इससे जमीन की कीमत काफी बढ़ गई। यह जानकारी लाइसेंस के आवेदन और हरियाणा सरकार की मंजूरी के दस्तावेजों से दी गई है। इसके 4 साल बाद रियल एस्टेट कंपनी डीएलएफ ने वाड्रा की कंपनी में खूब पैसा लगाया। कंपनी की बैलेंसशीट में इसे एडवांस बताया गया है। 2012 में डीएलएफ ने बताया कि उसने गुडग़ांव में 9.7 मिलियन डॉलर में वाड्रा की कंपनी से प्रोपर्टी खरीदी। 9.7 मिलियन डॉलर में से ज्यादातर रकम पूर्ववर्र्ती सालों में बतौर एडवांस दे दी गई थी। यानि 2008 में जो जमीन वाड्रा ने खरीदी थी,डीएलएफ ने उसे वाड्रा की कंपनी से सात गुना दाम चुकाकर खरीदा। उस वक्त हरियाणा के आईएएस अशोक खेमका ने इस सौदे पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि वाड्रा ने अपनी जेब से पेमेंट नहीं किया था इसलिए लैंड डील निरस्त की जाती है।
  नई दिल्ली
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-19 12:50:22
नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के पीएम उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने धर्म की राजनीति को सिरे खारिज किया है। हाल ही में एक टीवी चैनल को में दिए इंटरव्यू में मोदी ने कहा कि चुनावों में उन्हें हार मंजूर है लेकिन वोट बैंक की राजनीति नहीं करेंगें। नरेन्द्र मोदी ने कहा कि वो सांप्रदायिकता की राजनीति करने के लिए नहीं आए हैं। उन्होंने कहा कि "मुझे चुनाव हार जाना या पूरी तरह खत्म होना मंजूर है, पर ये बांटने की राजनीति मैं नहीं करूंगा"। मोदी ने कहा कि "मैं सवा करोड़ देशवाशियों के लिए काम करूंगा, न कि हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई के लिए"। उन्होंने कहा कि पीएम तथा सीएम की एक टीम बने जो पूरे देश के लिए मिलकर काम करें और वह टीम इंडिया कहलाए। भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने कहा कि किसी भी धर्मगुरू से मिल चाहे वो मुस्लिम, सिख या ईसाई। यह लोकतंत्र का भाग है, लेकिन किसी धर्मगुरू से मिलकर धर्म के आधार पर वोट मांगना संविधान के खिलाफ है। हालांकी राजनाथ सिंह भी धर्मगुरूओं से मिले लेकिन उन्होंने वोट नहीं मांगे। मोदी ने यह साफ तौर पर कहा कि वोट के लिए उनकी अपील देश की समस्त जनता है, लेकिन धर्म के आधार पर वोट की अपील किसी से नहीं करेंगें। मोदी ने बीजेपी के कामकाज में संघ के दखल से भी इनकार किया है। उनका कहना है कि संघ की ओर से चुनाव से जुड़े कोई भी निर्देश नहीं आते।
 वाराणसी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-19 12:52:26
वाराणसी। आम आदमी पार्टी (आप) प्रमुख और दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके माता-पिता ने शुक्रवार को संकट मोचन मंदिर खाली करके दूसरी जगह रहने चले गए हैं। ये लोग मंदिर के गेस्ट हाउस में 15 अप्रेल से रह रहे थे। सूत्रों के अनुसार, मंदिर आने वाले भक्तों ने मंदिर मे "राजनैतिक गतिविधियों" के बढ़ने के बाद उनके रहने पर आपत्ति जताई थी। केजरीवाल और उनके माता-पिता गीता देवी और गोबिंद केजरीवाल संकट मोचन मंदिर के महंत बिशंबर मिश्रा के अतिथि के तौर पर मंदिर मे रूके हुए थे। उल्लेखनीय है कि जब से आप नेता केजरीवाल ने वाराणसी से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी के खिलाफ लोकसभा का चुनाव लड़ने का फैसला किया है, तबसे उन्हें विरोध का सामना करना पड़ रहा है। 12 घंटों के अंदर उनकी बैठकों में बाधा डाली गई है। एक अंग्रेजी अखबार मेंछपी खबर के अनुसार, मंदिर छोड़कर दूसरी जगह जाकर रहना आप के लिए घातक साबित हो सकता है क्योकि शहर में पार्टी को अभी तक अच्छा समर्थन नहीं मिला है। सूत्रों ने बताया कि केजरीवाल और उनके माता-पिता बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के पास स्थित दुर्गा कुंड इलाके में रहने के लिए चले गए हैं। पार्टी ने एक बयान जारी कर कहा कि केजरीवाल और उनके माता-पिता से मंदिर खाली करवाना भाजपा की निष्फलता दर्शाता है। जो पार्टी अपने पक्ष में देशभर में लहर की बात कर ही है, वह अब अपने प्रतिद्वंद्वियों से निपटने के लिए ऎसे हथकंडे अपना रही है। लेकिन, भाजपा को यह नहीं भूलना चाहिए की आप इस तरह के हथकंडों से डरने वाली नहीं है। गौरतलब है कि भाजपा कार्यकर्ताओ ने 12 घंटों में वाराणसी में केजरीवाल की सभाओं में दो बार व्वधान डालने की कोशिश की है। आप का आरोप है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनके नेताओं को धक्का देने के साथ साथ बदसलूकी भी की है। - See more at: http://www.patrika.com/news/kejriwal-and-his-parents-forced-to-leave-sankat-mochan-temple-complex/1001904#sthash.FsuUOvqO.dpuf
 दो कश्मीर पण्डित जम्मू कश्मीर
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 10:56:52
नई दिल्ली। दो कश्मीर पण्डित जम्मू कश्मीर के अलगाववादी नेता और ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस के प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी से मिले थे। समाचार पत्र द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक 22 मार्च को दो कश्मीरी पण्डित गिलानी से मिले थे। इनके नाम हैं संजय सर्राफ और एमएल मट्टू। समाचार पत्र ने जम्मू कश्मीर के खुफिया सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है। संजय सर्राफ रामविलास पासवान की पार्टी (लोकजनशक्ति पार्टी)से जुड़े हुए हैं। सर्राफ लोजपा की यूथ विंग के अध्यक्ष हैं। एमएल मट्टू पूर्व विधायक हैं। मट्टू कश्मीर पण्डितों की राजनीति में सक्रिय हैं। गिलानी ने शुक्रवार को दावा किया था उनसे मोदी के दो दूत मिले थे। दोनों कश्मीरी पण्डित थे। गिलानी ने दोनों की पहचान बताने से इनकार कर दिया था। गिलानी ने कहा था कि मुलाकात गोपनीयता का आश्वासन दिए जाने के बाद 22 मार्च को हुई थी। भाजपा ने गिलानी के दावे को खारिज किया था। समाचार पत्र के मुताबिक सर्राफ ने कबूल किया है कि चार हफ्ते पहले वह श्रीनगर में गिलानी से मिले थे। हालांकि सर्राफ ने कहा,मुलाकात गिलानी के तेजी से गिरते स्वास्थ्य को लेकर जताई गई चिंता के चलते हुई थी। सर्राफ ने कहा,हालांकि हमारी पार्टी(लोकजनशक्ति पार्टी)एनडीए का हिस्सा है। बकौल सर्राफ मैं भाजपा की ओर से कोई संदेश लेकर नहीं गया था और न ही कभी ?सा करूंगा। मैं गिलानी से एक बार नहीं बल्कि दर्जन बार मिल चुका हूं। पासवान को भी गिलानी से बात करने के लिए ले गया था। मेरा इरादा था कि गिलानी उन नामों का खुलासा करे जो उनसे मिले थे। मैंने गिलानी से मेरा नाम क्लीयर करने को कहा था। सर्राफ लंबे वक्त तक गिलानी के सहयोगी रहे हैं। सर्राफ सार्वजनिक सभाओं में गिलानी के साथ मंच साझा कर चुके हैं। सर्राफ ने गिलानी के कट्टपंथ सहयोगी मुश्ताक अहमद बट्ट की रिहाई के लिए पिछले साल प्रचार भी किया था। मुश्ताक अहमद कश्मीर में हिंसक भीड़ को एकत्रित करने के आरोप में जेल में हैं। 2010 में कश्मीर में हिंसा हुई थी। गिलानी से जुड़े राजनीतिक सूत्रों के मुताबिक सर्राफ ने गिलानी से समर्थन मांगा था। सर्राफ अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान श्रीनगर से चुनाव लडऩा चाहते हैं,इसलिए उन्होंने गिलानी से समर्थन मांगा था। हालांकि सर्राफ ने इससे इनकार किया है।
  बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:09:57
नई दिल्ली। बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी का गांधी परिवार को निशाना बनाना जारी है। छत्तीसगढ़ की एक चुनावी सभा में उन्होंने सोनिया गांधी की अमेठी के लोगों से राहुल गांधी के लिए की गई अपील पर चुटकी ली, साथ ही रॉबर्ट वाड्रा पर भी भरपूर निशाना साधा। मोदी ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने पिछले दस साल में कुछ नहीं किया लेकिन अब 10 करोड़ लोगों को वो रोजगार देने की बात कह रही है। राहुल जी देश अब बदल चुका है, अब वो झांसे में आने वाला नहीं है। मोदी ने कहा कि लोगों को तो रोजगार नहीं मिला लेकिन जीजाजी (रॉबर्ट वाड्रा) को मिल गया। एक लाख रुपये से उन्होंने 300 करोड़ बना लिए। ये कांग्रेस सरकार का ही जादू है, क्या आपको ऐसी जादूगरी वाली सरकार चाहिए? मोदी पर हमले के लिए जिस जुमले का सहारा कांग्रेस के नेता लेते थे, उसी के जरिए मोदी ने गांधी परिवार पर हमला किया। मोदी ने कहा कि मां-बेटे(सोनिया-राहुल) अक्सर कहते थे कि कोई घोड़े पर आएगा, उसके पास जादू की छड़ी है, वो सारी समस्याएं दूर कर देगा। मैं सोचता था कि ये लोग किसके बारे में बोल रहे हैं क्योंकि नाम नहीं लेते थे। अब जाकर अमेरिका के अखबार ने बताया कि वो कौन है। वो 10वीं पास वो आदमी है जिसने लाखों को करोड़ों में बदल दिया। छत्तीसगढ़ के विश्रामपुर में नरेंद्र मोदी ने सोनिया और राहुल पर सियासी हमला किया और देश की बदहाली का जिम्मेदार कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार को ठहराया। मोदी ने कहा कि कल सोनिया गांधी ने अमेठी के लोगों से एक अपील की थी। मोदी ने कहा कि सोनिया ने लोगों से कहा था कि वो उनके बेटे को संभालें। सोनिया के इस कथित बयान का जिक्र कर मोदी ने सवाल किया कि जो शख्स अमेठी नहीं संभाल सकता, वो देश को क्या संभालेगा। नरेंद्र मोदी के निशाने पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी रहे। नरेंद्र मोदी ने मनमोहन के पूर्व मीडिया सलाहकार संजय बारू की किताब के खुलासे पर पंकज पचौरी की सफाई का जिक्र किया। मोदी ने कहा कि पीएमओ की तरफ से दावा किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री अपने शासन के दौरान दस साल में 1100 बार बोले। मोदी ने पीएमओ की इस सफाई पर भी चुटकी ली। उन्होंने कहा कि हैरानी है कि पीएम के बोलने की बात भी जनता को बताई जा रही है।
  बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:10:37
नई दिल्ली। बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी का गांधी परिवार को निशाना बनाना जारी है। छत्तीसगढ़ की एक चुनावी सभा में उन्होंने सोनिया गांधी की अमेठी के लोगों से राहुल गांधी के लिए की गई अपील पर चुटकी ली, साथ ही रॉबर्ट वाड्रा पर भी भरपूर निशाना साधा। मोदी ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने पिछले दस साल में कुछ नहीं किया लेकिन अब 10 करोड़ लोगों को वो रोजगार देने की बात कह रही है। राहुल जी देश अब बदल चुका है, अब वो झांसे में आने वाला नहीं है। मोदी ने कहा कि लोगों को तो रोजगार नहीं मिला लेकिन जीजाजी (रॉबर्ट वाड्रा) को मिल गया। एक लाख रुपये से उन्होंने 300 करोड़ बना लिए। ये कांग्रेस सरकार का ही जादू है, क्या आपको ऐसी जादूगरी वाली सरकार चाहिए? मोदी पर हमले के लिए जिस जुमले का सहारा कांग्रेस के नेता लेते थे, उसी के जरिए मोदी ने गांधी परिवार पर हमला किया। मोदी ने कहा कि मां-बेटे(सोनिया-राहुल) अक्सर कहते थे कि कोई घोड़े पर आएगा, उसके पास जादू की छड़ी है, वो सारी समस्याएं दूर कर देगा। मैं सोचता था कि ये लोग किसके बारे में बोल रहे हैं क्योंकि नाम नहीं लेते थे। अब जाकर अमेरिका के अखबार ने बताया कि वो कौन है। वो 10वीं पास वो आदमी है जिसने लाखों को करोड़ों में बदल दिया। छत्तीसगढ़ के विश्रामपुर में नरेंद्र मोदी ने सोनिया और राहुल पर सियासी हमला किया और देश की बदहाली का जिम्मेदार कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार को ठहराया। मोदी ने कहा कि कल सोनिया गांधी ने अमेठी के लोगों से एक अपील की थी। मोदी ने कहा कि सोनिया ने लोगों से कहा था कि वो उनके बेटे को संभालें। सोनिया के इस कथित बयान का जिक्र कर मोदी ने सवाल किया कि जो शख्स अमेठी नहीं संभाल सकता, वो देश को क्या संभालेगा। नरेंद्र मोदी के निशाने पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी रहे। नरेंद्र मोदी ने मनमोहन के पूर्व मीडिया सलाहकार संजय बारू की किताब के खुलासे पर पंकज पचौरी की सफाई का जिक्र किया। मोदी ने कहा कि पीएमओ की तरफ से दावा किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री अपने शासन के दौरान दस साल में 1100 बार बोले। मोदी ने पीएमओ की इस सफाई पर भी चुटकी ली। उन्होंने कहा कि हैरानी है कि पीएम के बोलने की बात भी जनता को बताई जा रही है।
  बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:10:37
नई दिल्ली। बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी का गांधी परिवार को निशाना बनाना जारी है। छत्तीसगढ़ की एक चुनावी सभा में उन्होंने सोनिया गांधी की अमेठी के लोगों से राहुल गांधी के लिए की गई अपील पर चुटकी ली, साथ ही रॉबर्ट वाड्रा पर भी भरपूर निशाना साधा। मोदी ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने पिछले दस साल में कुछ नहीं किया लेकिन अब 10 करोड़ लोगों को वो रोजगार देने की बात कह रही है। राहुल जी देश अब बदल चुका है, अब वो झांसे में आने वाला नहीं है। मोदी ने कहा कि लोगों को तो रोजगार नहीं मिला लेकिन जीजाजी (रॉबर्ट वाड्रा) को मिल गया। एक लाख रुपये से उन्होंने 300 करोड़ बना लिए। ये कांग्रेस सरकार का ही जादू है, क्या आपको ऐसी जादूगरी वाली सरकार चाहिए? मोदी पर हमले के लिए जिस जुमले का सहारा कांग्रेस के नेता लेते थे, उसी के जरिए मोदी ने गांधी परिवार पर हमला किया। मोदी ने कहा कि मां-बेटे(सोनिया-राहुल) अक्सर कहते थे कि कोई घोड़े पर आएगा, उसके पास जादू की छड़ी है, वो सारी समस्याएं दूर कर देगा। मैं सोचता था कि ये लोग किसके बारे में बोल रहे हैं क्योंकि नाम नहीं लेते थे। अब जाकर अमेरिका के अखबार ने बताया कि वो कौन है। वो 10वीं पास वो आदमी है जिसने लाखों को करोड़ों में बदल दिया। छत्तीसगढ़ के विश्रामपुर में नरेंद्र मोदी ने सोनिया और राहुल पर सियासी हमला किया और देश की बदहाली का जिम्मेदार कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार को ठहराया। मोदी ने कहा कि कल सोनिया गांधी ने अमेठी के लोगों से एक अपील की थी। मोदी ने कहा कि सोनिया ने लोगों से कहा था कि वो उनके बेटे को संभालें। सोनिया के इस कथित बयान का जिक्र कर मोदी ने सवाल किया कि जो शख्स अमेठी नहीं संभाल सकता, वो देश को क्या संभालेगा। नरेंद्र मोदी के निशाने पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी रहे। नरेंद्र मोदी ने मनमोहन के पूर्व मीडिया सलाहकार संजय बारू की किताब के खुलासे पर पंकज पचौरी की सफाई का जिक्र किया। मोदी ने कहा कि पीएमओ की तरफ से दावा किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री अपने शासन के दौरान दस साल में 1100 बार बोले। मोदी ने पीएमओ की इस सफाई पर भी चुटकी ली। उन्होंने कहा कि हैरानी है कि पीएम के बोलने की बात भी जनता को बताई जा रही है।
  चुनावी मौसम में नेताओं की बेतुकी बयानबाजी जारी है
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:12:47
बोकारो। चुनावी मौसम में नेताओं की बेतुकी बयानबाजी जारी है। इसबार बारी बिहार के बीजेपी नेता गिरिराज सिंह की थी। गिरिराज ने बोकारो में एक चुनावी सभा में कहा कि मोदी को रोकने वाले लोग पाकिस्तान परस्त हैं। गिरिराज ने कहा कि पाकिस्तान परस्त लोग हैं जो मोदी को रोकना चाहते हैं। वो वही लोग हैं जिनका मक्का मदीना पाकिस्तान है, राजनैतिक मक्का मदीना पाकिस्तान है। ये लोग नहीं चाहते कि पाकिस्तान भारत के सामने घुटने टेके। इससे पहले दुमका में भी एक रैली में गिरिराज सिंह ने कहा कि जो लोग मोदी का विरोध कर रहे हैं, सरकार बनने पर हम उनको पाकिस्तान भेज देंगे। बाद में इस पर सफाई देते हुए गिरिराज ने कहा कि मैंने ये कहा था कि अगर पाकिस्तान मोदी को रोकना चाहता है, कुछ खास तरह के लोग रोकना चाहते हैं तो वो रुकने वाले नहीं हैं। नरेंद्र मोदी के बयान से बीजेपी ने किनारा कर लिया है। पार्टी प्रवक्ता निर्मला सीतारमण ने कहा कि पार्टी ऐसे बयानों का समर्थन नहीं करती और गिरिराज के ये विचार उनके निजी हैं। वहीं गिरिराज ने कहा कि वे अपने बयान पर कायम है। पाक सहित कई लोग मोदी को रोकना चाहते हैं और देश में भी उनके समर्थक है। ये देशद्रोही ताकतें हैं।
 । कप्तान दिनेश कार्तिक
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:15:54
दुबई। कप्तान दिनेश कार्तिक (56) और जेपी ड्यूमिनी (नाबाद 52) की संघर्षभरी पारियों की बदौलत दिल्ली डेयरडेविल्स ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के सातवें संस्करण के तहत शनिवार को दुबई अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में हुए मैच में कोलकाता नाइट राइडर्स को चार विकेट से हरा दिया। प्लेयर ऑफ द मैच ड्यूमिनी ने आखिरी ओवर की तीसरी गेंद पर छक्का लगाकर अपना अर्धशतक पूरा करने के साथ-साथ डेयरडेविल्स को जीत दिलाई। नाइट राइडर्स से मिले 167 रन के लक्ष्य को डेयरडेविल्स ने तीन गेंद शेष रहते छह विकेट के नुकसान पर हासिल कर लिया। ड्यूमिनी ने पिछले मैच में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया था, हालांकि दिल्ली वह मैच जीत नहीं पाई थी। डेयरडेविल्स की शुरुआत शनिवार को भी खराब रही, जब उसके सलामी बल्लेबाज मुरली विजय पहले ही ओवर में खाता खोले बगैर रन आउट हो गए। कार्तिक ने हालांकि इसके बाद एक छोर पर संभलकर बल्लेबाजी करनी शुरू की और दूसरे विकेट के लिए मयंक अग्रवाल (26) के साथ 29 रन, तीसरे विकेट के लिए रॉस टेलर (6) के साथ 21 रन और चौथे विकेट के लिए जेपी ड्यूमिनी के साथ अहम 58 रनों की साझेदारी निभाई। कार्तिक 15वें ओवर की तीसरी गेंद पर 118 के कुल योग पर सुनील नरेन की गेंद पर पगबाधा करार दिए गए, हालांकि तब तक डेयरडेविल्स संकट की स्थिति से निकल गया था। कार्तिक ने 40 गेंदों का सामना कर पांच चौके और दो छक्के लगाए। कार्तिक के बाद डेयरडेविल्स के दो विकेट और गिरे। मनोज तिवारी (8) और जिमी नीशम (8) खास योगदान तो नहीं दे सके पर ड्यूमिनी ने तब तक बल्लेबाजी की कमान अपने हाथ में ले ली। आखिरी तीन ओवरों में डेयरडेविल्स को जीत के लिए 32 रनों की दरकार थी, लेकिन ड्यूमिनी ने 18वें ओवर में 21 रन जोड़कर लक्ष्य और गेंद के बीच के अंतर को काफी कम कर दिया। डेयरडेविल्स को हालांकि जीत आखिरी ओवर में मिली। ड्यूमिनी ने 35 गेंदों का सामना कर तीन चौके और इतने ही छक्के जड़े। नाइट राइडर्स की तरफ से सुनील नरेन सबसे सफल गेंदबाज रहे। नरेन ने 4.5 के औसत से 18 रन दिए और एक विकेट हासिल किया। इससे पहले, टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी नाइट राइडर्स ने रोबिन उथप्पा (55) और मनीष पांडेय (48) की शानदार पारियों की बदौलत निर्धारित 20 ओवरों में पांच विकेट पर 166 रन बनाए। नाइट राइडर्स की शुरुआत बेहद खराब रही थी। उसके दोनों सलामी बल्लेबाज जैक्स कैलिस और गौतम गम्भीर खाता खोले बिना ही पवेलियन लौट गए। गम्भीर पिछले मैच में भी शून्य के निजी योग पर आउट हुए थे। इसके बाद हालांकि मनीष और उथप्पा ने संभलकर खेलना शुरू किया और तीसरे विकेट के लिए 64 रनों की संयमभरी साझेदारी निभाई। मनीष को 75 के कुल योग पर शाबाज नदीम ने क्लीन बोल्ड कर दिया। मनीष ने 42 गेंदों की अपनी पारी में पांच चौके और एक छक्का लगाया। मनीष के जाने के बाद बल्लेबाजी करने आए शाकिब अल हसन (नाबाद 30) के साथ उथप्पा ने 9.5 के औसत से 57 रनों की तेज साझेदारी की। आठवें ओवर की चौथी गेंद पर सात के निजी योग पर मिले जीवनदान का लाभ उठाते हुए उथप्पा ने अपना अर्धशतक पूरा किया। जयदेव उनादकत की गेंद पर रॉस टेलर ने उथप्पा का कैच छोड़ा था। हालांकि ऐसा लगा मानो अपनी भूल सुधारते हुए उनादकत ने उथप्पा को टेलर के हाथों ही कैच आउट कराया। उथप्पा ने 41 गेंदों की अपनी पारी में छह चौके और एक छक्का लगाया। शाकिब के साथ तेज रन जुटाने के प्रयास में यूसुफ पठान (11) नैथन कोल्टर नील की गेंद को पूरी तरह चूक गए और गेंद ने उनकी गिल्लियां बिखेर दीं। इस बीच शाकिब ने जरूर कुछ बेहतरीन शॉट लगाए। शाकिब ने 22 गेंदों में दो चौके और एक छक्का लगाया। डेयरडेविल्स के लिए कोल्टर नील सबसे सफल गेंदबाज रहे। कोल्टर नील ने 4.69 के औसत से 18 रन दिए और दो विकेट चटकाए।
 जबलपुर के एक थाना प्रभारी पर महिला के साथ अश्‍लील
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:23:20
जबलपुर के एक थाना प्रभारी पर महिला के साथ अश्‍लील हरकतें करने का आरोप लगा है। खमरिया इलाके में रहने वाली महिला का कहना है कि पति से विवाद होने पर उन्‍होंने इसकी शिकायत थाने में की थी। जांच के बहाने पहुंचे टीआई आरके तिवारी ने पहले किचन ओर बेडरूम दिखाने को कहा। बेडरूम में पहुंचते ही थाना प्रभारी ने बत्‍ती बंद कर दी और अश्‍लील हरकतें करने लगा। महिला के चिल्‍लाने पर टीआई भाग खड़ा हुआ। सीएसपी ईशा पंत ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं।
 मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:27:16
मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर की चुनावी सभा में कहा कि कांग्रेस ने पिछले लोकसभा चुनाव से पहले 100 दिन में महंगाई कम करने का वादा किया था, लेकिन यह झूठा साबित हुआ। कांग्रेस की सरकार ने जनता के किए गए वादे को तोड़ा है इसलिए आप उनसे नाता तोड़ दो।
 मथुरा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:30:56
मथुरा लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी हेमा मालिनी शनिवार को हादसे का शिकार होते होते बच गईं. वह जनसभा को संबोधित करने खड़ी हुईं, तभी मंच का एक हिस्सा उनके प्रशंसकों के दबाव से गिर गया. गनीमत रही कि हेमा मालिनी को इस हादसे में कोई चोट नहीं आई और वे अपनी बात पूरी करने के बाद ही मंच से उतरीं. हेमा यहां बीती शाम रिफाइनरी नगर में एक सभा को संबोधित करने पहुंची थीं. उनके आने में काफी देर हो जाने के कारण भीड़ बेकाबू हो गई. मंच पर पहुंचकर हेमा ने जैसे ही बोलना शुरू किया, उनके निकट पहुंचने की होड़ में मंच पर दबाव बढ़ गया और वह टूट गया. फिलहाल हेमामालिनी पूरी तरह दुरुस्त हैं और पूरे जोशोखरोश से अपनी दोनों बेटियों ईशा-आहना और दोनों दामादों के साथ ब्रज की गलियों में प्रचार कर रही हैं. और भी... http://aajtak.intoday.in/story/mathura-bjp-candidate-hema-malinis-stage-falls-1-761721.html
 आज रैलियों का रविवार है
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:35:43
आज रैलियों का रविवार है. बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी से लेकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल अलग-अलग जगहों पर लोगों को संबोधित करेंगे. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी आज महाराष्ट्र में तीन रैलियां करने वाली थीं लेकिन ऐन मौके पर उनकी तबीयत खराब हो गई. अब वह इन रैलियों को संबोधित नहीं करेंगी. उनकी जगह राहुल गांधी मुंबई रैली को संबोधित करेंगे. एनसीपी अध्यक्ष भी इस रैली में मौजूद रहेंगे. जबकि नंदुरबार और धुले की रैली को सोनिया गांधी की जगह क्रमशः गुलाम नबी आजाद और राज बब्बर संबोधित करेंगे. ये तीनों रैलियां अपने तय समय पर ही आयोजित होंगी. नरेंद्र मोदी आज चार जगहों पर रैली करेंगे. छत्तीसगढ़ के सरगुजा, बिलासपुर और दुर्ग में चुनावी सभा के बाद वह महाराष्ट्र के जलगांव में भी रैली करेंगे. पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के अपनी मां के लिए रायबरेली से चुनाव प्रचार करने की खबर थी. लेकिन सोनिया की जगह मुंबई रैली को संबोधित करने की जिम्मेदारी उनके कंधों पर आ गई, लिहाजा रायबरेली रैली को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है. यहां अब रैली 23 या 27 अप्रैल को हो सकती है. रायबरेली से थोड़ी ही दूर पर राहुल की संसदीय सीट अमेठी पर AAP संयोजक अरविंद केजरीवाल रोड शो कर रहे हैं. वह पार्टी के प्रत्याशी कुमार विश्वास के लिए वोट मांग रहे हैं.
 महिदपुर में राज
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:51:18
महिदपुर में राज बब्बर की सभा के दौरान मंच पर जगह न मिलने पर नाराज कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। राज बब्बर यहां पर उज्जैन-आलोट लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू के लिए प्रचार करने पहुंचे थे। सभा के दौरान कार्यकर्ताओं की मंच पर चढ़ने की होड़ मच गई, जिसके चलते नाराज कार्यकर्ताओं ने हंगामा कर दिया, वहीं पुलिस के बीच-बचाव करने के बाद सभा शुरू हो पाई। राज बब्बर ने मोदी पर निशाना साधते हुए उन्हें हिटलर करार दे दिया। आम आदमी पार्टी के नेता प्रशांत भूषण का इंदौर के बाद अब खंडवा में भी विरोध हुआ। रोड़ शो के दौरान हिंदूवादी संगठनों ने उन्हें काले झंडे दिखाए और प्रशांत भूषण वापस जाओ के नारे लगाए। प्रशांत भूषण आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक और खंडवा के प्रत्याशी आलोक अग्रवाल के समर्थन में रोड शो कर रहे थे। रोड शो के दौरान उनके साथ नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेघा पाटकर भी थीं। इस दौरान मौजूद पुलिस बल ने हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं को वहां से खदेड़ा। उधर बीजेपी ने इस विरोध प्रदर्शन से किसी तरह का कोई संबंध ना होने की दलील दी है।
 टीकमगढ़
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-20 14:53:56
टीकमगढ़ में एक रिटायर्ड शिक्षक से 4 लाख रुपए की लूट करने वाले बच्चों को पुलिस ने पकड़ है। घटना 27 मार्च की है, जब रिटायर्ड शिक्षक सुरेश तिवारी स्टेट बैंक से 4 लाख रुपए निकालकर घर जा रहे थे। तभी रास्ते में उनके शर्ट पर गंदगी फेंकी गई। सुरेश गंदगी निकालते रहे और नोटों से भरा बैग पार हो गया। इसके बाद जब फरियादी ने पुलिस में शिकायत की, तो सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए। जिसमें 4 नाबालिग, बुजुर्ग का पीछा करते हुए दिखे। फुटेज के आधार पर पुलिस ने पचोर गांव में दबिश दी। और 2 पुरुष, 3 महिलाओं सहित चारों बच्चों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी पुरुष और महिलाएं बच्चों से चोरी और लूट का काम करवाते थे
  दुर्ग लोकसभा क्षेत्र के कांग्रेस प्रत्याशी ताम्रध्वज साहू
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-21 16:51:09
दुर्ग 20 अप्रैल । दुर्ग लोकसभा क्षेत्र के कांग्रेस प्रत्याशी ताम्रध्वज साहू के पक्ष में चुनाव प्रचार करने के लिए मशहुर फिल्म अभिनेत्री एवं कांग्रेस नेत्री नगमा 21 अप्रैल को दोपहर 3 बजे वैशालीनगर विधानसभा क्षेत्र अन्तर्गत निजामी चौक फरीदनगर भिलाई में एक विशाल जनसभा को संबोधित करेंगी । उनके साथ पूर्व सांसद और आदिवासी नेता पी. आर. खुंटे भी सभा को संबोधित करेंगे । इसी तरह 22 अप्रैल को कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी बेमेतरा के एक ग्राउंड में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे । उनके साथ कांग्रेस के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा, छत्तीसगढ़ प्रभारी वी. के. हरिप्रसाद, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष टी. एस. सिंहदेव, दुर्ग लोकसभा प्रभारी सुभाष शर्मा व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री अरूण वोरा (विधायक) भी सभा को संभोधित करेंगे । यह जानकारी कांग्रेस के संभागीय प्रवक्ता व पार्षद देवकुमार जंघेल ने एक प्रेस विज्ञप्ति में दी । देवकुमार जंघेल
 भावनगर पुलिस ने धर्म विशेष
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-22 14:50:10
भावनगर/नई दिल्ली। भावनगर पुलिस ने धर्म विशेष के खिलाफ भड़काऊ बयान देने वाले विश्व हिंदू परिषद के नेता प्रवीण तोगडिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। समाचार चैनल के मुताबिक तोगडिया के खिलाफ जिन धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है वे गैर जमानती है। ?से में तोगडिया को गिरफ्तार भी किया जा सकता है। चुनाव आयोग ने तोगडिया के भाषण की सीडी मगंवाई थी और भावनगर पुलिस को एफआईआर दर्ज करने को कहा था। भावनगर के जिला कलक्टर और रिटर्निग ऑफिसर ने बताया कि आयोग ने तोगडिया के भाषण की सीडी मंगवाई है। सीडी देखने के बाद आयोग आगे की कार्रवाई करेगा। भावनगर के एसपी मनिंदर सिंह पवार ने बताया कि तोगडिया के कथित भड़काऊ भाषण की जांच शुरू कर दी गई है। न्यूज रिपोर्ट देखने के बाद चुनाव आयोग ने कहा था कि अगर आरोपों में सच्चाई है तो एक्शन टेकन रिपोर्ट सौंपे, इसलिए हमने जांच का आदेश दिया। भावनगर सिटी पुलिस की बी डिवीजन को सीडी प्राप्त करने के लिए कहा है। हमें अभी तक सीडी नहीं मिली है। सीडी के अलावा हम अन्य सबूत भी एकत्रित कर रहे हैं। हम सोसायटी के रहवासियों के बयान ले रहे हैं। तोगडिया ने शनिवार को भावनगर में एक समुदाय विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक बयान दिया था। उधर भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने तोगडिया के धर्म विशेष को लेकर दिए गए बयान को नामंजूर किया है। मोदी ने ट्विट किया है: खुद को भाजपा का शुभचिंतक बताने का दावा करने वाले संकीर्ण बयान देकर प्रचार को विकास और सुशासन के मुद्दे से भटका रहे है। मैं इस तरह के गैर जिम्मेदाराना बयान को नामंजूर करता हूैं। मैं ?से लोगों से इस तरह के बयान देने से परहेज करने की अपील करता हूं। पूरा देश विकास और सुशासन के लिए भाजपा की ओर देख रहा है। मोदी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह के उस बयान से भी असहमति जताई है जिसमें कहा गया था कि मोदी विरोधियों के लिए भारत में कोई जगह नहीं है। उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए। एक समाचार चैनल से बातचीत में मोदी ने कहा,गिरिराज सिंह के बयान से कोई सहमत नहीं हो सकता।
  जिला निर्वाचन कार्यालय, रायपुर मीडिया सेन्टर समाचार
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-22 14:51:40
जिला निर्वाचन कार्यालय, रायपुर मीडिया सेन्टर समाचार मतदान केन्द्र के दो सौ मीटर दूर राजनैतिक दल एवं उम्मीद्वार मतदान पर्ची बांट सकेंगे रायपुर 21 अप्रैल 2014/लोकसभा निर्वाचन के दौरान मतदान के दिन राजनैतिक दल और उम्मीदवार अशासकीय मतदान पर्ची वितरित कर सकते हैं। लेकिन मतदान पर्ची सादे कागज पर होना चाहिए। मतदान पर्ची के साथ किसी भी प्रकार की चुनाव प्रचार सामग्री संलग्न नहीं होनी चाहिए। मतदान पर्ची वितरण के लिए मतदान केन्द्र के 200 मीटर दूर स्टाल लगाना होगा। यदि किसी भवन में एक से अधिक मतदान केन्द्र हैं तो वहां राजनैतिक दल या उम्मीदवार को केवल एक टेबल लगाने की अनुमति होगी। साथ ही धूप आदि से बचाव के लिए छाया की व्यवस्था की जा सकती है। मतदान केन्द्र के 100 मीटर के भीतर किसी प्रकार का चुनाव प्रचार नहीं किया जा सकता। अपर कलेक्टर श्री एम.डी.कांवरे ने बताया कि राजनैतिक दल या उम्मीद्वार द्वारा जारी की जाने वाली अशासकीय मतदान पर्ची सादे कागज में होनी चाहिए। मतदाता पर्ची में मतदाता का नाम तथा मतदाता सूची की क्रम संख्या, निर्वाचक नामावली की भाग संख्या, मतदान केन्द्र का नाम, क्रमांक का उल्लेख किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि अशासकीय मतदाता पर्ची में कहीं भी उम्मीद्वार या राजनैतिक दल का नाम या चुनाव चिन्ह का उपयोग नहीं होना चाहिए। साथ ही उम्मीद्वार से संबंधित कोई नारा या उम्मीद्वार का उद्बोधन नहीं होना चाहिए। श्री कांवरे ने बताया कि अशासकीय मतदाता पर्ची मतदान केन्द्र के सौ मीटर के भीतर वितरित नहीं की जा सकेगी। अशासकीय मतदान पर्ची वितरण के लिए मतदान केन्द्र के दो सौ मीटर दूर निर्धारित स्थान पर उम्मीद्वार या राजनैतिक दल स्टाल लगा सकते हैं। लेकिन किसी प्रकार का चुनाव चिन्ह या उम्मीद्वार के फोटो या नाम का उल्लेख नहीं किया जा सकेगा। इसके अलावा यहां पर किसी प्रकार की मत याचना नहीं की जा सकती। यदि कोई भी राजनैतिक दल या उम्मीद्वार इन निर्देशों का उल्लंघन करते हैं तो उनके विरूद्ध लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जाएगी। मतदान पर्ची सम्हाल कर रखनी होगी बूथ लेबल अधिकारियों द्वारा मतदाता पर्ची का वितरण घर-घर किया जा रहा है। मतदाताओं को मतदाता पर्ची सम्हाल कर रखनी होगी। ऐसे मतदाता जिन्होंने मतदान पर्ची नहीं प्राप्त की है। उन्हें मतदान के दिन मतदान केन्द्र के बाहर बनाए गए मतदाता सहायता केन्द्र में बूथ लेबल अधिकारी मतदान पर्ची का वितरण करेंगे। ऐसे मतदाता जिनका मतदाता सूची में नाम तो है लेकिन फोटो नहीं है ऐसे मतदाता अन्य पहचान पत्र साथ लाते हैं तो उन्हें मतदान दल द्वारा अवलोकन के पश्चात मतदान करने दिया जा सकता है। इसके लिए ग्यारह प्रकार के दस्तावेजों में से मतदाता कोई भी एक दस्तावेज अपने पहचान के रूप में प्रस्तुत कर अपनी पहचान सुनिश्चित कर सकता है। निर्वाचन आयोग द्वारा मान्य 11 दस्तावेजों में पासपोर्ट, ड्राईविंग लाइसेंस, राज्य, केन्द्र सरकार, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों,पब्लिक लिमिटेड कम्पनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को जारी किए गए फोटोयुक्त सेवा पहचान पत्र, बैंकों, डाकघरों द्वारा जारी किए गए फोटोयुक्त पासबुक, आयकर पहचान पत्र (पैन कार्ड), आधार कार्ड, राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर), मनरेगा जॉब कार्ड, श्रम मंत्रालय की योजना द्वारा जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, फोटोयुक्त पेंशन दस्तावेज, एवं निर्वाचन तंत्र द्वारा जारी प्रमाणिक फोटो मतदाता पर्ची शामिल है। इसी प्रकार तीन से अधिक मतदान केन्द्र वाले भवनों में मतदाताओं की सुविधा के लिए अल्फाबेट क्रम में मतदाता सूची रखी जाएगी। जिससे मतदाताओं को नाम खोजने में दिक्कत न हो।
 वाराणसी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-23 14:20:09
वाराणसी। वाराणसी से नामांकन पत्र दाखिल करने से पहले अरविंद केजरीवाल ने रोड शो निकाला। रोड शो के दौरान केजरीवाल को नरेन्द्र मोदी के समर्थकों का विरोध झेलना पड़ा। यह मेरी जिंदगी का सबसे कठिन संघर्ष है केजरीवाल ने कहा,यह मेरी जिंदगी का सबसे कठिन संघर्ष है। मेरे पास चुनाव लड़ने के लिए पैसे नहीं है। मेरी जेब में सिर्फ 500 रूपए हैं। मेरे पास एक पुरानी जीप है। मोदी गुरूवार को वाराणसी से नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। मोदी हेलीकॉप्टर से बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी जाएंगे। इसके बाद कस्बे में हेलीकॉप्टर से यात्रा करेंगे। पण्डित मदन मोहन मालवीय ने किसी नेता को बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में आने नहीं दिया था। मोदी को कहां से मिल रहा है विज्ञापन के लिए पैसा आप लोग हर जगह विज्ञापन,आउटडोर पोस्टर और समाचार पत्र देख रहे हैं। विज्ञापनों के लिए उन्हेें पैसे कहां से मिल रहा है? अमेठी में कोई विकास नहीं हुआ है। मैं मंगलवार को अमेठी से लौटा और लोगों से उनकी समस्याओं के बारे में पूछा। काशी के लोगों के साथ वक्त बिताने के बाद मुझे उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी मिली। मैंने महसूस किया कि सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई है। गंगा प्रदूषित हो गई है। गंगा को साफ करने के लिए जो पैसा आया उसका दुरूपयोग हुआ। लोग गांधी परिवार को पिछले 30 सालों से वोट दे रहे हैं। यह काशी के लोगों की लड़ाई है। जो भ्रष्टाचार मुक्त शहर चाहते हैं। मुख्तार अंसारी दे सकते हैं केजरीवाल को समर्थन वाराणसी में मतदान 12 मई को होगा। वाराणसी में 1.5 लाख मुस्लिम वोट हैं। केजरीवाल की नजर इन वोटों पर है। कौमी एकता दल ने कहा है कि अगर मोदी को हराने के लिए केजरीवाल मजबूत उम्मीदवार के रूप में उभरे तो पार्टी उनका समर्थन करेगी। कौमी एकता दल के प्रमुख अफजाल अंसारी ने कहा,केजरीवाल को समर्थन देना है या नहीं इस संबंध में अंतिम फैसला 29 अप्रेल को पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में होगा। बैठक के बाद ही घोषणा करेंगे कि किस पार्टी के उम्मीदवार को समर्थन देना हैं। अफजाल अंसारी बाहुबली मुख्तार अंसारी के भाई हैं। आदमी पार्टी ने कौमी एकता दल का समर्थन लेने से इनकार किया है। अफजाल ने कहा,आप के समर्थन लेने से इनकार के बावजूद अगर केजरीवाल मोदी को हराने के लिए उतरे सभी उम्मीदवारों में से मजूबत प्रतियोगी साबित हुए तो पार्टी उनका समर्थन करेगी। केजरीवाल के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं आप के कार्यकर्ता हमारी पार्टी का मकसद से मोदी को हराना और उनको देश का प्रधानमंत्री बनने से रोकना। लोकसभा चुनाव में सेक्यूलर वोट बंट न जाए इसलिए पार्टी ने अपने उम्मीदवार मुख्तार अंसारी को वापस ले लिया। आम आदमी पार्टी ने पिछले साल दिसंबर में दिल्ली के विधानसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन किया था। इसी से उत्साहित केजरीवाल ने मोदी को चुनौती देने का फैसला किया। केजरीवाल को जिताने के लिए वाराणसी में आम आदमी पार्टी के कार्यकता पूरा जोर लगा रहे हैं। सैंकड़ों कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों से संपर्क कर रहे हैं। 2009 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने वाराणसी से लोकसभा चुनाव जीता था। उन्होंने बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी को 17 हजार वोटों से हराया था। अंसारी ने कौमी एकता दल के टिकट पर चुनाव लड़ने की घोषणा की थी लेकिन बाद में उन्होंने इनकार कर दिया था। मऊ से चार बार से विधायक मुख्तार अंसारी भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या के मामले में आगरा की जेल में बंद है। कांग्रेस ने वाराणसी से अजय राय को,बसपा ने विजय प्रकाश जायसवाल को,तृणमूल कांग्रेस ने विजय तिवारी को,सीपीएम ने हीरा लाल यादव को चुनाव मैदान में उतारा है - See more at: http://www.patrika.com/news/arvind-kejriwal-to-file-nomination-from-varanasi-today/1002772#sthash.hpGUcVZ9.dpuf
 वाराणसी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-23 14:21:18
वाराणसी। वाराणसी से नामांकन पत्र दाखिल करने से पहले अरविंद केजरीवाल ने रोड शो निकाला। रोड शो के दौरान केजरीवाल को नरेन्द्र मोदी के समर्थकों का विरोध झेलना पड़ा। यह मेरी जिंदगी का सबसे कठिन संघर्ष है केजरीवाल ने कहा,यह मेरी जिंदगी का सबसे कठिन संघर्ष है। मेरे पास चुनाव लड़ने के लिए पैसे नहीं है। मेरी जेब में सिर्फ 500 रूपए हैं। मेरे पास एक पुरानी जीप है। मोदी गुरूवार को वाराणसी से नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। मोदी हेलीकॉप्टर से बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी जाएंगे। इसके बाद कस्बे में हेलीकॉप्टर से यात्रा करेंगे। पण्डित मदन मोहन मालवीय ने किसी नेता को बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में आने नहीं दिया था। मोदी को कहां से मिल रहा है विज्ञापन के लिए पैसा आप लोग हर जगह विज्ञापन,आउटडोर पोस्टर और समाचार पत्र देख रहे हैं। विज्ञापनों के लिए उन्हेें पैसे कहां से मिल रहा है? अमेठी में कोई विकास नहीं हुआ है। मैं मंगलवार को अमेठी से लौटा और लोगों से उनकी समस्याओं के बारे में पूछा। काशी के लोगों के साथ वक्त बिताने के बाद मुझे उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी मिली। मैंने महसूस किया कि सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई है। गंगा प्रदूषित हो गई है। गंगा को साफ करने के लिए जो पैसा आया उसका दुरूपयोग हुआ। लोग गांधी परिवार को पिछले 30 सालों से वोट दे रहे हैं। यह काशी के लोगों की लड़ाई है। जो भ्रष्टाचार मुक्त शहर चाहते हैं। मुख्तार अंसारी दे सकते हैं केजरीवाल को समर्थन वाराणसी में मतदान 12 मई को होगा। वाराणसी में 1.5 लाख मुस्लिम वोट हैं। केजरीवाल की नजर इन वोटों पर है। कौमी एकता दल ने कहा है कि अगर मोदी को हराने के लिए केजरीवाल मजबूत उम्मीदवार के रूप में उभरे तो पार्टी उनका समर्थन करेगी। कौमी एकता दल के प्रमुख अफजाल अंसारी ने कहा,केजरीवाल को समर्थन देना है या नहीं इस संबंध में अंतिम फैसला 29 अप्रेल को पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में होगा। बैठक के बाद ही घोषणा करेंगे कि किस पार्टी के उम्मीदवार को समर्थन देना हैं। अफजाल अंसारी बाहुबली मुख्तार अंसारी के भाई हैं। आदमी पार्टी ने कौमी एकता दल का समर्थन लेने से इनकार किया है। अफजाल ने कहा,आप के समर्थन लेने से इनकार के बावजूद अगर केजरीवाल मोदी को हराने के लिए उतरे सभी उम्मीदवारों में से मजूबत प्रतियोगी साबित हुए तो पार्टी उनका समर्थन करेगी। केजरीवाल के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं आप के कार्यकर्ता हमारी पार्टी का मकसद से मोदी को हराना और उनको देश का प्रधानमंत्री बनने से रोकना। लोकसभा चुनाव में सेक्यूलर वोट बंट न जाए इसलिए पार्टी ने अपने उम्मीदवार मुख्तार अंसारी को वापस ले लिया। आम आदमी पार्टी ने पिछले साल दिसंबर में दिल्ली के विधानसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन किया था। इसी से उत्साहित केजरीवाल ने मोदी को चुनौती देने का फैसला किया। केजरीवाल को जिताने के लिए वाराणसी में आम आदमी पार्टी के कार्यकता पूरा जोर लगा रहे हैं। सैंकड़ों कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों से संपर्क कर रहे हैं। 2009 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने वाराणसी से लोकसभा चुनाव जीता था। उन्होंने बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी को 17 हजार वोटों से हराया था। अंसारी ने कौमी एकता दल के टिकट पर चुनाव लड़ने की घोषणा की थी लेकिन बाद में उन्होंने इनकार कर दिया था। मऊ से चार बार से विधायक मुख्तार अंसारी भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या के मामले में आगरा की जेल में बंद है। कांग्रेस ने वाराणसी से अजय राय को,बसपा ने विजय प्रकाश जायसवाल को,तृणमूल कांग्रेस ने विजय तिवारी को,सीपीएम ने हीरा लाल यादव को चुनाव मैदान में उतारा है - See more at: http://www.patrika.com/news/arvind-kejriwal-to-file-nomination-from-varanasi-today/1002772#sthash.hpGUcVZ9.dpuf
 रायबरेली
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-04-23 14:21:44
रायबरेली। प्रियंका गांधी ने बुधवार को भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी पर जमकर हमला बोला। रायबरेली में मां सोनिया गांधी के प्रचार के लिए पहुंची प्रियंका गांधी ने गुजरात में महिला की कथित जासूसी का मामला उठाया। प्रियंका गांधी ने मोदी का नाम तो नहीं लिया लेकिन उनका इशारा साफ था। प्रियंका गांधी ने कहा,जब महिला सशक्तीकरण बात होती है तो महिला की पहचान मां-बेटी,पत्नी और बहू के रूप में होती है। मैं भी महिला हूं। मैं इसका सम्मान करती हूं लेकिन हमारा अस्तिस्व सिर्फ मां-बेटी-बहू और पत्नी के रूप में ही नहीं है। हम नारी हैं और यही हमारा अस्तित्व है। लोग महिला सशक्तिकरण की बात करतें हैं लेकिन बंद कमरे में महिलाओं के फोन सुनते हैं। क्या इससे महिलाएं सशक्त होगी। एक पार्टी का प्रचार एक आदमी के इर्द-गिर्द चल रहा है और उसे ही शक्ति दी जा रही है। क्या सारी शक्तियां और अधिकार एक ही व्यक्ति के हाथों में देने चाहिए या फिर लोगों को ताकत देनी चाहिए। सारी ताकत एक ही व्यक्ति को देना खतरनाक है। कुछ पार्टियां भ्रष्टाचार मिटाने की बात करती हैं लेकिन कांग्रेस ने ही इससे लड़ने के लिए आरटीआई के रूप में लोगों को हथियार दिया। पार्टियां कहती हैं कि वे भ्रष्टाचार दूर करेंगी लेकिन ये नहीं बताते कि कैसे?" सोनिया के लिए वोट मांगते हुए प्रियंका ने कहा कि,"सोनिया जी ने मुझे यहां भेजा है। आपको उनके लिए नहीं बल्कि भारत के लिए वोट करना है। ये आपको तय करना है कि आप किसे वोट देंगे। एक पार्टी है जो लोगों को बांटती है। एक पार्टी है जो लोगों को साथ लेकर चलती है।" मंगलवार को प्रियंका ने अपने पति रॉबर्ट वाड्रा पर लग रहे आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा था कि ऎसे आरोपों से जलील किया जा रहा है और इनसे दुख होता है। ऎसे आरोपों का माकूल जवाब दिया जाएगा। - See more at: http://www.patrika.com/news/dangerous-to-vest-power-in-one-man-priyanka-gandhis-jibe-at-narendra-modi/1002795#sthash.T1UcOjhG.dpuf
 कोलके म कंपनी ने किया बस्ती का पानी जहरीला
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-05-31 15:37:22
औद्योगिक क्षेत्र में प्रदूषण विभाग व जिला व्यापार एवं उद्योग विभाग द्वारा जारी निर्देश की धज्जियां उड़ाई जा रही है। पता नहीं क्यों उद्योग लगाने के बाद उद्योगपति अपनी हिटलरशाही चलाने पर उतारू हो जाते हैं? उनको कायदे-कानून का डर समाप्त हो जाता है। ऐसा लगता है कि उनके पास पैसा व पावर आते ही शासन-प्रशासन उनके इशारों पर नाचने लगता है। किसी लेखक की कही एक बात चरित्रार्थ होती दिख रही है 'शासन गरीबों पर राज करता है और शासन पर अमीर राज करते हैं उनकी इस बात में जरा भी शक नहीं है। आज जो स्थिति अधिकारियों के द्वारा निर्मित की गई है उसको देखकर यह मुहावरा सत्य प्रतीत हो रहा है। रसूखदार व अमीर लोगों पर शासन की मेहरबानी देखते ही बनती है। इनकी जगह अगर किसी गरीब ने कुछ भी एैसा-वैसा कर दिया तो अधिकारी दल-बल के साथ चढ़ बैठते हैं। हम बात कर रहे हैं दुर्ग स्थित जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र की। जहां पर नियमों का मखौल उड़ाया जा रहा है और अधिकारी तमाशबीन बनकर मजा ले रहे हैं मानो कोई मदारी खेल दिखा रहा हो और जनता देख-देख के मजे लेती है। भिलाई। जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र को भ्रष्टाचार की खान कहे तो यह कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। इसकी भ्रष्ट आचरण व भ्रष्टाचार के लिए जितनी तारीफ की जाये वह कम है। प्राप्त जानकारीनुसार लाईट इंडस्ट्रियल एरिया के प्लाट न. १०१ में संचालित एसएम कोलकेम नामक केमिकल कंपनी का संचालन किया जा रहा है जो कि स्थानीय नागरिकों एवं अन्यों के लिए परेशानी का सबब बनती जा रही है। उक्त कंपनी के द्वारा केमिकल बनाने के लिए जमकर रसायन का उपयोग किया जा रहा है। ज्ञात हो कि केमिकलयुक्त सामग्री बनाने के लिए खतरनाक किस्म के रसायन व अन्य पदार्थ जमकर इस्तेमाल होते हैं, इन्हें मानवीय आधार व प्रदूषण के हिसाब से उपयोगी नहीं माना जाता है। इनका प्रयोग करने के लिए शासन-प्रशासन ने कड़े नियम बनाएं हैं जिनका पालन करवाना स्थानीय प्रशासन की जिम्मेदारी होती है लेकिन ऐसा होता नहीं दिखलाई पड़ रहा है अधिकारी केवल अपने स्वार्थ के चलते कायदों-कानून को तिलांजली देकर जेब गरम करने में लगे हैं। सूत्र ने बताया कि कोलकेम कंपनी द्वारा केमिकल बनाने के उपरांत हुए अपशिष्ट को कंपनी के भीतर ही गड्ढ़ा खोदकर डाला जा रहा है जो कि भूमि के भीतर ही भीतर धरातल में पहुंच रहा है इनके द्वारा कुंआनुमा एक गोल आकार का स्थल खोदकर रख गया है जिसमें आखिर में बचा हुआ रसायन बहाया जाता है जो धीरे-धीरे ऊपरी सतह से होता हुआ निचली सतह तक पहुंच रहा है। इससे न केवल आसपास बल्कि बस्ती का पानी भी प्रदूषित हो रहा है। इससे सटी हुई बस्ती के बोर व हैण्डपंपों में केमिकलयुक्त पानी आ रहा है जिसकी वजह से आमजनता व अन्य कंपनी वाले अत्यधिक परेशान हैं। इस पानी के कारण न केवल निस्तारी का वरन् पीने का पानी भी गंदा व बीमारीयुक्त आ रहा है। जिसके कारण लोगों को गंभीर बीमारी घ्ेार रही हैं खासकर इसकी चपेट में आकर नवजात व नन्हें बच्चें गंभीर बीमारियों को झेलने मजबूर है। जब इस संबंध में कंपनी के प्रबंधक व कर्मचारियों से चर्चा की गई तो उनका कहना हैं कि यह कंपनी पिछले ३० सालों से चल रही हैं। क्या हम तुम्हारे कहने से कंपनी बंद कर देंगे? एक तो चोरी ऊपर से सीनाजोरीं की तर्ज पर पर उल्टा सवाल करते हैं और धमकी-चमकी लगाते हैं। जनता से कहते हैं कि यह हमारा काम नहीं है अगर किसी को कोई शिकायत हैं तो जिला व्यपार एवं उद्योग केन्द्र जाओ। उनको जो करना होगा करेंगे। इनकी बातें सुनकर ऐसा लगता हैं कि इनको जिला प्रशासन का भय समाप्त हो चुका हैं। इनको किसी का कोई डर नहीं हैं। शायद जिला प्रशासन इनकी जेब में पड़ी कोई वस्तु हों। इस विषय में स्थानीय नागरिकों व अन्य उद्योगपतियों के द्वारा अनेक दफा शिकायत की गई लेकिन अधिकारी मौनी बाबा बने बैठे है। इसका प्रमुख कारण बताया जा रहा हैं कि उक्त कंपनी के संचालक के द्वारा प्रतिमाह नियम से चढ़ावा चढ़ाया जाता हैं। जिसके कारण जिला डीआईसी के जनरल मैनेजर श्री केहरि और उनके अधिनस्थ कर्मचारियो ने धृतराष्ठ का रूप धारण कर लिया है जिसको लेकर जन चर्चा जारी है। बाक्स में १. जिला प्रदूषण नियत्रण विभाग के नियंत्रक श्री मालू को हमनें विष्णु केमिकल एवं अन्य कंपनियों के विषय में जानकारी दी तथा समाचार छापा, पेपर भी उपलब्ध कराया जिस पर उन्होने कार्यवाही करने की बातें कही थी। इस घटना को महीनों बीत चुके हैं। जनता व मीडिया कारवाई का इंतजार कर रहा हैं लेकिन कोई सुगबुगाहट नहीं दिख रही है। जब उनसे इस विषय में जानकारी लेने हमारे प्रतिनिधि ४-५ कार्यालय गए तो साहब उपस्थित नही थे उनके मोबाईल पर फोन करने पर मीटिंग का हवाला देकर टाल-मटोली पर उतर आते हैं। ऐसा लगता हैं कि ये लोगो को बीमार रखने पर उतारू हैं और इनको भी भक्तो का प्रसाद निरंतर मिल रहा हैं। २. इन कंपनियों की कारगुजारियों के ऊपर कार्यवाहीं की जानकारी लेने हमारे प्रतिनिधि जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के चीफ जनरल मैनजर अनिल कुमार केहरि से मिलने ७-८ बार कार्यालय गएं तो पता चला कि साहब कही गएं हैं। इस पर जब हमनें कार्यालीन समय पर दूरभाष नम्बर मे फोन किया तो उन्होने बात करने की जहमत तक न उठाई। मोबाईल नम्बर मांगने पर भी श्री केहरि ने नहीं हैं कहकर टाल दिया सितम यह हैं कि उन्होने अपना मोबाईल का नम्बर अपने स्टॉफ तक को नही दिया है। उनके आने के बाद उद्योगपति अपनी मनमानी कुछ ज्यादा ही कर रहे हैं वो केवल उनसे ही मिलते है जो लोग कंपनी वगैरह चलाते हैं क्योंकि इनसे ही उनका स्वार्थ पूरा हो सकता है। सूत्र का कहना हैं कि साहब के अच्छे व्यवहार से कंपनी संचालक बेहद खुश है और प्रतिदिन जमकर चढ़ावा चढ़ रहा है। ३. महेश व दिनेश साहू, धीरज नामक व्यक्तियों ने बताया कि कंपनी के द्वारा अपने फायदे के लिए रसायन को जमीन में बहाया जा रहा है जबकि नियमत: इनको बस्ती से दूर किसी बंजर भूमि में ले जाकर गड्ढ़े में डालना चाहिए ताकि वो पानी को प्रभावित न कर सके। पानी प्रदूषित होने के कारण बच्चों व बड़े- बुजुर्गों को सांस, दमा, अस्थमा एवं चर्म रोग आदि घातक बीमारियां हो रही हैं।
 मंगल के ज्वालामुखी में मौजूद था जीवन
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-05-31 15:54:23
वाशिंगटन। भूवैज्ञानिकों ने हाल ही में एक बेहद महत्वपूर्ण खोज में साबित कर दिया है कि मंगल ग्रह पर स्थित एक विशाल ज्वालामुखी में जीवन था। भूवैज्ञानिकों के अनुसार, मंगल ग्रह पर स्थित यह ज्वालामुखी माउंट एवरेस्ट से दोगुना ऊंचा है और कभी यह पूरी तरह बर्फ से ढका हुआ था। मंगल ग्रह का यह ज्वालामुखी आरसिया मोन्स हमारे सौरमंडल के सबसे बड़े पर्वतों में से एक है। हालांकिमंगल ग्रह पर यह तीसरा सबसे बड़ा पहाड़ है। भूवैज्ञानिकों के अनुसार, वर्तमान समय में मंगल ग्रह पर भले जीवन के अवशेष न बचे हों पर इस पर्वत पर कभी जीवन था। र्होड आइलैंड स्थित ब्राउन विश्वविद्यालय के कैट स्कैनलन कहते हैं कि यदि आरसिया मोन्स पर जीवन के अवशेष मिलते हैं तो वहां जाना मेरा अगला लक्ष्य होगा। नासा से प्राप्त अध्ययन सामग्री के अनुसार, मंगल पर स्थित ज्वालामुखी से वैसा ही लावा पाया गया, जैसा कि पृथ्वी पर समुद्र के भीतर ज्वालामुखी से पाया जाता है। यही नहीं, उन्होंने वहां भी वैसे ही टीले और मोड़दार पहाड़ी रास्ते पाए, जैसा कि पृथ्वी पर ज्वालामुखी के लावे के हिमनद के रास्ते में आने के बाद बनते हैं। नासा के अंतरिक्ष दूरदर्शी स्केनलन से यह भी पता चला कि आरसिया मोन्स की बर्फ से ढकी झील के अंदर सैकड़ों घन किलोमीटर पिघला हुआ जल है। अगर ऐसा सचमुच में है, तो इससे बिल्कुल भी इनकार नहीं किया जा सकता कि मंगल ग्रह पर कभी जीवन रहा होगा। क्योंकि पानी से भरी इस झील में जीवन की संभावना है। यहां कई तरह के सूक्ष्म जीव पनप सकते हैं। यह भी संभव है कि ग्लेशियर की कुछ बर्फ अब भी वहां विद्यमान हो। शोध पत्रिका आइकेरस में प्रकाशित शोधपत्र पर अगर गौर करें, तो पृथ्वी से अलग जीवन की खोज करने वाले लोगों के लिए आरसिया मोन्स अगला पड़ाव हो सकता है। क्यूरोसिटी और अन्य मार्स रोवर से मिले आंकड़ों से कहीं पहले करीब 2100 लाख साल पूर्व आरसिया मोन्स पर जीवन रहा होगा। ये सभी स्थल ढाई अरब साल से पुराने नहीं हैं।
 संयुक्त राष्ट्र ने भारतीय शांति सैनिकों को किया सम्मानित
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-05-31 15:56:24
संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र ने 106 शांति सैनिकों को सम्मानित किया है। इनमें आठ भारतीय हैं। इन सैनिकों की शांति अभियानों में मृत्यु हो गई थी। भारत ने इस बात पर जोर दिया है कि सुरक्षा परिषद को समस्याग्रस्त देशों में राजनीतिक स्थिति में सुधार लाने के लिए काम करना चाहिए। शांति सैनिकों का अभियान अस्थिरता का समाधान नहीं है। बृहस्पतिवार को शांति सैनिकों के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाया गया। संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने शांति सैनिकों के लिए बनाए गए नए स्मारक पर माल्यार्पण किया। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि अशोक कुमार मुखर्जी इस अवसर पर उपस्थित थे। इसके बाद बान ने एक समारोह की अध्यक्षता की जिसमें 106 शांति सैनिकों को क‌र्त्तव्य पालन के दौरान साहस और बलिदान के लिए प्रतिष्ठित डैग हैमरस्कजोल्ड मेडल प्रदान किया गया। इस पदक का नाम संयुक्त राष्ट्र के दूसरे प्रमुख के नाम पर रखा गया है। भारतीय सैनिकों की ओर से मेडल मुखर्जी ने ग्रहण किया। इन सैनिकों ने संयुक्त राष्ट्र मिशन में प्राण न्योछावर कर दिए थे। इनमें हरियाणा के तीन वीर सपूत शामिल हैं। इन भारतीय सैनिकों में दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन में शामिल रहे महेंद्रगढ़ जिले के सुरहेती पिलानिया निवासी लेफ्टिनेंट कर्नल महिपाल सिंह, लांस नायक नंद किशोर जोशी, हवलदार हीरालाल, नायब सूबेदार शिव कुमार पाल और हवलदार भरत ससमाल शामिल हैं। मेडल पाने वालों में भिवानी जिले के चरखी दादरी निवासी सूबेदार धर्मेश सांगवान और गुड़गांव के भौंडसी निवासी कुमार पाल सिंह भी शामिल हैं, जिनकी पिछले वर्ष 19 दिसंबर को अकाबो में ड्यूटी के दौरान शहादत हो गई थी। इनके अलावा सिपाही रामेश्वर सिंह को भी मेडल प्रदान किया गया है। वह कांगो में संयुक्त राष्ट्र मिशन में तैनात थे और फरवरी, 2013 में शहीद हो गए थे। इनके अलावा सिपाही रामेश्वर सिंह को भी मेडल प्रदान किया गया है। वह कांगो में संयुक्त राष्ट्र मिशन में तैनात थे और फरवरी, 2013 में मारे गए थे।
 भारतीय छात्रों ने स्पेलिंग बी में फिर इतिहास रचा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-05-31 15:58:01
वाशिंगटन। भारतीय मूल के दो अमेरिकियों श्रीराम जे हथवार और अंसुन सुजोए ने प्रतिष्ठित स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी प्रतियोगिता के संयुक्त विजेता बन कर इतिहास रच दिया है। ऐसा 52 साल बाद पहली बार हुआ है। प्रतियोगिता पर पिछले सात सालों से भारतीय अमेरिकी ही कब्जा जमाते आ रहे हैं। स्पेलिंग बी प्रतियोगिता का सीधा प्रसारण गुरुवार की रात लाखों लोगों ने देखा। न्यूयॉर्क निवासी श्रीराम [14] अल्टरनेटिव स्कूल फॉर मैथ एंड साइंस में कक्षा आठ में पढ़ता है जबकि टेक्सास का अंसुन [13] कक्षा सातवीं का छात्र है। वास्तव में पिछले साल की तरह इस बार भी अंतिम तीन प्रतियोगियों में भारतीय अमेरिकी ही जगह बनाने में सफल रहे। इनमें श्रीराम, अंसुन और मिसौरी के गोकुल वेंकटचलम थे। श्रीराम और अंसुन को 30 हजार डॉलर [करीब 18 लाख रुपये] की नकद धनराशि, ट्राफी और दूसरे उपहार पुरस्कार स्वरूप प्रदान किए गए। अंसुन के साथ संयुक्त विजेता घोषित किए जाने के बाद श्रीराम ने कहा कि यह सपना साकार होने जैसा है। जबकि अंसुन ने कहा कि मैं फाइनल में पहुंचकर खुश था और सह विजेता बनकर ज्यादा खुश हूं। इस प्रतियोगिता के 89 वर्षो के इतिहास में यह चौथा मौका है जब संयुक्त विजेता घोषित हुए। इसके पहले 1962, 1957 और 1950 में यह रिकार्ड बन चुका है। जबकि स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी प्रतियोगिता में 2008 से भारतीय मूल के लोगों को कोई चुनौती नहीं मिली है। प्रतियोगिता में छात्रों की दिमागी ताकत, धैर्य और शब्दावली के ज्ञान की परख की जाती है।
 स्मृति इरानी ने दिखाई दरियादिली, तो दिग्गी राजा ने ली चुटकी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-05-31 16:01:29
नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री [एचआरडी] स्मृति ईरानी ने उनकी शिक्षा से संबंधित जानकारी लीक करने के आरोप में निलंबित किए गए दिल्ली विश्वविद्यालय के पांच कर्मचारियों को ट्वीट करके बहाल करने की अपील की है। स्मृति ने कहा कि डीयू एक स्वायत्त संस्था है, मैं कुलपित से अपील करती हूं कि वे कर्मचारियों को बहाल कर दें। दिग्विजय सिंह ने कसा तंज स्मृति ईरानी के इस ट्वीट के बाद कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने भी ट्वीट के जरिए उनपर तंज कसा। दिग्गी ने ट्वीट के जरिए स्मृति के इस कदम का स्वागत करते हुए उन्हें धन्यवाद जरूर दिया, तंज कसते हुए कहा कि अब आप अपनी असली डिग्री बता दीजिए। गौरतलब है कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के दिल्ली विश्वविद्यालय [डीयू] के स्कूल ऑफ ओपन लर्निग [एसओएल] में दाखिला संबंधी जानकारी लीक होने के बाद प्रशासन ने विभाग के पांच कर्मचारियों को निलंबित कर दिया था। एसओएल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पांचों कर्मचारियों ने कबूला है कि इन्होंने ही वेबसाइट में यूजर नेम और पासवर्ड डालकर यह जानकारी निकाली। जबकि यह पूरी तरह से गोपनीय है और इसे आसानी से नहीं पाया जा सकता। बताया जा रहा है कि पांचों कर्मचारियों ने अपनी गलती भी स्वीकार की है, इसके बाद इनको निलंबित किया गया। वहीं एसओएल के निदेशक सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस मामले पर कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी डीयू के एसओएल से बीए आनर्स किया था। अधिकारियों को डर है कि कहीं इससे सूचना भी न लीक हो जाए इसलिए विशेष सतर्कता बरती जा रही है।
 चिनफिंग को मोदी के निमंत्रण का चीन ने किया स्वागत
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-05-31 16:07:28
बीजिंग। चीन ने शुक्रवार को राष्ट्रपति शी चिनफिंग को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भारत आने के लिए मिले निमंत्रण का स्वागत किया। साथ ही कहा कि दोनों देश इस प्रस्तावित उच्चस्तरीय दौरे को अंतिम रूप देने के लिए संपर्क में हैं। मोदी ने शी को यह निमंत्रण तब दिया जब चीन के प्रधानमंत्री ली कछ्यांग ने प्रधानमंत्री पद संभालने के बाद मोदी को टेलीफोन पर बधाई दी। ली से बातचीत के दौरान चीन और भारत के रणनीतिक सहयोग व साझीदारी को और आगे बढ़ाने पर सहमति जताई गई। यह बात चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने शी को भारत यात्रा के लिए मोदी से मिले निमंत्रण से जुड़े सवालों का जवाब देते हुए कही। उन्होंने कहा कि पहले भी बहुत सारे भारतीय नेताओं ने कई मौकों पर राष्ट्रपति शी चिनफिंग को भारत आने के लिए निमंत्रण भेजे थे। चीन इसकी सराहना करता है। प्रस्तावित यात्रा के मुद्दे पर राजनयिक स्तर पर दोनों पक्ष एक दूसरे के संपर्क में हैं। चीन के विदेश मंत्री वांग यी मोदी को बधाई देने और नई विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से बातचीत करने खुद भारत जानेवाले हैं। उसी दौरान उम्मीद है कि शी के भारत दौरे का विस्तृत प्रारूप तैयार किया जाएगा। वांग आठ जून को नई दिल्ली आने वाले हैं। उनकी यात्रा के दौरान पंचशील समझौते के 60 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित समारोह में भारत के शीर्ष नेताओं के भाग लेने के बारे में घोषणा कर सकता है। अधिकारियों का कहना है कि चीन चाहता है कि भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी यहां 28 जून को इस अवसर पर आयोजित होने वाले समारोह में भाग लें जिसमें चीन और म्यांमार के राष्ट्रपति भी भाग लेने वाले हैं।
 अपना ही फैसला बन रहा उत्तर प्रदेश सरकार की मुसीबत
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-01 16:17:01
लखनऊ, [जागरण ब्यूरो]। अखिलेश सरकार के लिए अपना ही एक फैसला मुसीबत का सबब बन रहा है। गृह जनपद के करीब तैनात पुलिसकर्मी ही कानून-व्यवस्था के लिए सर्वाधिक चुनौती बन रहे हैं। ड्यूटी पर पर्याप्त समय देने की बजाय उनका गांव-घर आना जाना लगा रहता है। शासन को इसका आभास है और संभव है कि तैनाती की व्यवस्था में बदलाव के लिए जल्द ही कैबिनेट के समक्ष कोई प्रस्ताव आए। इस बार रेंज से बाहर और हर हाल में गृह जिले से सटे जिले में तबादला न करने का फरमान जारी हो सकता है। बदायूं के उसैहत में दो नाबालिग बालिकाओं की हत्या और दुष्कर्म के षड्यंत्र में दो सिपाहियों के शामिल होने के बाद उन्हें तो बर्खास्त किया ही गया है, एकबारगी पूरे सूबे के सिपाहियों की भूमिका पर शासन की नजर गयी है। शासन के उच्चाधिकारी अनुशासन कायम रखने के लिए अब नियमों के हेरफेर को लेकर मंथन में जुट गए हैं। दरअसल, पूर्ण बहुमत से सत्ता में आने के बाद समाजवादी पार्टी ने पहला फैसला सिपाहियों की गृह जिलों के करीब वाले जिलों में तैनाती का किया। 16 मार्च 2012 को इसका शासनादेश भी जारी हो गया। इससे सिपाहियों में खुशी की लहर दौड़ गयी और सरकार को भी लगा कि कानून-व्यवस्था के मोर्चे पर इनसे सहयोग मिलेगा, लेकिन सब कुछ बेकार। सिपाहियों ने इस सुविधा का दुरुपयोग का शुरू कर दिया। आपराधिक घटनाओं में शामिल होने से लेकर कर्तव्य में उदासीनता के बहुतेरे मामले सामने आए। सैफई में तैनात एक सिपाही के बारे में शासन को पता चला कि वह तैनाती के समय पड़ोस में अपने गृह जिले में था। अभिसूचना में यह बात सामने आयी कि ज्यादातर सिपाही अपनी ड्यूटी नहीं निभा रहे हैं। इससे व्यवस्था पर असर पडऩे लगा है। सूबे में करीब सत्तर हजार सिपाही अपने गृह जिलों के करीब तैनात हैं। मुख्यमंत्री तक यह बात पहुंचाई गयी है और उन्हें बताया गया कि सिपाहियों के ड्यूटी पर नदारद रहने से कानून-व्यवस्था खराब हो रही है। पहले क्या थी व्यवस्था अस्सी के दशक में कई हत्या और अपराधों में सिपाहियों का नाम आया। तब जांच में यह बात सामने आयी कि पड़ोसी जिलों में तैनात सिपाही ड्यूटी के समय रंजिश में घटनाओं को अंजाम देकर वापस लौट जाते हैं। वर्ष 1986 में आइजी कार्मिक वासुदेव पंजानी ने सिपाहियों की तैनाती के लिए गृह जिले से 250 किलोमीटर दूर तैनाती का प्रस्ताव बनाया और सरकार ने यह लागू किया। हालांकि इस वजह से बहुत सी चुनौतियां भी सिपाहियों के सामने आयी गयी और वह घर परिवार से दूर हो गए। फिर आम सहमति से अफसरों ने तय किया कि सिपाहियों की तैनाती रेंज से बाहर की जाए। मुलायम सिंह यादव की सरकार में यह व्यवस्था बहाल हुई और फिर कल्याण सिंह के समय भी रही। पिछली बसपा सरकार ने सिपाहियों की तैनाती में 1986 का फार्मूला लागू कर दिया। इससे सिपाहियों में आक्रोश भर गया। सपा ने सत्ता में आते ही 1986 के शासनादेश को बदल दिया। रोकने का होगा प्रयास प्रमुख सचिव गृह अनिल कुमार गुप्ता ने कहा कि पुलिसकर्मियों की यह शिकायत मिली है कि गृह जिलों के करीब तैनात होने से वह कर्तव्य के प्रति लापरवाह हो गए हैं। इसको रोकने के लिए उचित प्रयास किया जाएगा।
 
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-01 16:23:35
श्रीनगर। कुपवाड़ा जिले में रविवार को हुए सेना के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा का एक शीर्ष कमांडर मारा गया। सेना के प्रवक्ता ने बताया कि हंदवारा के मागम इलाके के सुदल गांव में आतंकवादियों के होने की सूचना मिली, जिसके आधार पर कार्रवाई करते हुए पुलिस और सेना ने सुबह एक संयुक्त घेरेबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया। तलाशी अभियान के दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। प्रवक्ता ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान लश्कर-ए-तैयबा का एक आतंकवादी मारा गया। बाद में उसकी पहचान संगठन के स्वयंभू क्षेत्रीय कमांडर अबू उक्शां अफगानी के रूप में हुई। उन्होंने कहा कि आखिरी खबर आने तक तलाशी अभियान जारी था।
 स्मृति मामले में डीयू का कर्मचारियों को निलंबित किए जाने से इन्कार
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-01 16:25:25
नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी की डिग्री से संबंधित जानकारी लीक मामले में दिल्ली विश्वविद्यालय ने कहा है कि उसने अपने किसी भी कर्मचारी को निलंबित किया ही नहीं है, तो बहाल करने का सवाल कहां उठता है। डीयू का यह वक्तव्य स्मृति ईरानी द्वारा कुलपति दिनेश सिंह को निलंबित कर्मचारियों को बहाल करने की अपील के कुछ घंटे बाद आया। गौरतलब है कि शुक्रवार को यह खबर आई थी कि स्मृति ईरानी की शैक्षणिक योग्यता से संबंधित जानकारी लीक करने वाले पांच कर्मचारियों को डीयू प्रशासन ने निलंबित कर दिया है। इस खबर के बाद ईरानी ने शनिवार को ट्वीट कर कुलपति से अपील की थी कि सभी कर्मचारियों को बहाल कर दिया जाए। ईरानी ने ट्विटर पर लिखा था, सार्वजनिक जीवन में किसी को भी जांच और आलोचना के लिए तैयार रहना चाहिए। मैं भी इसके लिए तैयार हूं। उन्होंने कहा, दिल्ली विश्वविद्यालय एक स्वायत्त संस्थान है, इसलिए मैंने अधिकारियों की बहाली के लिए यूनिवर्सिटी के कुलपति से निजी तौर पर अपील की है। शैक्षणिक योग्यता को लेकर ईरानी तब विवादों में आ गई जब नवगठित केंद्रीय मंत्रिमंडल में उन्हें मानव संसाधन विभाग जैसा महत्वपूर्ण विभाग सौंप दिया गया। इस मामले को तूल देते हुए कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि स्मृति ईरानी ने अपने शपथपत्र में शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत जानकारी दी है। आरोप है कि ईरानी ने पिछले वर्ष दिल्ली विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ ओपन लर्निग में दाखिला लिया था, लेकिन परीक्षा में शामिल नहीं हुई। कांग्रेस का कहना है कि ईरानी ने 2004 के लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी के तौर पर शपथपत्र में खुद को कला स्नातक (बीए) बताया था। दावा किया गया था कि उन्होंने दिल्ली विवि के पत्राचार पाठ्यक्रम के जरिए 1996 में उपाधि ली थी। लेकिन इस वर्ष के लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी के तौर पर अपने शपथपत्र में उन्होंने खुद को दिल्ली विवि के स्कूल ऑफ ओपन लर्निग (पत्राचार) से 1994 में स्नातक वाणिज्य पार्ट 1 बताया है।
 सुजैन खान ने रितिक के सरनेम को कहा अलविदा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-01 16:28:10
मुंबई। तलाक की अर्जी डालकर रितिक रोशन और सुजैन खान ने अपने 13 साल के रिश्ते को खत्म करने की पहल तो कर ही दी थी और अब सुजैन अपनी पहली पहचान वापस चाहती हैं। जी हां सुजैन खान रोशन ने अपने नाम से रोशन का सरनेम हटा दिया है। खबरों के मुताबिक सुजैन खान इन दिनों जितने भी मेल साइन कर रहीं हैं, सबमें सुजैन खान लिखा हुआ है। उन्होंने अपने नाम से रोशन हटा लिया है। सुजैन अपने पुराने सरनेम में वापस आ गईं हैं। सुजैन अपनी नई जिंदगी शुरू कर चुकी हैं। वे इस रिश्ते में बहुत आगे आ चुकी हैं। गौरतलब है कि साल 2013 के अंत में दोनों ने अलग रहने का फैसला किया था। पिछले महीने दोनों ने मुंबई के बांद्रा कोर्ट में तलाक की अर्जी डाली है। अक्टूबर से केस की सुनवाई शुरू होगी।
 ..और उस एक गेंद ने पंजाब से दूर कर दिया उसका पहला खिताब
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-02 11:56:04
बेंगलुरू। किंग्स इलेवन पंजाब पहली बार आइपीएल फाइनल में पहुंची थी। जिस अंदाज में वो पूरा टूर्नामेंट में खेले थे ऐसे में टीम के मालिक से लेकर खिलाड़ियों और फैंस तक सभी को उम्मीद थी कि इस बार खिताब उन्हीं का होगा..लेकिन फाइनल मैच के अंतिम क्षणों में एक खराब गेंद कैसे सभी उम्मीदों को ध्वस्त कर सकती है इसका नमूना रविवार को देखने को मिल गया। किस्सा है आइपीएल-7 के फाइनल मैच में लक्ष्य का पीछा कर रही कोलकाता की पारी के 19वें ओवर का। गेंदबाज थे विश्व के सबसे इन फॉर्म गेंदबाजों में से एक ऑस्ट्रेलिया के मिचेल जॉनसन। दो ओवर में कोलकाता को जीत के लिए चाहिए थे 15 रन लेकिन वे 6 विकेट खो चुके थे इसलिए लक्ष्य इतना आसान नहीं था। मैच और रोमांचक तब हो गया जब इस ओवर की पहली गेंद पर दो रन आने के बाद दूसरी ही गेंद पर आखिरी प्रमुख बल्लेबाज के तौर पर पिच पर मौजूद सूर्यकुमार यादव (5) भी कैच आउट हो गए। कोलकाता के सात विकेट खो चुके थे और पिच पर कोई खास बल्लेबाज भी मौजूद नहीं थे। दो गेंदें निकल चुकी थीं और अगली तीन गेंदों पर जॉनसन ने मात्र दो रन ही दिए जिससे पंजाब के सभी फैंस उत्साह में झूमने लगे। अब इस ओवर की अंतिम गेंद बाकी थी और कुल 7 गेंदों पर कोलकाता को 11 रन चाहिए थे। ये लक्ष्य पंजाब की जानदार फील्डिंग को देखते हुए कहीं से भी आसान नहीं लग रहा था लेकिन फिर जॉनसन ने वो गलती की जिसने सभी सपनों को ढेर कर दिया। जॉनसन ने पूरे ओवर में सभी गेंदें यॉर्कर और ब्लॉक होल में की थीं जिस पर किसी भी बल्लेबाज को शॉट खेलने का मौका नहीं मिला, लेकिन पता नहीं उनके दिमाग में क्या आया कि अंतिम गेंद उन्होंने शॉर्ट कर दी। इस बाउंसर पर पीयूष चावला ने सिर्फ दिशा देते हुए पुल किया और लेग साइड पर करारा छक्का जड़ दिया। बस, इसी शॉट के साथ मैच तकरीबन खत्म मान लिया गया। पंजाब के सभी फैंस और खिलाड़ी अपना सिर पकड़कर अफसोस कर रहे थे, किसी को विश्वास नहीं हो रहा था कि जॉनसन ने ऐसी गेंद आखिर क्यों फेंकी। इसके बाद अंतिम ओवर में मात्र पांच रन चाहिए थे और आउट ऑफ फॉर्म परविंदर अवाना के इस ओवर की तीसरी ही गेंद पर चौका जड़कर चावला ने केकेआर को आइपीएल में दूसरी बार चैंपियन बनने का गौरव हासिल कराया। जाहिर तौर पर मिचेल जॉनसन अपनी उस एक गेंद को लेकर अब लंबे समय तक अफसोस करेंगे।
 अस्तित्व में आया तेलंगाना, मुख्यमंत्री राव को मोदी ने दी बधाई
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-02 11:57:58
हैदराबाद। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीडीपी) के प्रमुख के चंद्रशेखर राव ने सोमवार को तेलंगाना के पहले मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। राज्यपाल ई एस एल नरसिम्हन ने राजभवन में एक समारोह में राव को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। उनके साथ पुत्र केटी रामाराव और भतीजे टी हरीश राव समेत ग्यारह मंत्रियों ने भी शपथ ली। तेलंगाना के 29वें राज्य के रूप में रविवार रात अस्तित्व में आने के कुछ घंटे बाद ही राव को पहले मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राव को बधाई दी और नए राज्य के उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने अपने ट्वीट किया है, भारत को नया राज्य मिला है। हम 29वें राज्य के रूप में तेलंगाना का स्वागत करते हैं। आने वाले वर्षो में यह राज्य हमारी विकास यात्रा में ताकत बढ़ाएगा। मोदी ने कहा कि कई लोगों के संघर्ष और त्याग के बाद तेलंगाना का जन्म हुआ है। आज हम उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं। उन्होंने तेलंगाना के लोगों और राज्य सरकार को आश्वस्त करते हु कहा कि राज्य को विकास की नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए केंद्र हरसंभव मदद देने को तैयार है। गौरतलब है कि आंध्र प्रदेश से अलग तेलंगाना राज्य के गठन के बाद हुए पहले विधानसभा चुनाव में टीआरएस ने 119 सीटों में से 65 सीटें जीतकर बहुमत हासिल किया था। तेलंगाना के गठन के साथ ही सीमांध्र ने भी अलग राज्य का आकार ले लिया। अगले 10 वर्षो तक दोनों प्रदेशों की राजधानी हैदराबाद ही रहेगी। सीमांध्र में तेलुगू देसम पार्टी ने 175 सीटों में 106 सीटें जीतकर बहुमत हासिल किया है। पार्टी के प्रमुख चंद्रबाबू नायडू आज ही मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।
 सलमान खान की इस फोटो ने फेसबुक पर मचाया तहलका!
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-02 11:59:58
नई दिल्ली। एक फोटो और 14 लाख से ज्यादा लाइक्स। जी हां, आपको जानकर हैरानी होगी सलमान और उनके दोनों भाइयों अरबाज, सोहेल की इस फोटो को 14 लाख से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं। सलमान खान ने अपने फेसबुक अकाउंट पर यह फोटो अगस्त 2012 में शेयर की थी। यानी दो साल से भी कम समय में यह फोटो फेसबुक पर धमाल मचा रही है। इस फोटो को अब तक 14.1 लाख से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं, 42 हजार से ज्यादा लोग इसे शेयर कर चुके हैं और 30 हजार से ज्यादा कमेंट किए गए हैं। आपको बता दें कि सलमान फेसबुक पर सबसे ज्यादा फैन फॉलोइंग वाले बॉलीवुड सितारों में शामिल हैं। फेसबुक पर सलमान खान के 1 करोड़ 62 लाख से ज्यादा फॉलोअर हैं।
 कैबिनेट मंत्री गोपीनाथ मुंडे का निधन, सुबह 7.20 बजे ली अंतिम सांस
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-03 10:41:54
नई दिल्ली। नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल में शामिल कैबिनेट मंत्री गोपीनाथ मुंडे की सड़क हादसे में मौत हो गई। सुबह करीब 7.20 बजे एम्स के ट्रॉमा सेंटर में उन्होंने अंतिम सांस ली। बीजेपी नेता और कैबिनेट मंत्री नितिन गडकरी ने उनके मौत की जानकारी दी। कल उनके पैतृक गांव में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। खबरों के मुताबिक हादसे से पहले केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री गोपीनाथ मुंडे सुबह करीब 6 बजे अपने आवास से मुंबई जाने के लिए एयरपोर्ट निकले। तभी लोधी कालोनी के पास मोती नगर में उनकी कार का एक्सीडेंट हो गया। हादसे के बाद करीब 6.30 उन्हें एम्स के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया, जहां करीब 8.30 बजे डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। डॉक्टर के मुताबिक गोपीनाथ मुंडे को जब अस्पताल में भर्ती कराया गया तभी उनकी सांसें थम चुकी थीं। डॉक्टरों ने करीब 50 मिनट तक उन्हें बचाने की कोशिश की, लेकिन उन्हें नहीं बचाया जा सका। डॉक्टर की मानें तो गोपीनाथ मुंडे को शुगर और ब्लड प्रेशर था जिसके लिए वे कुछ दवाइयां ले रहे थे। हादसे के बाद उन्हें दिल का दौरा पड़ा और उनकी सांसें थम गई।
 अमिताभ बच्‍चन का ये नया लुक देखकर चौंक जाएंगे आप!
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-03 10:44:15
मुंबई। हाल ही में एक नए लुक के साथ किए गए ऐड को लेकर अमिताभ बच्चन खूब चर्चा में रहे और अब एक बार फिर बिग बी आर बाल्कि की फिल्म शमिताभ में अजीबो गरीब लुक में नजर आने वाले हैं। इस फिल्म में बिग बी अपनी उम्र से ज्यादा के दिख रहे हैं। फिल्म में अमिताभ के लुक को लेकर अब तक काफी रहस्य बना हुआ था। फिल्म के पहले लुक में बिग बी काफी उम्र दराज लग रहे हैं। उन्होंने सफेद रंग के कपड़े पहने हुए है। सफेद बाल और सफेद दाढ़ी में बिग बी काफी अलग नजर आ रहे हैं। यही नहीं, उनकी छोटी सी पोनी टेल काफी चर्चा में है। इससे पहले बिग बी ने फिल्म पा में अलग लुक अपनाया था। एक बढ़ती उम्र का बच्चा। फिल्म में धनुष और कमल हासन की बेटी अक्षरा भी नजर आएंगे।
 पीएम का मंत्रियों को स्पष्ट संदेश, बर्दाश्त नहीं होगा कोई दाग
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-03 11:23:57
नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। सरकार गठन के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी पूरी मंत्रिपरिषद के साथ बैठक की तो सभी मंत्रियों को स्पष्ट कर दिया कि नाम हो या काम, कोई दाग बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हर किसी को पूरी जवाबदेही के साथ जिम्मेदारी निभाते हुए जनता की आकांक्षाओं पर खरा उतरना होगा। प्रधानमंत्री आवास पर चली तीन घंटे की बैठक में सभी मंत्रियों को व्यक्तिगत और सरकार की छवि को साफ रखने की नसीहत भी दे दी गई। साथ ही मोदी ने 100 दिन के एजेंडे को लेकर अपनी सोच भी जाहिर कर दी। मोदी सरकार का एक हफ्ता बीत गया। बुधवार से संसद का सत्र शुरू होने वाला है। इससे पहले सोमवार को मोदी ने अपने सभी 45 मंत्रियों को बुलाया था। बताते हैं कि एजेंडा वही था जिसका संकेत और संदेश वह पहले ही दे चुके थे। नाश्ता और चाय के साथ सुखद माहौल में ही मोदी यह संकेत देने से नहीं चूके कि सगे-संबंधियों को मंत्रालय से दूर रखना होगा। ऐसा कोई अवसर देने से बचना होगा, जिससे सरकार की छवि धूमिल हो और कामकाज पर बुरा असर पड़े। राज्यमंत्रियों की पीड़ा अक्सर यह रही है कि उनके पास काम नहीं होता है। मोदी ने स्पष्ट कर दिया कि उन्हें भी हर काम में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना होगा। कैबिनेट समेत राज्यमंत्रियों को भी संकेत दे दिया गया कि कामकाज के जानकार लोगों को तवज्जो दें। अधिकारियों में विश्वास जगाकर उनसे काम लें और समयसीमा का ध्यान रखें। सूत्रों के अनुसार इस क्रम में उन्होंने यह भी जाहिर कर दिया कि समय-समय पर अपने मंत्रालयों में चलने वाली योजनाओं और परियोजनाओं की रिपोर्ट पेश करनी होगी। बैठक में मौजूद मंत्री के अनुसार मोदी ने हर किसी को बोलने का अवसर दिया। उन्हें सुना और अपनी सोच एक बार फिर बता दी। कुछ मंत्री चाहते थे कि मंत्रलयों को एजेंडा बनाने से पहले खुद मोदी उन मुद्दों पर अपनी सोच बता दें। मोदी ने यह बता दिया कि पूरी सोच सिर्फ इतनी है कि जनता का भरोसा न टूटे और देश आगे बढ़ता दिखे। उन्होंने मंत्रियों को सुझाव दिया कि नई सलाहों पर ध्यान दें और लीक से हटकर फैसला करना पड़े तो संकोच न करें। बशर्ते उसके हर पहलू पर गंभीरता से विचार किया गया हो।
 मिशन गंगा में जुटे मंत्रालय, निजी कंपनियां भी आई आगे
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-03 11:27:44
नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। गंगा सहित देश की प्रमुख पवित्र नदियों को लेकर नरेंद्र मोदी की योजना पर सरकार के विभिन्न मंत्रालयों में काम शुरू हो गया है। एक ओर वाराणसी के दशाश्वमेध घाट सहित दस प्रमुख घाटों को विकसित करने के लिए देश की शीर्ष निजी कंपनियां आगे आई हैं। इसी तरह गंगा, ब्रह्मपुत्र, गोदावरी और महानदी को जोड़कर जल परिवहन ग्रिड तैयार करने की बेहद महत्वाकांक्षी योजना जहाजरानी मंत्रालय ने तैयार कर ली है। पर्यटन मंत्रालय की पहल पर होटल और पर्यटन क्षेत्र की शीर्ष कंपनियां वाराणसी के दस प्रमुख घाटों के विकास और रखरखाव के लिए आगे आई हैं। ताज और ललित समूह सहित इस क्षेत्र की शीर्ष कंपनियां इनमें शामिल हैं। ये कंपनियां अपनी सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) गतिविधि के तौर पर इन घाटों को विकसित करेंगी। कंपनियां वाराणसी नगर निगम के साथ एक समझौता पत्र पर दस्तखत करेंगी, जिसके तहत वे यह जिम्मेदारी अपने ऊपर लेंगी। पर्यटन मंत्रालय ने सौ दिन की प्राथमिकताओं में इस काम को प्रमुखता से शामिल किया है। पर्यटन मंत्रालय इन घाटों को बेहतर करने की 18 करोड़ की अपनी योजना पर अलग से भी काम कर रहा है। जहाजरानी मंत्रालय ने गंगा, ब्रह्मपुत्र, गोदावरी और महानदी को जोड़कर जलमार्ग विकसित करने की योजना बनाई है। 25 हजार करोड़ की इस प्रस्तावित योजना के जरिए इन प्रमुख नदियों में साल भर जल का प्रवाह सुनिश्चित कर इस जलमार्ग से माल की ढुलाई की जा सकेगी। मंत्रालय का मानना है कि इस तरह से होने वाली माल ढुलाई की लागत सड़क और रेल के मुकाबले सस्ती होगी। साथ ही इससे नदियों का जलस्तर भी बेहतर बन सकेगा। गंगा सहित इन प्रमुख नदियों में प्रदूषण की समस्या का भी समाधान किया जा सकेगा।
 सुमित्रा महाजन बनेंगी लोकसभा स्पीकर, 5 जून को भरेंगी नामांकन पत्र!
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-04 10:57:33
नई दुनिया, इंदौर। लोकसभा स्पीकर के लिए इंदौर की सांसद सुमित्रा महाजन का नाम तय हो गया है। मंगलवार को खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फोन पर उन्हें पार्टी के इस निर्णय की सूचना दी। अध्यक्ष का चुनाव छह जून को होना है और संभवत: पांच जून को वह नामांकन पत्र दाखिल करेंगी। मध्य प्रदेश से पहली बार किसी नेता को लोकसभा अध्यक्ष बनने का मौका मिलेगा। महाजन इंदौर से लगातार आठवीं बार सांसद चुनी गई हैं। एक ही संसदीय क्षेत्र से लगातार आठ चुनाव जीतने वाली देश की पहली महिला सांसद हैं। स्पीकर पद के लिए महाजन का नाम प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह की पसंद पर तय हुआ है। मंत्रिमंडल के गठन के पहले ही पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने महाजन को इस आशय के संकेत दे दिए थे। लंबे संसदीय कार्यकाल में महाजन ने कई बार अध्यक्ष व उपाध्यक्ष की अनुपस्थिति में सदन का संचालन किया है। वह संसद की कई प्रमुख समितियों की अध्यक्ष भी रहीं। 15वीं लोकसभा में वह ग्रामीण विकास विभाग की स्थाई समिति की अध्यक्ष थीं।
 शोभा डे का विवादित बयान, कहा- मुंडे परिवार के लिए आ गए बुरे दिन
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-04 11:00:27
नई दिल्ली। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता गोपीनाथ मुंडे के निधन पर मशहूर लेखिका शोभा डे ने टिवट्र के माध्यम से अफसोस जाहिर किया है। उन्होंने शोक जताते हुए ट्वीट के आखिर में लिखा मुंडे के परिवार के लिए बुरे दिन आ गये। गोपीनाथ मुंडे के निधन के बाद उपन्यासकार शोभा डे ने ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है कि मुंडे की मौत के बारे में चौंकाने वाली खबर। कितना दुखद। आरआइपी परिवार के लिए बुरे दिन आ गये। गहरी संवेदना। मशहूर लेखिका शोभा डे के ट्वीट में इस तरह की पंक्ति का इस्तेमाल किये जाने के बाद से हंगामा शुरू हो गया है। उनका यह ट्वीट भाजपा के उस नारे की तुकबंदी है, जिसमें कहा गया था कि अच्छे दिन आने वाले हैं। शोभा डे को असंवदनशील ट्वीट के लिए सोशल मीडिया में कड़ी आलोचना झेलनी पड़ी। कई लोगों ने उन्हें मुंडे को लेकर किये गये ट्वीट पर खरीखोटी सुनाई और मुंह बंद रखने की सलाह दी। उल्लेखनीय है कि गोपीनाथ मुंडे की मंगलवार को एक सड़क हादसे में मौत हो गई।
 साइना नेहवाल का किरदार निभाएंगी दीपिका पादुकोण
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-04 12:01:32
मुंबई। बॉलीवुड में इन दिनों खिलाडियों पर फिल्में बनाने का चलन बेहद चल रहा है। बॉलीवुड डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण भी इस सीरिज में शामिल हो सकती है। दीपिका मशहूर बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल का किरदार सिल्वर स्क्रीन पर साकार करती हुई नजर आ सकती है। चर्चा है कि महेश भट्ट ने साइना नेहवाल पर फिल्म बनाने का निर्णय लिया है। महेश भट्ट अपनी फिल्म के लिए दीपिका को साइन करना चाहते है। दीपिका के पिता प्रकाश पादुकोण बैंडमिंटन के जानेमाने खिलाड़ी रह चुके है और दीपिका भी इस खेल में माहिर है। वहीं साइना भी चाहती है कि दीपिका उनकी भूमिका को रूपहर्ले पर्दे पर जीवंत करें। उल्लेखनीय है कि राकेश ओम प्रकाश मेहरा ने मिल्खा सिंह पर भाग मिल्खा भाग बनाई थी। इसमें फरहान अख्तर ने मिल्खा सिंह का रोल अदा किया था। वहीं संजय लीला भंसाली मेरीकॉम पर फिल्म बना रहे है। इसमें प्रियंका चोपड़ा ने मैरीकॉम की भूमिका निभाई है।
 उद्धव ने कहा- मुंडे की मौत की सीबीआइ जांच हो, समर्थकों ने किया उप मुख्यमंत्री का घेराव
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-04 17:14:59
परली [महाराष्ट्र]। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे की मौत की सीबीआइ जांच की मांग की है। इस बीच, मुंडे के समर्थकों ने महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री का घेराव करते हुए इस मामले की सीबीआइ जांच की मांग की। मुंडे के अंतिम संस्कार में यहां पहुंचे उद्धव ठाकरे ने कहा कि [पार्टी] कार्यकर्ताओं की भावनाओं का सम्मान किया जाना चाहिए। उद्धव की यह टिप्पणी आरपीआई [ए] नेता रामदास अठावले की सीबीआइ जांच की मांग के बाद आई है। आरपीआई मुंडे द्वारा महाराष्ट्र में बनाए गए महायुति गठबंधन में शामिल दलों में से एक है। इससे पहले गोपीनाथ मुंडे के निधन पर शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने सामना में लिखा है कि महाराष्ट्र का एक योद्धा चला गया। मुंडे बहुजन समाज और किसानों के नेता थे। दुखी उद्धव ने कहा, ये क्या हो गया, विश्वास नहीं हो रहा है।
 बड़े ओवैसी ने नरेंद्र मोदी के खिलाफ उगला जहर
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-04 17:19:14
हैदराबाद। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन [एमआईएम] के नेता और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और एक विशेष समुदाय के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की है। इसका वीडियो यू-ट्यूब और फेसबुक पर उपलब्ध है। वीडियो में ओवैसी मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने समुदाय विशेष के खिलाफ भी अपशब्द कहे। पिछले साल जनवरी में ओवैसी के भाई व विधायक अकबरूद्दीन ओवैसी को भड़काऊ भाषण देने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। बाद में उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया था। असदुद्दीन ओवैसी ने लोकसभा चुनाव में भाजपा के पूर्ण बहुमत हासिल करने के बाद भड़काऊ भाषण दिया था। भाषण में ओवैसी ने गुजरात दंगों को लेकर मोदी की ओर से गई टिप्पणी का जिक्र किया। मोदी ने एक न्यूज एजेंसी को दिए साक्षात्कार में कहा था कि जब आपकी कार के नीचे कुत्ते का बच्चा भी आ जाता है तो दुख होता है। ओवैसी ने मोदी की इसी टिप्पणी को समुदाय विशेष को भड़काने के लिए इस्तेमाल किया।
 यूपी से चुने गए एक सांसद केवल अक्षर ज्ञानी और दो हैं पांचवीं पास
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-04 17:28:55
लखनऊ। आज से शुरू संसद सत्र में उत्तर प्रदेश से पढ़े और कढ़े दोनों तरह के सांसद अपनी-अपनी राजनीतिक पार्टियों के सदस्यों के साथ मिलकर सरकार को घेरने का इंतजाम करेंगे। गौरतलब है कि लोकसभा चुनावों में भाजपा अपने दम पर बहुमत पाने में कामयाब रही है जबकि संप्रग का नेतृत्व कर रही कांग्रेस महज 44 सीटों पर सिमट गई। जहां तक यूपी का सवाल हैं यहां से 16वीं लोकसभा के लिए चुने सांसदों में 18 ऐसे हैं जिनकी शैक्षिक योग्यता इंटरमीडिएट या उससे कम है। इनमें एक अक्षर ज्ञान तक सीमित और दो पांचवीं पास हैं। एक सांसद सातवीं कक्षा और पांच दसवीं उत्तीर्ण हैं। नौ सांसदों की अधिकतम शैक्षिक योग्यता इंटरमीडिएट या 11वीं है। घोसी सीट से 16वीं लोकसभा में पहुंचने वाले हरिनारायण राजभर महज साक्षर हैं। झांसी से निर्वाचित उमा भारती और राबर्ट्सगंज से चुने गए छोटेलाल पांचवीं पास हैं। अमरोहा से कंवर सिंह तंवर सातवीं पास हैं। हाईस्कूल पास नवनिर्वाचित सांसदों में अलीगढ़ से निर्वाचित सतीश गौतम, फतेहपुर सीकरी के चौधरी बाबूलाल, आंवला के धर्मेन्द्र कश्यप, प्रतापगढ़ के हरिवंश सिंह और अकबरपुर के देवेंद्र सिंह भोले हैं। इंटरमीडिएट उत्तीर्ण सांसदों में पीलीभीत की मेनका गांधी, धौरहरा की रेखा वर्मा, मोहनलालगंज के कौशल किशोर, बांदा के भैरो प्रसाद मिश्रा, फतेहपुर की साध्वी निरंजन ज्योति, महाराजगंज के पंकज चौधरी, सलेमपुर के रवींद्र कुशवाहा, मछलीशहर के रामचरित्र निषाद हैं तो मुरादाबाद से चुने गए कुंवर सर्वेश कुमार 11वीं कक्षा पास हैं। प्रदेश से 16वीं लोकसभा में पहुंची जमात के तीन-चौथाई सदस्य उच्च शिक्षा प्राप्त हैं। इस जमात के 25 सदस्य स्नातक और 27 परास्नातक हैं। 15 सांसद विधि स्नातक हैं। नौ सांसद ऐसे हैं जिन्होंने डाक्ट्रेट की उपाधि अर्जित की है। इनमें सात पीएचडी उपाधिधारक हैं जिनमें मुजफ्फरनगर के सांसद संजीव बालियान, रामपुर के नैपाल सिंह, बागपत से जीते मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर सत्यपाल सिंह, गाजियाबाद से जीत हासिल करने वाले पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह, आगरा के राम शंकर कठेरिया, जौनपुर के कृष्ण प्रताप उर्फ केपी और चंदौली के महेंद्र नाथ पांडेय हैं। वहीं उन्नाव से सांसद निर्वाचित स्वामी सच्चिदानंद हरि साक्षी संस्कृत में विद्यावारिधि हैं जो पीएचडी के समकक्ष उपाधि है। कानपुर से सांसद चुने मुरली मनोहर जोशी भौतिकी में डीफिल हैं। सिने जगत से मथुरा होते हुए संसद पहुंचीं हेमा मालिनी को उदयपुर के सर पदमपत सिंहानिया विश्वविद्यालय की ओर से प्रदान की गई पीएचडी की मानद उपाधि हासिल है। वाराणसी से चुनकर प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठने जा रहे नरेंद्र मोदी दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक और अहमदाबाद के गुजरात विश्वविद्यालय से परास्नातक हैं। आजमगढ़ और मैनपुरी से जीते समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव आगरा विश्वविद्यालय से राजनीतिशास्त्र में परास्नातक हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष और अमेठी के सांसद राहुल गांधी अमेरिका में फ्लोरिडा स्थित रोलिंस कालेज से स्नातक और ब्रिटेन के कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के ट्रिनिटी कालेज से डेवलपमेंट स्टडीज में एमफिल उपाधिधारक हैं। वहीं उनके चचेरे भाई और सुलतानपुर से जीते वरुण गांधी लंदन विश्वविद्यालय से बीएससी करने के बाद एमएससी किया है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्‍‌नी और कन्नौज की सांसद डिंपल यादव लखनऊ विश्वविद्यालय से बीकाम उत्तीर्ण हैं।
 मोदी ने स्वीकार किया ओबामा का न्योता, सितंबर में जाएंगे अमेरिका
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-05 10:36:16
नई दिल्ली। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से मिलेंगे। इसी वर्ष सितंबर महीने में दोनों नेताओं के बीच वाशिंगटन में मुलाकात होगी। दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के न्यौते को कबूल कर लिया है। मोदी इस साल सितंबर के अंतिम सप्ताह में वाशिंगटन में ओबामा से मुलाकात करेंगे। बस दोनों देशों के बीच सितंबर महीने की किसी तारीख पर मुहर लगना बाकी है। बता दें कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने उन्हें फोन करके बधाई दी थी और वाशिंगटन आने का न्योता भी दिया था, ताकि दोनों देशों के रिश्ते को मजबूत किया जा सके। गौरतलब है कि 2002 के गुजरात दंगों के बाद अमेरिका ने 2005 में मोदी का वीजा रद्द कर दिया था और उनके अमेरिका में दाखिल होने पर पाबंदी लगी दी गई थी। इससे पहले अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने अपने एक बयान में कहा था कि ओबामा प्रशासन भारत के नए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का अमेरिका में स्वागत करने के लिए उत्सुक है। भारत के नए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए केरी ने यह संदेश अमेरिका में भारतीय राजदूत एस. जयशंकर को दिया था। जयशंकर ने द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर व्यापक चर्चा के लिए उप विदेश मंत्री विलियम ब‌र्न्स से भी मुलाकात की थी। इस द्वीपक्षीय वार्ता में एक खास बात ये भी है कि ये मुलाकात न्यूयॉर्क में नहीं बल्कि वाशिंगटन में होगी। इसके लिए दोनों ओर से तैयारियां भी शुरू कर दी गई हैं। दरअसल अमेरिका चाहता तो भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से न्यूयॉर्क में होने वाले संयुक्त राष्ट्र के अधिवेशन में भी मुलाकात कर सकता था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ है और भारत के साथ रिश्तों में गंभीरता को लेकर अमेरिका ये मुलाकात वाशिंगटन में आयोजित कर रहा है। इससे पहले एनडीए सरकार के ही प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से अमेरिका ने वाशिंगटन में मुलाकात की थी। इस बात से भी इस द्वीपक्षीय वार्ता के महत्व को समझा जा सकता है।
 टूटेंगे कांग्रेसी विधायक, दिल्ली में बनेगी भाजपा की सरकार!
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-05 10:40:40
नई दिल्ली, [अजय पांडेय]। दिल्ली के आठ में से छह कांग्रेसी विधायक पार्टी से निकलकर नया गुट बना सकते हैं। इनमें आपसी सहमति बन चुकी है और नए दल की घोषणा कभी भी हो सकती है। कांग्रेस विधायक दल में यह टूट सूबे में नई सरकार के गठन का रास्ता साफ करेगी। विधायकों के बदले तेवरों की जानकारी प्रदेश नेतृत्व से लेकर कांग्रेस हाईकमान तक पहुंच चुकी है। सूत्रों की मानें तो सूबे में कांग्रेस की बेहद खराब हालत को देखते हुए ये विधायक किसी भी कीमत पर चुनाव मैदान में उतरने से बचना चाहते हैं। उन्हें इस बात का खतरा है कि चुनाव होने पर उन्हें हार का सामना करना पड़ सकता है। बीते रविवार को प्रदेश कांग्रेस की एक बैठक में नए बनने वाले गुट के छह में से चार विधायक पहुंचे, दो ने आने से इन्कार कर दिया। बैठक में आप को किसी भी कीमत पर समर्थन नहीं देने के प्रस्ताव का समर्थन करने की बात आई तो वहां मौजूद चार विधायकों ने इस प्रस्ताव पर हामी भरने तक से इन्कार कर दिया। भाजपा की अगुवाई में बन सकती है सरकार कांग्रेस से अलग होने वाले छह विधायकों के गुट में से तीन मुस्लिम और तीन अन्य संप्रदाय के हैं। मुस्लिम विधायक भाजपा के साथ जाने से हिचकिचा रहे हैं, जबकि बाकी विधायक भाजपा के साथ जाने को तैयार हैं। इन विधायकों ने भाजपा व आप दोनों दलों के नेताओं से संपर्क साध रखा है। यदि भाजपा से बात बन गई तो छह विधायकों का अलग हुआ गुट एक बार फिर से टूटेगा और भाजपा के साथ शामिल होकर सरकार बनाएगा। इसकी संभावना ज्यादा है। शिअद को मिलाकर भाजपा के पास 29 विधायक हैं। दो निर्दलीय विधायकों का समर्थन उसे हासिल है। 67 सदस्यीय सदन में बहुत साबित के लिए कुल 34 विधायकों की जरूरत है। तीन विधायकों के आ जाने से यह जरूरत आसानी से पूरी हो जाएगी। आप भी सरकार बनाने की दौड़ में कांग्रेस से अलग होने को तैयार विधायकों का गुट आप के साथ मिलकर भी सरकार बना सकता है। यदि आप को छह विधायक का साथ मिल जाता है तो बहुमत की 34 की संख्या हासिल हो जाएगी। इस बार मुख्यमंत्री अरवद केजरीवाल नहीं, मनीष सिसोदिया को बनाया जाएगा। कांग्रेस भी मौके की ताक में कांग्रेसी भी ताक में हैं कि आप के समर्थन से उनकी अगुवाई में सरकार बन जाए। पार्टी आप से कह सकती है कि जिस प्रकार भाजपा को रोकने के लिए उसने आप को समर्थन दिया, उसी प्रकार आप भी कांग्रेस को समर्थन दे।
 सांसदों का शपथ आज, सुमित्रा महाजन भरेंगी स्पीकर के लिए पर्चा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-05 10:41:49
नई दिल्ली। 16वीं लोकसभा के लिए गुरुवार का दिन बेहद खास है। आज नए सांसदों को शपथ दिलाई जाएगी और लोकसभा अध्यक्ष के लिए नामांकन भी होगा। इसके लिए भाजपा की वरिष्ठ सांसद सुमित्रा महाजन का नाम लगभग तय है। वह इंदौर से लगातार आठवीं बार सांसद चुनी गई हैं। संसद के विशेष सत्र के दूसरे दिन, गुरुवार को कार्यवाही 11 बजे से शुरू होगी। सबसे पहले 3 सबसे वरिष्ठ सांसद शपथ लेंगे। ये तीन सबसे वरिष्ठ सांसद हैं- बीजद के अर्जुन चरण सेठी, कांग्रेस के बिरेन सिंह ईगती और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष रहे पी ए संगमा। इसके बाद सदन के नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, नेता विपक्ष और कैबिनेट मंत्रियों का शपथ ग्रहण होगा। तब राज्यों के अंग्रेजी वर्णमाला के हिसाब से तमाम सांसदों को शपथ दिलाई जाएगी। संसद का विशेष सत्र 11 जून तक है। विशेष सत्र के बाकी दिनों का कार्यक्रम इस तरह है : -6 जून को लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा। -7 और 8 जून की छुट्टी के बाद 9 जून को राष्ट्रपति का अभिभाषण होना है। -10 और 11 जून को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा होगी और प्रधानमंत्री धन्यवाद ज्ञापन करेंगे। गौरतलब है कि बुधवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर के रूप में शपथ ली थी। इसके बाद दिवंगत केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री गोपीनाथ मुंडे को श्रद्धांजलि देने के बाद लोकसभा गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गई थी।
 मोदी ने दिया खुद की सुरक्षा में कटौती का आदेश, अफसरों से सीधे संपर्क करने को कहा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-05 11:34:26
नई दिल्ली. नेताओं की सुरक्षा पर छिड़ी बहस के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिसाल पेश की है। उन्होंने अपनी सुरक्षा में एक-तिहाई तक की कटौती के निर्देश दिए हैं। अधिकारियों से कहा गया है कि उनकी (मोदी की) वजह से आम जनता को परेशानी नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा, बुधवार को सभी 77 सचिवों के साथ बैठक में मोदी ने उन्‍हें किसी भी जरूरत में उनसे सीधे संपर्क करने को कहा। इसे ब्‍यूरोक्रेसी को प्रभावशाली बनाने की दिशा में एक कदम माना जा रहा है। सुरक्षा एजेंसियों ने इस पर शुरुआती अभ्यास शुरू कर दिया है। हाल ही में औपचारिक मुलाकात के लिए मोदी जब उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी से मिलने गए, तो उनके साथ बड़ा लाव-लश्कर नहीं था। जब उप-राष्ट्रपति भवन पहुंचे तो उनकी सुरक्षा से जुड़े अमले ने वहां खड़े वाहनों को हटाने की कोशिश नहीं की। एक अधिकारी ने बताया कि इससे पहले प्रधानमंत्री कहीं जाते थे तो वहां खड़े सभी वाहनों को हटाया जाता था। जहां जरूरत हो, वहां सुरक्षा से समझौता न करें : बेदी देश की पहली महिला आईपीएस अधिकारी किरण बेदी ने मोदी की पहल की तारीफ की है। उन्होंने कहा कि मोदी क्वांटिटी के बजाय क्वालिटी पर ध्यान दे रहे हैं। यह अच्छी पहल है। उन्हें पता है कि सुरक्षाकर्मियों की बेवजह तैनाती से देश का नुकसान हो रहा है। लगता है कि वे तकनीक आधारित सुरक्षा को बढ़ावा देना चाहते हैं। लेकिन उन्हें ध्यान रखना होगा कि जहां संख्या की जरूरत हो, वहां सुरक्षा से समझौता न हो।
 एमपी के गृह मंत्री का विवादित बयान: कोई बताकर तो रेप करने नहीं जाता
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-05 13:34:56
भोपाल। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री बाबूलाल गौर ने बलात्कार की बढ़ती घटनाओं को लेकर विवादास्पद बयान दिया है। गौर ने यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव का बचाव करते हुए विवादास्पद बयान दिया। गौर ने कहा,कोई बताकर तो रेप करने नहीं जाता है,जो हम उसे पकड़ लें। अगर कोई बताकर रेप करने जाता तो हम उसे पकड़ लेते। अगर कोई घर में आत्महत्या कर लें तो हम क्या कर सकते हैं? बलात्कार एक सामाजिक बुराई है। यह एकांत में होता है। कार्रवाई रिपोर्ट दर्ज होने के बाद ही की जा सकती है। बलात्कार की घटनाओं को रोकने के लिए अखिलेश या मुलायम सिंह यादव क्या कर सकते हैं? पहले भी दिया था विवादित बयान गौर अपनी बेबाक राय देने के लिए जाने जाते हैं लेकिन इस बार अपनी बेबाक राय के कारण वह खुद विवादों में घिर गए है। 19 जनवरी 2014 को गौर ने बयान दिया था कि चेन्नई में महिलाओं के खिलाफ यौन अपराधों की सबसे कम घटनाएं होती है क्योंकि वहां महिलाएं पूरे कपड़े पहनती है और हमेशा मंदिर जाती हैं। गौर ने यह बयान चेन्नई से लौटने के बाद दिया था। गौर ने कहा था कि तमिलनाडु की राजधानी में महिलाओं के खिलाफ क्राइम रेट भोपाल से काफी कम है। 2012 में चेन्नई में महिलाओं के खिलाफ क्राइम रेट 19.32 था। उसी वक्त भोपाल में क्राइम रेट 71.38 था। साल 2012 में पूरे मध्य प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध की दर 71.38 थी। मध्य प्रदेश में हर दिन होते हैं 12 बलात्कार बलात्कार की बढ़ती घटनाओं को लेकर भले ही यूपी की बदनामी हो रही हो लेकिन महिलाओं पर अत्याचार की घटनाओं के मामले में मध्य प्रदेश भी पीछे नहीं है। मध्य प्रदेश में हर रोज 12 बलात्कार होते हैं। मध्य प्रदेश पुलिस की ऑफिशियल वेबसाइट पर ये आंकड़ें उपलब्ध हैं। वेबसाइट पर 2014 के पहले तीन महीनों की घटनाओं का ब्योरा दिया गया है। पिछले 15 महीने से ग्राफ वहीं का वहीं है। इन तीन महीनों में हर दिन 24 महिलाएं छेड़खानी का शिकार हुई। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक इस साल जनवरी से मार्च के बीच बलात्कार के 1,106 मामले दर्ज हुए हैं। जनवरी से मार्च के बीच छेड़खानी के 2,475 मामले सामने आए।
 कोर्ट ने की सुलह की कोशिश, पर गडकरी-केजरीवाल अड़े
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-06 11:29:22
नई दिल्ली। भाजपा नेता नितिन गडकरी द्वारा आप संयोजक अरविंद केजरीवाल के खिलाफ दर्ज कराए गए मानहानि के मुकदमे के सिलसिले में शुक्रवार को दोनों नेता पटियाला हाउस कोर्ट में उपस्थित हुए। कोर्ट ने दोनों के बीच सुलह की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट गोमती मनोचा ने पेशी के दौरान कहा कि आप दोनों बड़े राजनीतिज्ञ हैं। लोगों को आपसे काफी अपेक्षाएं हैं, फिर मुकदमे के चक्कर में क्यों फंस रहे हैं? समझौता क्यों नहीं कर लेते? इस पर गडकरी ने कहा कि यदि केजरीवाल आरोप वापस लेकर माफी मांग लें तो वह केस वापस लेने को तैयार हैं। लेकिन केजरीवाल ने कहा कि मेरे पास इनके खिलाफ भ्रष्टाचार के पर्याप्त सबूत हैं फिर मैं आरोप वापस क्यों लूं? कोर्ट ने कहा कि आप दोनों क्यों इसे इगो पर ले रहे हैं? इस पर गडकरी ने कहा कि सामाजिक जीवन में उनपर आज तक कोई दाग नहीं लगा और यही मेरी सबसे बड़ी पूंजी है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल माफी न मांगें, केवल वह आरोप वापस ले तो मैं केस वापस ले लूंगा, लेकिन केजरीवाल फिर भी नहीं माने। आखिर में कोर्ट ने केजरीवाल पर आज दोपहर एक बजे आरोप तय करने का समय नीयत किया। इसके बाद मामले की सुनवाई शुरू होगी और आप संयोजक को गडकरी के खिलाफ सबूत पेश करना होगा। अगर वह इसमें कामयाब नहीं हुए तो उन्हें सजा भी हो सकती है। गौरतलब है कि इसी मामले में निजी मुचलका भरने से इन्कार करने पर कोर्ट ने केजरीवाल को तिहाड़ जेल भेज दिया था। इसके बाद वह हाई कोर्ट गए और वहां भी उन्हें राहत नहीं मिली। तब आखिर में वह बॉन्ड भरकर जेल से रिहा हुए। मालूम हो कि कुछ माह पूर्व अरविंद केजरीवाल ने नितिन गडकरी के साथ-साथ कई लोगों को सार्वजनिक रूप से भ्रष्ट कहा था। इसी को लेकर गडकरी ने मानहानि का मामला दर्ज कराया था। इससे पहले, गडकरी ऐसे ही मामले में कांग्रेस नेता मनीष तिवारी द्वारा माफी मांगने के बाद केस वापस ले चुके हैं।
 रहने को घर नहीं, जल रहा है देश, आखिर कैसे होगा ये महाआयोजन?
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-06 16:22:10
दुनिया का सबसे चर्चित खेल अपने महाआयोजन की ओर बढ़ रहा है। चार सालों तक फैंस इसका बेसब्री से इंतजार करते हैं, जुनून अपने चरम पर होता है और अपने पसंदीदा खिलाड़ियों की दीवानगी सबके सिर चढ़कर बोलती है, लेकिन इस बार नजारा थोड़ा अजीब है। हम बात कर रहे हैं फीफा फुटबॉल विश्व कप की। इस बार ये महाआयोजन उस देश की धरती पर है जो इस खेल का सबसे दिग्गज गढ़ माना गया है। उम्मीद तो यही थी कि सब अच्छा होगा लेकिन पिछले कुछ महीनों में जो नजारा दुनिया ने तस्वीरों व टीवी के जरिए देखा है उससे कहीं ये टूर्नामेंट पहली बार सन्नाटे की भेंट ना चढ़ जाए ये डर सभी को सता रहा है। वो भी ऐसे समय पर जब अगले साल ओलंपिक की मेजबानी भी इसी देश को करनी है। जल रहा है देश..: यूं तो विश्व आर्थिक स्तर पर ब्राजील को सबसे तेजी से तरक्की करने वाले देशों में माना जाता रहा है लेकिन हाल में जो नजारा देखने को मिला है वो भयानक है। पूरे ब्राजील में लाखों लोग सड़कों पर उतर आए हैं और फुटबॉल के दीवाने इस देश के नागरिक इसी खेल के महाआयोजन का विरोध कर रहे हैं। विरोध भी ऐसा कि बाजारों से लेकर कस्बों तक, हर जगह पर आग धधक रही है, गोलियां चल रही हैं और अराजकता की स्थिति चरम पर है। रात-दिन लाखों की तादाद में लोग, छोटे-बड़े, बूढ़े-बच्चे व महिलाएं भी..सभी उसी खेल का बहिष्कार करने सड़कों पर उतर पड़ते हैं जिसे उन्होंने बचपन से दिल से चाहा है। आखिर क्या है कारण: ब्राजील में जो स्थिति इस समय बनी हुई है उसका एक बड़ा कारण वहां पर ज्यादातर फीसदी लोगों की आर्थिक स्थिति व रहने के लिए लोगों के पास घर ना होने को बताया जा रहा है। फ्लाविया नाम की ऐसी बस्तियों में लोग गुजारा करने को मजबूर हैं जहां अपराध अपने चरम पर है। रोज खून-खराबा और अराजकता इन बस्तियों की पहचान बन चुकी है इसलिए लोग सरकार से रहने के लिए एक बेहतर विकल्प मांग रहे हैं। दूसरी तरफ सरकार ने अरबों रुपये फीफा विश्व की मेजबानी में अब तक बहा दिए हैं और इसका बजट सिर्फ और सिर्फ बढ़ता ही जा रहा है। ये महाआयोजन एक ऐसे कुएं की तरह दिख रहा है जहां पैसा सिर्फ जाता नजर आ रहा है। इसी से नाराज लोग रोज सड़कों पर उतरते हैं, पुलिस से उनकी मुठभेड़ होती है और खराब यादें लेकर हर रात लोग अपने घर लौटते हैं। सबसे अहम बात ये है कि सरकार पैसा बहाती जा रही है और फैंस एक और चीज को लेकर खौफ में है क्योंकि अगले साफ ओलंपिक की मेजबानी भी इसी देश के हाथों में है। 2016 ओलंपिक रियो डी जेनेरियो में होने हैं। टूर्नामेंट के दौरान बवाल का डर: पेले जैसे पूर्व फुटबॉल दिग्गजों ने डर की आशंका जताई है कि जो स्थिति इस समय देश में हैं, ऐसे में फीफा विश्व कप के आयोजन के बीच में किसी बवाल को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। मुमकिन है कि परेशान लोग अपनी बात को सरकार तक पहुंचाने के लिए कोई बड़ा कदम उठाएं जिससे इस खेल के महाआयोजन पर बेहद बुरा असर देखने को मिले। रद्द होने लगे हैं फ्लाइट्स के टिकट: फीफा विश्व कप का मजा लेने दुनिया भर के तमाम देशों से लोग उस देश पहुंचते हैं जहां इसका आयोजन होता है लेकिन इंग्लैंड और अमेरिका जैसे देशों ने तो इस बार सीधे तौर पर अपने देश के फुटबॉल फैंस को मीडिया के जरिए हिदायत देना शुरू कर दी हैं कि ब्राजील की स्थिति कैसी है और वहां जाना कितना नुकसानदेह हो सकता है। ऐसी स्थिति में एक बड़ी संख्या जो कि इस महाआयोजन के लिए ब्राजील जाने को तैयार बैठी थी, वे अपने टिकट कैंसल कराते हुए घर बैठकर मैच देखना बेहतर समझ रहे हैं। खिलाड़ियों में भी है खौफ: सिर्फ फैंस नहीं, इस टूर्नामेंट में खेलने वाले देशों के खिलाड़ी जो कि धीरे-धीरे ब्राजील पहुंच रहे हैं, वो भी इस टूर्नामेंट के इर्द-गिर्द हो रही घटनाओं से परिचित हैं और उनके दिमाग में भी डर पसरा हुआ है। यूं तो वे जानते हैं कि उनके लिए सुरक्षा के अलग इंतजाम होंगे लेकिन फिर भी कुछ बातें ऐसी हैं जिसका खौफ उन्हें खाया जा रहा है। इनमें से जो चीजें चिंता देने वाली हैं, वो हैं उनको मिलने वाली हिदायतें जिसमें ये कहा जा रहा है कि खिलाड़ी अपने होटल से बाहर निकलने से परहेज करें, रात में तो बाहर बिल्कुल मत निकलें, बस्तियों की तरफ जाने से बचें, अपने साथ मच्छरों से बचने की क्रीम हमेशा रखें और खुद को ढक कर रखने वाले कपड़े पहनें क्योंकि देश के कुछ शहर अब तक की सबसे बड़ी डेंगू महामारी से जूझ रहे हैं। ऐसे में खिलाड़ी कैसे अपने खेल पर ध्यान देंगे ये देखने वाली बात होगी।
 स्वर्ण मंदिर में सिखों के दो गुटों के बीच हिंसक झड़प, 16 घायल
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-06 16:23:24
अमृतसर। सिमरनजीत सिंह मान और उनके समर्थकों ने एक बार फिर मयार्दाओं और परंपराओं को तार-तार किया। ऑपरेशन ब्लूस्टार की 30वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान शुक्रवार सुबह अलगाववादी सिख संगठनों व नरम संगठनों के बीच श्री हरिमंदिर साहिब परिसर में जमकर झड़प हुई और पगड़ियां उछली। इस दौरान दोनों पक्षों की ओर से हुई तलवारबाजी में लगभग 16 लोग घायल हो गए। घायलों को एसजीपीसी के अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिनमें से अधिकांश को छुंट्टी दे दी गई है। अलगाववादियों ने टॉस्क फोर्स के एक कर्मी को भी दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। इस दौरान एसजीपीसी ने मीडिया को भी बाहर निकाल दिया। श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ने अलगाववादियों को समझाया। टॉस्क फोर्स व अलगाववादी काफी देर तक आमने-सामने मोर्चा लगाकर खड़े रहे। बता दें, ऑपरेशन ब्लूस्टार की वर्षगांठ पर यहां हर साल इस तरह की झड़पें होती रही हैं। उधर, आज सिख संगठनों ने अमृतसर बंद का ऐलान किया है। इसके मद्देनजर शहर में चप्पे-चप्पे पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। राज्य के अन्य जिलों से भी पुलिस फोर्स मंगाई गई है। बंद का मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है।
 दादरी में भाजपा नेता की हत्या के बाद आगजनी, जिले में धारा 144 लागू
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-08 10:49:55
ग्रेटर नोएडा। भाजपा नेता और दादरी नगर पंचायत की अध्यक्ष गीता पंडित के पति विजय पंडित [37] की शनिवार रात करीब साढ़े आठ बजे दो मोटरसाइकिल पर सवार चार हथियारबंद बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद वे हवाई फायर करते हुए फरार हो गए। इस दौरान बदमाशों की एक बाइक वहीं गिर गई जिसे छोड़ कर वे फरार हो गए। इस मामले में पुलिस ने चार संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस के मुताबिक यह चुनावी रंजिश का मामला नहीं है जबकि परिवार का कहना है कि उन्हें धमकियां पहले से मिल रही थीं और यह चुनावी रंजिश का मामला है। विजय पंडित की हत्या के बाद फैले तनाव को देखते हुए पूरे गौतम बुद्ध नगर जिले में धारा 144 लगा दी गई है। जिलाधिकारी ए वी राजमौली ने पड़ोसी जिलों से लाकर अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया है। पीएसी और आरएएफ को भी पूरे इलाके में तैनात कर दिया गया है। वहीं इससे पहले वारदात से आक्रोशित लोगों ने दादरी जीटी रोड पर जमकर बवाल किया। रोडवेज की बस, ट्रक व टैंकर समेत करीब 16 वाहनों में आग लगा दी। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को दर्जनों राउंड फायर करने पड़े। भीड़ ने भी पुलिस और वाहनों पर पथराव किया। इस दौरान दादरी कोतवाल सहित 15 पुलिसकर्मी घायल हो गए। विजय पंडित भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष भी रहे हैं। लोकसभा चुनाव में उन्होंने पार्टी प्रत्याशी व सांसद महेश शर्मा के पक्ष में प्रचार की कमान संभाली थी। इस दौरान उन्हें चुनाव प्रचार से हटने की धमकी दी गई। न हटने पर जान से मारने की धमकी भी दी गई थी। मामले की लिखित शिकायत उन्होंने दो अप्रैल को दादरी कोतवाली में दी थी। विजय के भाई की जीटी रोड पर परचून की दुकान है। शनिवार को विजय दुकान पर आए थे। रात को वह पैदल ही ब्रह्मापुरी स्थित अपने आवास के लिए लौट रहे थे। तभी आए बदमाशों ने उन पर गोलियां बरसानी शुरू कर दी। गोलियों की आवाज सुनकर जीटी रोड पर अफरा-तफरी मच गई। देखते ही देखते पूरा बाजार बंद हो गया। आसपास के लोगों ने तत्काल उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उन्हें यशोदा अस्पताल रेफर कर दिया गया। वहां पर उनकी मौत हो गई। डॉक्टरों के मुताबिक, भाजपा नेता को एक गोली मुंह, एक छाती व एक कान के पीछे लगी थी।
 दिल्ली पहुंचे चीनी विदेश मंत्री, आज सुषमा स्वराज से करेंगे मुलाकात
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-08 10:52:00
नई दिल्ली । चीन के विदेशमंत्री वांग यी दिल्ली पहुंच चुके हैं। रविवार को सात सदस्यों का प्रतिनिधिमंडल भी उनके साथ दिल्ली आया। चीन के राष्ट्रपति झी जीपिंग के दूत के तौर पर उनकी औपचारिक मुलाकात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वाराज के साथ होगी। इसके साथ ही राष्ट्रपति और सुरक्षा सलाहकार अजीत डोबाल से भी उनकी मुलाकात संभव है। इस यात्रा का मुख्य मकसद नई सरकार के साथ सामंजस्य स्थापित करना बताया जा रहा है। दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच होने वाली बातचीत में सीमा विवाद, नत्थी वीजा और तिब्बतियों को शरण देने जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर बातचीत हो सकती है। शाम चार बजे वांग यी की मुलाकात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से होगी । फिर शाम 6 बजे वे राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मिलेंगे और फिर देर रात अपने देश चीन लौट जाएंगे। 61 वर्षीय वांग यी, अनुभवी राजनयिक हैं। नई सरकार बनने के बाद दो देशों के बीच यह पहली औपचारिक मुलाकात होगी। इससे पहले प्रधानमंत्री का शपथ लेने के बाद चीन के प्रीमीयर ली कीयूकियांग ने फोन पर नरेंद्र मोदी से बातचीत की थी। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हॉग ली के अनुसार भारत में नई सरकार बनी है। विकास की नई उम्मीदों के साथ द्विपक्षीय बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ है। गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी की चार चीन यात्राओं के मद्देनजर बीजिंग के नीति निर्धारक नई आर्थिक और व्यापार नीतियों की उम्मीद कर रहे हैं। इसके साथ ही उनकी नजर प्रतिद्वंदी देशों अमेरिका और जापान को लेकर भारत की क्या नीति होगी, इस पर रहेगी। पिछले वर्ष कार्यभार संभालने के बाद ली कीयूकियांग पहली विदेश यात्रा के तहत भारत आए थे। ऐसे में चीन भी मोदी की पहली विदेश यात्रा पर नजर लगाए हुए है। चीन की मीडिया में जुलाई में प्रस्तावित मोदी की भूटान और जापान यात्रा की काफी चर्चा हो रही है। साथ ही ब्राजील में होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन में मोदी की चीन के राष्ट्रपति झी जीपिंग से मुलाकात संभावित है।
 मोदी भी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ते तो हार जाते: निरूपम
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-08 10:52:55
नई दिल्ली। कांग्रेस सचिव संजय निरुपम ने कहा कि यदि नरेंद्र मोदी कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ते, तो वह भी बुरी तरह हार जाते। मुम्बई उत्तर निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव हार जाने वाले निरुपम ने संवाददाताओं से कहा कि जनकल्याण के लिए कांग्रेस द्वारा लिए गए कई निर्णयों के बावजूद उसकी अगुवाई वाले संप्रग के खिलाफ भयंकर सत्ताविरोधी लहर प्रभावी रही। उनके इस बयान से कांग्रेस में विवाद भी पैदा हो सकता है। उन्होंने कहा, हम दस साल से सरकार में थे और कई कारकों से कांग्रेस के खिलाफ लोगों में गुस्सा था। उन्होंने कहा, कांग्रेस के विरुद्ध ऐसी प्रबल भावना थी कि यदि नरेंद्र मोदी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ते तो वह भी बुरी तरह हार जाते। हालांकि निरुपम ने इस बात पर बल दिया कि लोकसभा चुनाव जैसे नतीजे महाराष्ट्र जैसे राज्य में फिर नहीं आएंगे जहां इस साल के आखिर तक विधानसभा चुनाव होने हैं। हाल के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 282 सीटें जीती जबकि कांग्रेस 44 सीटों पर सिमट गई। निरुपम ने कहा, यह चुनाव भिन्न था। यूपीए के दस साल के दौरान कुछ ऐसे निर्णय लिए गए जिसके कारण लोगों में नाराजगी थी। महंगाई और भ्रष्टाचार भी मुद्दे थे जिसे भाजपा ने बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया। लेकिन हर चुनाव एक सीख होती है।
 पीएचडी के बाद बना चाय वाला, जेएनयू कैंपस में खोला ढाबा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-08 10:53:55
नई दिल्ली, [अरविंद कुमार द्विवेदी]। कोई भी काम कम करना हमें हरगिज नहीं आता। पीएचडी करने के बाद जेएनयू कैंपस में मामू ढाबा शुरू करने वाले वाले डॉ. मोहम्मद शहजाद इब्राहिम ने इस जुमले को अपनी जिंदगी में इस कदर उतारा कि आज उनके पास पैसा, शोहरत सब कुछ है। पीएचडी चाय वाले के नाम से मशहूर इब्राहिम का मानना है कि जो भी करो, बेहतर करो। उनके विजन को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में भी उन्हें आमंत्रित किया गया था। इब्राहिम 1993 में जब बिहार के शेखपुरा से दिल्ली आए थे तो उनके नाम के आगे डॉ. नहीं था, लेकिन उनका एक विजन था। जो भी करो, सबसे अच्छा करो। उन्होंने इसे अपने जीवन में इस कदर उतार लिया कि जेएनयू से उर्दू में एमए, एमफिल करने के बाद उन्होंने पीएचडी की। पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के बाद हैदराबाद में एक मीडिया समूह में करीब दो साल काम किया। फिर दिल्ली में उसी चैनल में संवाददाता रहे। रेडियो में उद्घोषक भी रहे। लेकिन कहीं भी उनका मन नहीं लगा। हमेशा ऐसा लगता था जैसे जेएनयू कैंपस उन्हें बुला रहा है। इब्राहिम को खाना बनाने-खिलाने का बहुत शौक था। वर्ष 2000 में उन्होंने जेएनयू कैंपस में ही मामू ढाबा शुरू किया। इब्राहिम बताते हैं, यह पता चलते ही उनके गाइड प्रोफेसर नसीर अहमद खान ने कहा, ढाबा ही चलाना था तो पीएचडी क्यों किया। तमाम दोस्तों के अलावा घरवालों को भी इब्राहिम का यह फैसला पसंद नहीं आया। इस बिजनेस का कोई पारिवारिक अनुभव भी नहीं था। बहुत कम पैसे में शुरुआत की और सफलता की सीढि़यां चढ़ते गए। शुरू में कुछ मुश्किलें भी आईं। जैसे कैंपस में पहले से ही मशहूर गंगा ढाबा। फिर भी उन्होंने एक बार कदम बढ़ा दिया तो आज तक बेहतर करते आ रहे हैं। इब्राहिम को इस बात का मलाल है कि अक्सर हमें दुनिया के हिसाब से चलना पड़ता है। इब्राहिम कहते हैं समोसा हम बनाते हैं, उसकी गुणवत्ता हम तय करते हैं, तो उसका दाम हम पड़ोसी दुकानदार के हिसाब से कैसे तय करेंगे। लेकिन हमें ऐसा करना पड़ता है। क्योंकि लोग सिर्फ दाम की तुलना करते हैं, क्वालिटी की नहीं। इब्राहिम अपने इस विजन पर काम भी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि मुझे कई बार नौकरी के प्रस्ताव मिले, लेकिन बार-बार वही, सबसे बेहतर वाली बात दिमाग में आ जाती। हालांकि मेरी योग्यता के अनुसार कोई नौकरी मिलती तो उसे करने में मुझे कोई गुरेज भी नहीं था, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।
 मंडी हादसा लाइव: 5 शव बरामद, हिंदी नहीं समझ पाए पर्यटक
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-09 10:55:41
मंडी। मंडी के थलौट में हिमाचल प्रदेश बिजली बोर्ड की 126 मेगावाट क्षमता के लारजी हाइड्रो प्रोजेक्ट के डैम से अचानक पानी छोड़ने से करीब 25 पर्यटक ब्यास नदी में बह गए। पानी में बहे पर्यटक आंध्र प्रदेश के हैदराबाद के रहने वाले हैं। इनमें अधिकांश बीएनआर इंजीनियरिंग कॉलेज हैदराबाद के बीटेक के छात्र हैं। नदी में तलाशी के बाद अब पर्यटकों के शव मिलने शुरू हो गए हैं। खबरों के मुताबिक अब तक 5 लोगों के शव नदी से निकाले जा चुके हैं, जिसमें 3 पुरुष और 2 महिलाएं हैं। ऐसा बताया जा रहा है कि हिंदी भाषा और सीटी की आवाज नहीं समझ पाने की वजह से वे सावधान नहीं हो पाए। वहीं, हादसे के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह घटनास्थल पर पहुंचे और एक प्रत्यक्षदर्शी ने उन्हें पूरी घटना की जानकारी दी। इसके बाद मुख्यमंत्री ने घटना की जांच के आदेश भी दिए। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी, आंध्र प्रेदश के गृह मंत्री थोड़ी देर में घटनास्थल पर पहुंचने वाले हैं। इसके अलावा हादसे की जानकारी और मदद के लिए टॉल फ्री नंबर भी जारी किया गया है। 040-23202813 और 9440815887 पर फोन कर हादसे जुड़ी जानकारी मालूम की जा सकती है। दरअसल हादसा रविवार शाम को हुआ, जब थलौट में ब्यास नदी में कम पानी होने के कारण पर्यटकों का एक दल फोटो खिंचवाने व नहाने के लिए नदी में उतरे थे। लारजी डैम से अचानक भारी मात्रा में पानी छोडने से नदी में उतरे पर्यटकों को संभलने व बाहर निकलने का मौका नहीं मिला और वे तेज बहाव में बह गए। हादसे की सूचना मिलते ही मंडी व कुल्लू जिला प्रशासन तुरंत हरकत में आ गया। इस घटना से गुस्साए लोगों ने मनाली-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर थलौट में चक्का जाम कर बिजली बोर्ड के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। राजमार्ग पर यातायात जाम होने से राहत दल व प्रशासनिक अधिकारियों को मौके पर पहुंचने पर काफी परेशानी हुई। प्रशासन नदी में बह गए पर्यटकों की तलाशी अभियान चला रही है। बताया जा रहा है कि स्टेट लोड डिस्पेच सेंटर शिमला ने रविवार देर शाम लारजी हाइड्रो प्रोजेक्ट प्रबंधन को विद्युत उत्पादन बंद करने को कहा। प्रोजेक्ट में विद्युत उत्पादन बंद होने तथा ब्यास व पार्वती नदी में अचानक भारी मात्रा में पानी आने से लारजी डैम का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया। संभावित खतरे को देख प्रबंधन ने डैम के सभी गेट खोल दिए। डैम से कुछ किलोमीटर नीचे लारजी परियोजना की कॉलोनी के पास पर्यटक ब्यास में उतरे हुए थे जो तेज बहाव में बह गए। मौके पर राजमार्ग के किनारे पर्यटकों की दो बसें रुकी थीं। इनमें से कई छात्र पानी कम होने के कारण नदी में उतर गए थे। असल में बिजली उत्पादन के दौरान लारजी डैम व थलौट के बीच ब्यास में पानी नाममात्र होता है। पर्यटक मनाली घूमने जा रहे थे। हादसे की सूचना के बाद डीएसपी (मुख्यालय) राजेश कुमार व एडीएम पंकज राय घटनास्थल पर पहुंच गए थे। एसएलडीसी के आदेश पर बंद हुआ उत्पादन स्टेट लोड डिस्पेस सेंटर शिमला के आदेश के बाद लारजी हाइड्रो प्रोजेक्ट में विद्यु़त उत्पादन बंद किया गया था। इससे बांध में पानी का जलस्तर बढ़ गया था। नदी किनारे चेतावनी बोर्ड लगे हुए हैं। बांध को खतरा देख पानी छोड़ा गया था। मनप्रीत सिंह, अधिशाषी अभियंता, लारजी प्रोजेक्ट उत्पादन
 कराची एयरपोर्ट पर फिर से फायरिंग शुरू, 10 आतंकी हो चुके हैं ढेर
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-09 10:57:14
कराची। पाकिस्तान की आर्थिक राजधानी कराची के जिन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर रविवार की देर रात भारी हथियारों से लैस आतंकियों ने हमला बोल दिया। आतंकियों के हमले में 13 सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई। इसके साथ सभी 10 आतंकवादी भी मारे गए। इस तरह से कुल 23 लोगों की मौत हो चुकी है। पाकिस्तान के अधिकारियों ने सोमवार सुबह ऑपरेशन खत्म होने का एलान कर दिया था, लेकिन पाकिस्तान के एक समाचार चैनल के मुताबिक एयरपोर्ट पर फिर से फायरिंग शुरू हो गई है। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि अभी भी अंदर तीन आंतकी बचे हुए हैं। आतंकियों के पास से हैंड ग्रेनेड, रॉकेट लॉन्चर, क्लाशनिकोव राइफल और कुछ आत्मघाती जैकेट भी बरामद हुए हैं। पाक फौज के सूत्रों का कहना है कि सभी आतंकी उज्बेक मूल के थे। और इनकी उम्र 20 से 25 साल के बीच बताई जा रही है। पूरी रात पाकिस्तानी फौज और आतंकियों के बीच गोलीबारी होती रही। और आखिरकार सुबह 5 बजे के करीब सेना ने जानकारी दी कि सभी आतंकियों को मार गिराया गया है। आतंकियों के खिलाफ ये ऑपरेशन करीब 6 घंटे तक चला। सूत्रों का कहना है कि आतंकी किसी विमान को अगवा करने की फिराक में थे, लेकिन वो अपने मंसूबों में नाकाम रहे। राहत की बात ये रही कि कोई मुसाफिर इस आतंकी वारदात का शिकार नहीं हुआ। पाक फौज ने ये भी साफ किया कि इस हमले में किसी विमान को कोई नुकसान नहीं हुआ है। फौज के मुताबिक एयरपोर्ट पर आग की जो तस्वीरें दिख रही थीं वो एक इमारत में लगी आग की थीं। इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशंस के प्रवक्ता ने बताया कि सेना, एएसएफ कमांडो, पारामिलिट्री रेंजर्स और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में पुराने एयरपोर्ट को सुरक्षित किया गया। सिंध के स्वास्थ्य मंत्री सघीर अहमद के मुताबिक इस आतंकी हमले में 13 लोग मारे गए जिसमें एएसएफ के जवान, इंजीनियर, सीएए के जवान और पुलिस अधिकारी शामिल हैं। इसके अलावा एक दर्जन घायल लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक अभी तक किसी आतंकवादी संगठन ने इसकी जानकारी नहीं ली है। रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने हमले को नीच हरकत करार देते हुए कहा कि ये दूसरी बार है जब आतंकियों ने सार्वजनिक और महत्वपूर्ण स्थानों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि लेकिन आतंकी अपने नापाक मंसूबों में कामयाब नहीं हो सके। आसिफ ने कहा कि इससे पहले मई 2011 में भी तहरिक-ए-तालिबान के 15 आतंकियों ने कराची के मेहरान नवल एयरबेस में हमला कर 18 लोगों की जान ले ली थी और हवाई विमानों को भी नुकसान पहुंचाया था। हाफिज सईद का भारत पर निशाना कराची में जिन्ना हवाईअड्डे पर हुए हमले के बाद आतंकी हाफिज सईद ने एक बार भारत के खिलाफ जहर उगला है। हाफिज ने हमले की निंदा करते हुए इसके पीछे भारत का हाथ बताया है। सईद ने कहा कि ये नापाक हरकत भारत सरकार की ओर से की गई है और इसके पीछे मोदी सरकार की नई टीम की साजिश है। सईद ने पाकिस्तान सरकार से इस आतंकी हमले के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।
 रविवार से होगी इन दोनों की परीक्षा, क्या हो पाएंगे 2015 के लिए पास?
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-09 10:59:19
टीम इंडिया 2015 में अपने विश्व कप खिताब की रक्षा करने के लिए मैदान पर उतरेगी। 2011 से लेकर अब तक भारतीय क्रिकेट टीम में कई बदलाव हुए हैं और धौनी की कप्तानी में टीम ने इस दौरान कई उतार-चढ़ाव भी देखे हैं। अब 15 जून से बांग्लादेश में तीन वनडे मैचों की सीरीज के लिए सुरेश रैना की कप्तानी में एक युवा टीम अपनी अंतरराष्ट्रीय काबीलियत को दर्शाने उतरेगी और इस टीम में कई ऐसे युवा धुरंधर मौजूद होंगे जो अगले साल होने वाले विश्व कप को नजर में रखते हुए भारतीय टीम के अभियान का हिस्सा बनना चाहेंगे। बांग्लादेश जाने वाली टीम में यूं तो कई चेहरे ऐसे हैं जिनसे उम्मीदें रहेंगी, लेकिन दो नाम ऐसे भी हैं जिन्हें हाल ही में आइपीएल के दौरान हमने जलवा बिखेरते देखा, सवाल यही है कि क्या पहली बार भारतीय टीम की जर्सी पहनकर ये दोनों खिलाड़ी आइपीएल का जलवा दोहरा पाएंगे और क्या 2015 के विश्व कप अभियान में धौनी की रणनीतियों के हिसाब से टीम में जगह बना पाएंगे? 1. केदार जाधव: महाराष्ट्र से आने वाले 29 वर्षीय इस खिलाड़ी को यूं तो अपने क्रिकेट करियर में काफी लंबे इंतजार के बाद देश से खेलने का मौका मिलने वाला है। केदार ने आइपीएल के तकरीबन हर सीजन में अपनी धुआंधार बल्लेबाजी की शैली से फैंस का दिल जीता और घरेलू क्रिकेट में भी अच्छा प्रदर्शन करते हुए उन्होंने चयनकर्ताओं पर भी प्रभाव छोड़ा। आइपीएल सीजन-7 में वो दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम का हिस्सा थे और दिल्ली की टीम के बेहद खराब सफर के दौरान भी इस खिलाड़ी ने 10 मैचों में 149 रन बनाए जिसमें पांच पर वो नॉट आउट लौटे। दिल्ली की टीम अपनी खराब रणनीति के वजह से केदार का भरपूर फायदा नहीं उठा सकी और अंतिम ओवरों में बल्लेबाजी करने आने वाले केदार को कम ही मौका मिल सका लेकिन जो थोड़ा बहुत मौका मिला, उससे उन्हें सब पर प्रभाव छोड़ा, नतीजतन आज वो टीम इंडिया की नीली जर्सी को पहनने के लिए तैयार हैं। बांग्लादेश में इस धुरंधर से काफी उम्मीदें रहेंगी। अब तक वो प्रथम श्रेणी क्रिकेट के 52 मैचों में 50.28 की औसत से 3671 रन बना चुके हैं जिसमें 10 शतक और 13 अर्धशतक शामिल हैं। 2. अक्षर पटेल: केदार जाधव ने बिल्कुल उलट, गुजरात से आने वाले 20 वर्षीय अक्षर पटेल को कम उम्र में भारतीय टीम की जर्सी पहनने का मौका मिलने वाला है। पहले मुंबई इंडियंस की टीम की तरफ से आइपीएल में जलवा बिखेरा और इस बार किंग्स इलेवन पंजाब की टीम में शामिल होते ही जैसे उनमे अलग ही चमक नजर आई। अक्षर ने आइपीएल-7 के दौरान सिर्फ अपनी शानदार स्पिन गेंदबाजी से फैंस और चयनकर्ताओं को प्रभावित नहीं किया बल्कि एक-दो मौकों पर उन्होंने बल्ले से भी कमाल दिखाया। इस तरह चयनकर्ताओं ने एक ऑलराउंडर के तौर पर उन्हें बांग्लादेश में आजमाने की कोशिश की है। अक्षर आइपीएल-7 में विकेट लेने के मामले में छठे स्थान पर रहे। उन्होंने 17 मैचों में 6.13 की इकॉनमी रेट से 17 विकेट हासिल किए। जबकि इस दौरान उन्होंने 8 पारियों में बल्लेबाजी की और 62 रन बनाए। इस दौरान उनकी नाबाद 42 रनों की एक पारी ने पंजाब को जीत दिलाने में भी अहम भूमिका निभाई। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में ये खिलाड़ी अब तक महज 8 मैच ही खेला है जिसमें उन्होंने 2.10 के शानदार इकॉनमी रेट से 29 विकेट चटकाए हैं और इस दौरान 401 रन भी बनाए हैं और उनका बेस्ट रहा नाबाद 69 रन। आने वाले दिनों में जब टीम इंडिया को अश्विन का साथ देने के लिए आगे एक अच्छे स्पिनर की जरूरत है तो भला इस ऑलराउंडर से कैसे परहेज किया जाता। अब तो अक्षर को भी बस बांग्लादेश दौरे पर धमाल मचाने का इंतजार ही होगा।
 लाइव: बस थोड़ी देर में मोदी सरकार का रोड मैप पेश करेंगे राष्ट्रपति
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-09 11:06:13
नई दिल्ली। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी सोमवार सुबह 11 बजे संसद के सेंट्रल हॉल में संयुक्त सत्र के दौरान अपने संबोधन में नरेंद्र मोदी सरकार की प्राथमिकताओं का जिक्र करेंगे। इस दौरान राष्ट्रपति केंद्र में नवगठित मोदी सरकार के एजेंडे को संसद तथा राष्ट्र के समक्ष प्रस्तुत करेंगे। इस दौरान राष्ट्रपति की ओर से यह बताया जाएगा कि विकास को लेकर नई सरकार की क्या योजना है? इसके अलावा महंगाई काबू करने के लिए क्या किया जाएगा? 16वीं लोकसभा के पहले अभिभाषण के दौरान राष्ट्रपति मोदी सरकार ने 100 दिन के एजेंडे का जिक्र कर सकते है। सूत्रों की मानें तो राष्ट्रपति का अभिभाषण पत्र 35 पन्नों का हो सकता है। इस दौरान सरकार विदेश नीति पर अपना रुख साफ करेगी। साथ ही कालेधन की वापसी पर भी चर्चा हो सकती है। इस दौरान पूरे देश की नजर मोदी सरकार के उस एजेंडे पर रहेगी। जिसके जरिये नई सरकार अपना नजरिया पेश करेगी। 100 दिनों का एजेंडा आएगा सामने: राष्ट्रपति के इस अभिभाषण में मोदी सरकार का 100 दिनों का एजेंडा सामने आएगा। इसके साथ ही ये भी पता चल जाएगा कि देश के अच्छे दिन लाने के लिए मोदी सरकार क्या-क्या करने जा रही है। भ्रष्टाचार मुक्त बनेगा भारत ! नरेंद्र मोदी ने अपनी चुनावी रैलियों में ही भ्रष्टाचार की बात करते आए हैं। पीएम का पद संभालते ही उन्होंने अपने मंत्रियों और सांसदों को संदेश दे दिया कि उन्हें क्या नहीं करना है। लिहाजा, नई सरकार के लिए भ्रष्टाचार से लड़ना बड़ी चुनौती होगी। कैसे होगा भारत का विकास ? मोदी ने उस वक्त देश की कमान संभाली जब देश चौतरफा मुसीबतों से घिरा था। अब चुनौती है एक देश को ऐसे राह पर लाने की जिसपर चलकर देशवासियों को सही शिक्षा और स्वास्थ्य का लाभ मिल सके। पटरी पर लौटेगी अर्थव्यवस्था ? अभी मोदी ने सत्ता की बागडोर भी नहीं संभाली थी कि मौसम विभाग ने परेशान कर देने वाली घोषणा कर दी। अनुमान के मुताबिक इस बार ना तो अच्छी बारिश होगी और उसके बिना अच्छी फसल भी नहीं हो पाएगी। ऐसे में मोदी का प्लान बेहद अहम होगा। इससे पहले अभिभाषण की पूर्वसंध्या पर ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरकार के नीतिगत रोडमैप का खाका खींच दिया। अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कार्यसंस्कृति और नीतिगत बदलाव के स्पष्ट संकेत देते हुए संभावित उपायों का जिक्र किया।
 
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-11 10:36:56
 पासपोर्ट बनवाना है तो अब पोस्ट ऑफिस भी जाइए
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-11 11:01:21
बरेली। विदेश मंत्रालय जल्द ही पासपोर्ट आवेदकों को बड़ी सहूलियत देने जा रहा है। अब पोस्ट ऑफिस से आवेदकों को पासपोर्ट के लिए ऑनलाइन आवेदन करने का मौका मिलेगा। क्षेत्रीय सहायक पासपोर्ट अधिकारी एनसी विष्ट ने बताया कि स्पीड पोस्ट सेंटर वाले पोस्ट ऑफिस में यह सुविधा मिलेगी। यह पोस्ट ऑफिस इनफार्मेशन सर्विस सेंटर के तहत मिलेगी। आवेदक की फीस भी पोस्ट ऑफिस में जमा होगी। पासपोर्ट सेवा केंद्र पर आवेदकों को दस्तावेज, फोटो और अंगुलियों के निशान देने के लिए ही जाना होना होगा। इसके लिए सभी पासपोर्ट सेवा केंद्रों से पोस्ट ऑफिस की सूची मांगी गई है। फिलहाल यह योजना पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर बरेली पासपोर्ट सेवा केंद्र रीजन में जुलाई से शुरू हो रही है। उसके बाद यह योजना पूरे देश में लागू की जाएगी। गौरतलब है कि जिलों के पासपोर्ट सेवा केंद्र बंद होने पर मंत्रालय ने हर तहसील में पासपोर्ट आवेदन के लिए ऑनलाइन काउंटर खोलने पर विचार किया था। लेकिन योजना मूर्तरूप नहीं ले पाई।
 प्रधानमंत्री ने 60 दिन में मांगा मंत्रियों से संपत्तियों का ब्योरा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-11 11:10:51
नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी कैबिनेट के लिए लक्ष्मण रेखा तय कर दी है। मोदी ने सभी मंत्रियों से दो महीने के भीतर अपनी संपत्ति, देनदारियों और व्यावसायिक हितों का ब्योरा सौंपने को कहा है। भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद पर जीरो टॉलरेंस का संकेत पहले ही दे चुके मोदी ने अपने सरकारी कुनबे से साफ कह दिया है कि उन्हें मंत्री बनने से पहले के सभी व्यावसायिक संपर्क मसलन मालिकाना हक, प्रबंधन में हिस्सेदारी खत्म करने होंगे। इतना ही नहीं मोदी ने काम तेजी और निष्पक्षता से कराने के लिए मंत्रियों से अफसरों के काम में अनावश्यक दखलंदाजी कर उन्हें अनुचित ढंग से प्रभावित करने की कोशिश नहीं करने के निर्देश जारी किए हैं। केंद्रीय मंत्रियों के लिए गृह मंत्रालय की ओर से तैयार की गई इस आचार संहिता के अनुपालन की निगरानी खुद प्रधानमंत्री मोदी करेंगे। आचार संहिता के अनुसार मंत्रियों को सुनिश्चित करना होगा कि उनके परिवार का कोई भी सदस्य उनके मंत्रालय में सामान या सेवाओं की आपूर्ति से जुड़ा न हो। मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों की पत्नियों व आश्रितों को विदेशी सरकारों के अधीन किसी भी तरह की नौकरी, चाहे व विदेश में हो या भारत में ज्वाइन करने से पहले प्रधानमंत्री की अनुमति लेनी होगी। अगर वे पहले से इस तरह की नौकरी में हैं तो प्रधानमंत्री को सूचित कर उनके निर्णय का इंतजार करना होगा। वैसे सामान्य तौर विदेशी मिशनों में इनकी नौकरी पर पाबंदी रहेगी। मंत्रियों को अपनी व अपने परिजनों की सभी अचल संपत्तियों, शेयरों, ऋणपत्रों, नकदी, आभूषण की अनुमानित कीमत का ब्योरा देना होगा। मंत्री रहने तक हर साल 31 अक्टूबर तक ये सभी ब्योरे उपलब्ध कराने होंगे। मंत्रियों को सरकार से अचल संपत्ति खरीदने या उसे बेचने का भी अधिकार नहीं होगा। केवल अनिवार्य मामलों में सरकार उनकी संपत्ति अधिग्रहीत कर सकती है। मंत्री न तो कोई कारोबार शुरू कर सकेंगे और न उसमें शामिल हो सकते हैं। उनके परिजनों व आश्रितों के भी ऐसे किसी व्यवसाय में शामिल होने पर रोक होगी जो सरकार को सामानं/सेवाओं की आपूर्ति, खासकर सरकारी लाइसेंस, परमिट, कोटा, लीज आदि से संबंधित हों। अगर मंत्री का व्यावसायिक हित या प्रबंधन में हिस्सेदारी है तो पति/पत्नी को छोड़ परिवार के उस वयस्क सदस्य को हस्तांतरित करना होगा, जो मंत्री बनने से पहले से व्यवसाय से जुड़ा था। पब्लिक लिमिटेड कंपनी के शेयरों के मामले में मंत्रियों को उन कंपनियों के शेयर बेचने होंगे जिनमें प्रधानमंत्री को लगे कि इससे कर्तव्यपालन व प्रतिष्ठा प्रभावित हो सकती है। मंत्री के परिवार का कोई सदस्य कोई व्यवसाय शुरू करता है या किसी कंपनी के प्रबंधन में शामिल होता है तो उसे प्रधानमंत्री को इसकी सूचना देनी होगी। कोई भी मंत्री स्वयं या परिजन के जरिए किसी भी तरह का राजनीतिक, चेरिटेबल या अन्य योगदान अपने लिए प्राप्त नहीं करेगा। अगर उसे किसी पंजीकृत सोसाइटी, चेरिटेबल निकाय, सरकारी मान्यता प्राप्त अधिकरण या राजनीतिक दल के लिए राशि या चेक प्राप्त होता है तो उसे तुरंत उस संगठन के विशिष्ट पदाधिकारी को भेजना होगा। इन संगठनों के अतिरिक्त मंत्री फंड जुटाने के अन्य किसी भी तरह के कार्य में शिरकत नहीं करेंगे। अपने नजदीकी रिश्तेदारों के अलावा मंत्री किसी से भी मूल्यवान तोहफा प्राप्त नहीं करेंगे। मंत्री व उनके परिजन ऐसे किसी व्यक्ति से भी तोहफा या कर्ज नहीं लेंगे, जिसके साथ उनकी सरकारी डीलिंग हो और कामकाज प्रभावित होने का अंदेशा हो। विदेश दौरों पर मंत्री विदेशी नेताओं से उपहार ले सकते हैं। प्रतीकात्मक प्रकृति के स्वार्ड ऑफ ऑनर जैसे सभी उपहार मंत्री अपने पास रख सकते हैं, जबकि गैर प्रतीकात्मक प्रकृति के 5000 रुपये तक के उपहार ही लेने का उन्हें अधिकार होगा। मंत्री यथासंभव सर्किट हाउस, डाक बंगला या किफायती सरकारी होटलों में ठहरेंगे।
 
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-11 11:25:02
 अब राजधानी व प्रीमियम ट्रेनों में पड़ेगा छापा, होगी कड़ी कार्रवाई
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-14 12:08:07
लखनऊ, जासं। अब राजधानी, प्रीमियम, दुरंतो, संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में भी रेल मंत्रालय ने टीटीई स्क्वॉयड द्वारा औचक छापे मारने के निर्देश दिए हैं। ऐसे में इन ट्रेनों के पैंट्री कार व टीटीई की सीट पर सफर करने वाले यात्रियों से जहां यह दस्ता जुर्माना वसूलेगा वहीं ट्रेन में चलने वाले स्टाफ पर कार्रवाई भी करेगा। रेलवे बोर्ड के निदेशक यातायात विपणन विक्रम सिंह ने सभी रेलवे जोनों को भेजे गए दिशा निर्देश में यह स्पष्ट किया है। मेल व एक्सप्रेस ट्रेनों को जैसे जांचा जाता है, उसी तरह इन ट्रेनों में भी जोनल रेलवे अपने दस्ते द्वारा औचक छापे डलवाए। रेलवे सूत्रों की मानें तो यह सब इसलिए किया जा रहा है कि क्योंकि रेलवे की लाख कोशिशों के बाद भी रेलवे स्टाफ रेलवे को नुकसान पहुंचा रहा है। चंद पैसे लेकर यात्रियों को ट्रेन के पैंट्रीकार, खाली बर्थो पर बैठाकर सफर कराया जा रहा है। इस पर नकेल लगाने के लिए नियमित रूप से इन ट्रेनों को जांचने के निर्देश दिए गए हैं। ऐसे आदेश रेल मंत्रालय द्वारा सभी जोनल रेलवे के मुख्य वाणिज्य प्रबंधकों को भेजे गए हैं। रेलवे बोर्ड की मंशा है कि जब उक्त ट्रेनों में सफर करने वाला यात्री अधिक पैसा खर्च करता है तो ऐसे में उसे परेशानी क्यों उठानी पड़े। गौरतलब है कि प्रीमियम ट्रेन में प्रतिक्षा सूची का टिकट जारी ही नहीं होता है। ऐसे में इन ट्रेनों में अगर कोई यात्री रेलवे स्टाफ की सांठगांठ के कारण सफर करते हुए पाया जाएगा तो रेलवे कार्रवाई करेगा। डीसीएम का आरक्षण केंद्र पर छापा: पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल की मंडल वाणिज्य प्रबंधक (डीसीएम) का बादशाहनगर आरक्षण केंद्र पर औचक छापा पड़ने से हड़कंप मच गया। इससे आरक्षण केंद्र में पहले से खड़े दलाल भाग खड़े हुए। डीसीएम को यात्रियों द्वारा सूचना मिल रही थी कि आरक्षण केंद्रों में तत्काल को लेकर कुछ गड़बड़ी चल रही है। इसकी जांच करने वह स्वयं अपनी टीम के साथ आरक्षण केंद्र पर पहुंची थी। यात्रियों ने डीसीएम नीतू से शिकायत करते हुए कहा कि तत्काल टिकटों में पारदर्शिता नहीं है। रेल सुरक्षा बल के कर्मचारी भी अभद्रता करते हुए नियमित रूप से तत्काल टिकट निकलवाते हैं। मना करने पर गाली गलौज तक करने से बाज नहीं आते। यही नहीं दलालों की सांठगांठ से जो चौबीस घंटे पहले लाइन लगाता है उसका नंबर भी तीसरा व चौथा होता है। डीसीएम नीतू ने आश्वासन दिया कि अब ऐसा नहीं होगा। वह निरीक्षण करेंगी साथ ही स्टाफ को भी अलग-अलग आरक्षण केंद्रों में लगाया जाएगा।
 लाइव: प्रधानमंत्री विक्रमादित्य पर, नौसेना की ताकत का निरीक्षण कर रहे
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-14 12:10:16
गोवा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कुछ ही समय बाद आइएनएस विक्रमादित्य को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इसके लिए मोदी आइएनएस विक्रमादित्य पर पहुंच गए हैं। मोदी नौसेना की ताकत का निरीक्षण कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मिग-29 के विमान के पायलट सीट पर बैठे। इससे पहले गोवा पहुंचने पर उन्हें नेवल बेस पर नौसेना की ओर से गार्ड ऑफ ऑनर पेश किया गया। प्रधानमंत्री को हेलीकॉप्टर से विक्रमादित्य पर पहुंचाया गया। प्रधानमंत्री चार घंटे आइएनएस विक्रमादित्य पर रहेंगे। आज पूरे दिन प्रधानमंत्री गोवा में ही रहेंगे। आइएनएस विक्रमादित्य के नौसेना में शामिल होने के बाद भारत ऐसे देशों में शामिल हो जाएगा जिनके पास दो दो एयरक्राफ्ट कैरियर हैं। इससे नौसेना की ताकत बहुत बढ़ जाएगी। करीब डेढ़ दशक पहले प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भारतीय नौसेना को उन्नत विमानवाहक पोत से लैस करने का सपना देखा था। इसी कड़ी में राजग सरकार ने जनवरी, 2004 में रूस से करीब साढ़े पांच हजार करोड़ रुपये की लागत वाले विमानवाहक पोत एडमिरल गोर्शकोव की खरीद के सौदे पर दस्तखत किए थे। संयोग है कि अटल के इस सपने को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी साकार करेंगे। शनिवार को मोदी आइएनएस विक्रमादित्य बनकर भारत आए विमानवाहक पोत गोर्शकोव को देश के नाम समर्पित करेंगे। जनवरी में भारत आए इस विमानवाहक पोत को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह किन्ही कारणों से अपने कार्यकाल में राष्ट्र को नहीं सौंप सके थे। भारतीय नौसेना ने नवंबर, 2013 में रूस के सेवर्दमाश्क में रूसी विमानवाहक पोत को हासिल किया था। रूसी मूल का यह युद्धपोत यूं तो 2008 में ही भारत को मिल जाना था, लेकिन मूल्यवृद्धि और तकनीकी कारणों से पांच साल की देरी हो गई। भारत ने यह युद्धपोत 15 हजार करोड़ की लागत से हासिल किया। भारत का यह सबसे बड़ा नौसैनिक युद्धपोत आइएनएस विक्रमादित्य 14 जून को अपनी पूरी सैन्य ताकत के साथ प्रधानमंत्री को सलामी देगा। देश के पंद्रहवें प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी संभालने के बाद पहली बार किसी सैन्य कार्यक्रम में शिरकत कर रहे मोदी की मौजूदगी में विक्रमादित्य पर तैनात मिग-29 के लड़ाकू विमान और पश्चिमी नौसैनिक कमान के युद्धपोत शक्ति प्रदर्शन करेंगे। चलते-फिरते शहर जितने बड़े इस आधुनिकतम युद्धपोत पर प्रधानमंत्री चार घंटे रहेंगे। समंदर में एक दिन बिताने के लिए शनिवार सुबह गोवा पहुंच रहे मोदी को गार्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा। साथ ही अरब सागर में खड़े इस युद्धपोत पर लड़ाकू विमानों की उड़ान व लैंडिंग और विमानवाहक जहाज के कैरियर बैटलग्रुप ऑपरेशन की ताकत भी पीएम को दिखाई जाएगी। दिल्ली और तलवार श्रेणी के ध्वंसक पोत और नवीनतम निगरानी व पनडुब्बीरोधी विमान पीए-8आइ भी अपनी ताकत दिखाएंगे। नौसैनिक शक्ति प्रदर्शन में विमानवाहक पोत विराट के साथ ही सीहैरियर, आइएल-38, टीयू 142 एम विमान और सीकिंग, कामोव जैसे हेलीकॉप्टर भी अपने करतब दिखाएंगे। प्रधानमंत्री गोवा से शनिवार को ही दिल्ली लौट आएंगे। विक्रमादित्य की खूबियांलंबाई- 282 मीटर, चौड़ाई 60 मीटर यानी कुल तीन फुटबॉल मैदानों के बराबर ऊंचाई- निचले छोर से उच्चतम शिखर तक 20 मंजिल और वजन 44500 टन इस्पात का तैरता शहर एक बार में 1600 से अधिक लोग होंगे तैनात, 8000 टन वजन ले जाने में सक्षम 181300 किमी के दायरे में किसी सैन्य अभियान के संचालन में सक्षम 18 इसमें बनेगी 18 मेगावाट बिजली, जो किसी छोटे शहर के लिए काफी है ताकत का दस्तखत -आठ स्टीम बॉयलर देंगे इसे 1,80,000 एसएचपी की ताकत -समंदर के सीने पर 60 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार -आधुनिक रडार व निगरानी प्रणाली से लैस विक्रमादित्य 500 किमी के दायरे में किसी भी हलचल को पकड़े में सक्षम -तैनात होंगे मिग-29के/सी हैरियर, कामोव-31, कामोव-28, ध्रुव व चेतक हेलीकॉप्टर समेत 30 विमान -इस पर खड़े चौथी पीढ़ी के मिग-29 के लड़ाकू विमान 700 किमी के दायरे में कर सकते हैं मार, पोत ध्वंसक मिसाइल, हवा से हवा में मार करने वाले प्रक्षेपास्त्र और गाइडेड बमों से होंगे लैस -इस पर लगा माइक्रोवेव लैंडिंग सिस्टम सटीक तरीके से विमानों की उड़ान व लैंडिंग के संचालन में सक्षम।
 प्रिटी जिंटा ने नेस वाडिया पर लगाया गंभीर आरोप
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-14 12:13:41
प्रिटी जिंटा ने नेस वाडिया पर लगाया गंभीर आरोप विनय दलवी [मिड-डे], मुंबई। अभिनेत्री व किंग्स इलेवन पंजाब की सह-मालिक प्रिटी जिंटा ने अपने पूर्व प्रेमी नेस वाडिया के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई है। अभिनेत्री ने आरोप लगाया है कि 30 मई को वानखेड़े स्टेडियम में चेन्नई सुपरकिंग्स और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच मैच के दौरान नेस ने उनके साथ खींचतान और गाली-गलौच की। गौरतलब है कि 10 साल तक लिव-इन-रिलेशनशिप में रहने वाले प्रिटी और नेस 2009 में अलग हो गए थे। प्रिटी ने आरोप लगाया है कि मैच के दौरान करीब रात 9 बजे नेस ने उन्हें गालियां देना शुरू कर दीं। गालियां देने से मना करने पर नेस ने प्रिटी को धमकाना शुरू कर दिया। उनके समझाने पर भी जब नेस नहीं रुके तो प्रिटी ने बीच में ही मैच छोड़ने का फैसला किया। जब वह जाने के लिए उठीं तो नेस ने उनका हाथ पकड़कर खींचा। नेस ने मैच देखने आए तमाम लोगों के सामने प्रिटी के साथ खींचतान और गाली-गलौच करनी शुरू कर दी। घटना के तकरीबन 13 दिन बाद गुरुवार रात प्रिटी जिंटा मरीन ड्राइव थाने पहुंचीं और अपना बयान दर्ज कराया। इसके बाद पुलिस ने नेस के खिलाफ आइपीसी की धारा-354, 509, 504 और 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया। मरीन ड्राइव थाने के वरिष्ठ निरीक्षक प्रवीण चिंचलकर ने बताया कि एफआइआर दर्ज कर ली गई है। अब 30 मई को स्टेडियम में मौजूद चश्मदीदों के बयान दर्ज किए जाएंगे। इसके बाद ही वाडिया से पूछताछ होगी।
 सत्ता संभालने के बाद अपने पहले दौरे पर आज भूटान जाएंगे प्रधानमंत्री
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-15 10:40:32
नई दिल्ली। सत्ता संभालने के बाद अपने पहले विदेश दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को भूटान रवाना होंगे। मोदी का दो दिवसीय दौरा भारतीय विदेश नीति में भूटान की अहमियत को दर्शाता है। रवानगी से पूर्व शनिवार की रात प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले विदेश दौरे के लिए भूटान स्वाभाविक पसंद है क्योंकि उसके साथ अनूठा एवं विशेष रिश्ता है। उन्होंने यह भी कहा कि उनके इस दौरे से विकास में सहयोग और प्रभावी ढंग से केंद्रित होगा। प्रधानमंत्री के साथ विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और विदेश सचिव सुजाता सिंह के अलावा अन्य शीर्ष अधिकारी मौजूद होंगे। भारत और चीन के बीच बसे होने के नाते नई दिल्ली के लिए यह हिमालयी देश सामरिक रूप से काफी अहमियत रखता है। भारत भूटान में कई हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट का निर्माण कर रहा है। सुजाता सिंह ने बताया कि अपने इस दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी भूटान के राजा, प्रधानमंत्री शेरिंग तोबगे और विपक्ष के नेता से मुलाकात कर दोनों देशों के बीच के रिश्ते पर चर्चा करेंगे। इसके अलावा वह भूटान की नेशनल असेंबली और नेशनल काउंसिल के संयुक्त सत्र को भी संबोधित करेंगे। भारतीय प्रधानमंत्री के पहले विदेश दौरे के रूप में भूटान के चयन के सवाल पर विदेश सचिव ने कहा कि भूटान सामरिक रूप से भारत के लिए महत्वपूर्ण देश है। मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में भूटान के प्रधानमंत्री तोबगे भी मौजूद थे। अपनी भूटान यात्रा के बारे में मोदी ने कहा है कि मैं बहुत खुशी और पहले से ही मजबूत दोनों देशों के संबंध को और मजबूत करने की इच्छा लिए भूटान जा रहा हूं।
 मोदी को भरोसा नहीं होता कि वह बन गए हैं प्रधानमंत्री: कांग्रेस
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-06-15 10:41:58
नई दिल्ली। कांग्रेस ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी की आलोचना करते हुए कहा कि उनका अंदाज अब भी प्रचार अभियान चलाने जैसा है और विश्वास नहीं कर पा रहे हैं कि वह अब प्रधानमंत्री बन गए हैं। कांग्रेस ने लोकसभा के नेता प्रतिपक्ष पद पर अपना दावा भी दोहराया। इससे पहले पणजी में भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि मैं ऐसी परिस्थितियों में देश का शासन संभाला है जब पूर्ववर्ती सरकार ने कुछ भी नहीं छोड़ा है। कांग्रेस महासचिव और प्रवक्ता शकील अहमद ने कहा, ऐसा लगता है कि मोदी जी को अब भी यह विश्वास नहीं हो पा रहा है कि वह प्रधानमंत्री हैं। अब भी प्रचार अभियान के अंदाज में हैं। वह देश के प्रधानमंत्री हैं। उन्हें नेता विपक्ष की तरह नहीं प्रधानमंत्री की तरह काम करना चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता ने प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा मंत्रियों के विदेश दौरे से दस दिन पहले सूचना देने और लौटकर रिपोर्ट देने के मोदी सरकार के आदेश की आलोचना करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने जनता को धोखा देना शुरू कर दिया है। कोई भी मंत्री प्रधानमंत्री की सहमति के बगैर अचानक विदेश नहीं जाता। लोकसभा के नेता प्रतिपक्ष पद के बारे में उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष का पद पाना कांग्रेस का अधिकार है। उन्होंने यह विश्वास भी जताया कि जब जुलाई में संसद का अगला सत्र शुरू होगा तो लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन इस संबंध में कांग्रेस के पक्ष में फैसला लेंगी। एक दिन पहले महाजन ने कहा था कि वह नेता प्रतिपक्ष के बारे में नियमों, विनियमों और परंपरागत तरीके के अध्ययन के बाद फैसला लेंगी।
 डेगन तैलंग पर लेबरकोर्ट में चलेगा मुकदमा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-12 15:42:56
दुर्ग। औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग की जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी गई है। हादसे के लिए कारखाना अधि-भोगी के रुप मे ईडी(वर्क्स) वाइके डेगन वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के कारखाना प्रबंधक पीके तैलंग को जवाबदार माना है। अब दोनों जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कारखाना अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग द्वारा दोनों अधिकारियों के खिलाफ अगले सप्ताह श्रम न्यायालय(लेबर कोर्ट) में चालान पेश किए जाने की संभावना है। कारखाना अधिनियम के उल्लंघन का मामला कोर्ट में साबित होता है तो दोनों को जुर्माना या सजा अथवा दोनों भी हो सकता है। कारखाना अधिनियम की धारा 7 (1) के प्रावधान अनुसार कारखाना में नियुक्त किए गए श्रमिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का दायित्व अधि-भोगी पर निहित है। संयंत्र के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट में हुए गैस रिसाव में दो अधिकारियों समेत 6 लोगों की जान गई थी। जिसमें एक ठेका श्रमिक भी शामिल था। 25दिन में जांच पूरी हुई: औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग के डिप्टी डायरेक्टर साहू ने 25 दिन में जांच पूरी कर रिपोर्ट कलेक्टर को सौंपीं। इस बीच उन्होंने चार बार घटना स्थल का निरीक्षण किया। पाइप लाइन की दो बार बारीकी से जांच की गई। वे उस जगह पर नीचे भी उतरे थे जहां गैस का प्रभाव दुर्घटना के बाद भी कायम था। उस स्थान पर किसी के जाने पर पाबंदी लगाई गई थी। जब गैस बाहर निकल गई तब मेंटनेंस का काम शुरू किया गया। 12से अधिक अफसरों-कर्मियों के बयान लिए : जांचअधिकारी साहू ने दर्जन भर अधिकारियों कर्मचारियों के बयान दर्ज किए। सुरक्षा में तैनात इस हादसे में घायल सीआईएस के जवानों के बयान भी दर्ज किए। ये है जांच रिपोर्ट का सच: औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग की जांच में एक बड़ी खामियां यह पाई गई कि पाइप लाइन का प्रॉपर मेंटनेंस पर ध्यान नहीं दिया गया। लाइन नंबर 1 लाइन नंबर 2 से ब्लास्ट फर्नेस नंबर 1 6 के गैस क्लीनिकल प्लांट को पानी भेजा जाता है। पानी सप्लाई 800 मिमी व्यास के एमएस पाइप लाइन से की जाती है। इस पाइप लाइन के मेन हेडर का पंप नंबर 15 के सामने का भाग करीब डेढ़ फीट लंबाई में फट गया। पानी निकलने लगा। लाइन नंबर 1 2 से ब्लास्ट फर्नेस के जीसीपी स्क्रबर में भेजे जा रहे पानी भी जीसीपी स्क्रबर के तरफ पानी भी फूटी हुई पाइप लाइन से बाहर निकलने लगी। इसी के पीछे गैस भी पाइप लाइन से निकलने लगी। लोग इसकी चपेट में आए। और छह लोगों की जान चली गई।
 भिलाई में आईआईटी होने से शहर से गांव तक खुलेंगे उन्नति के नए द्वार
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-12 15:55:09
भिलाई | केंद्र सरकार ने अपने आम बजट में छत्तीसगढ़ में आईआईटी इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी की घोषणा की है। छत्तीसगढ़ विधानसभा में पहले ही अशासकीय संकल्प पारित हो चुका है कि राज्य में जब भी कहीं आईआईटी खुलेगा तो भिलाई में। शहर को सबसे बड़े प्रौद्योगिकी संस्थान का तोहफा मिलने से भिलाइयंस के चेहरे खिल गए हैं। भिलाई में आईआईटी खोलने की मांग पिछले कुछ सालों से जोर पकड़ी है। उच्च तकनीकी शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय की पहल पर फरवरी में विधानसभा में अशासकीय संकल्प भी पारित किया गया। शिक्षाविदों, टेक्नीकल स्टूडेंट्स और राजनीतिकों का भी कहना है कि आईआईटी खुलने से बड़ी-बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियां आएंगी। इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। देश में भिलाई की साख में और इजाफा होगा। शहर को एक और नई पहचान मिलेगी। तकनीकी रूप से यह शहर और समृद्ध होगा। शिक्षा के स्तर में गुणात्मक परिवर्तन आएगा। शहर से लेकर गांव तक उन्नति के नए द्वार खुलेंगे। (ये आंकड़े भिलाई के शैक्षिक वातावरण और युवाओं पैरेंट्स में शिक्षा के प्रति जागरूकता का बोध कराता है) देश के ईस्ट, वेस्ट, साउथ, नार्थ सभी जगह तकनीकी अन्य बड़े संस्थान हैं। भारत के सेंट्रल जोन में एक भी आईआईटी नहीं है। उसकी पूर्ति इससे हो जाएगी। देश के सबसे बड़े तकनीकी संस्थान के लिए भिलाई ही असल हकदार है। इसके लिए वेल स्टेबलिस्ट एजुकेशन सिस्टम, तकनीकी संसाधन ओर एडवांस इंडस्ट्रीज की जरूरत होती है जो केवल भिलाई में ही उपलब्ध है। यहां का एजुकेशन इन्वायरन्मेंटल इतना अच्छा है कि छत्तीसगढ़ के ही नहीं वरन अब तो पूरे देश के विभिन्न प्रांतों के स्टूडेंट्स कंपीटिशन एक्जाम की तैयारी करने आते हैं। डीएनशर्मा, प्रोफेसर उद्योगों को: अनुसंधानकरने वाले देश के सबसे बड़े प्रौद्योगिकी संस्थान खुलने से बीएसपी और अन्य उद्योगों को कंसल्टेंसी रिसर्च एंड डेवलपमेंट के मामले में काफी सपोर्ट मिलेगा। - नए-नए प्रोडक्ट, लागत कम क्वालिटी इंप्रूव करने और टेक्निकल प्राब्लम दूर करने में मददगार होगा। {इंडस्ट्रीज इंस्टीट्यूशन पार्टनरशिप से इस बड़े प्रौद्योगिकी संस्थान को भी मदद मिलेगी। बच्चे और पैरेंट्स: उच्च तकनीकी शिक्षा के प्रति बच्चों में रुझान और कॉन्फिडेंस लेवल बढ़ जाएगा। बच्चों को कंपीटिशन के लिए एक प्लेटफार्म मिल जाएगा। {भिलाई का समाज शिक्षा को लेकर वैसे ही जागरूक है। आईआईटी जाने से पैरेंट्स में और साइकोलॉजी बनेगी। आम जनता को:- आमजनता को भी बहुत सारी सुविधाएं मिलेंगी। प्रौद्योगिकी संस्थान अपने सामुदायिक उत्तरदायित्वों का निर्वहन करने विभिन्न इकाइयां खोलेंगे। {इससे गरीब, किसान और श्रमिकों का भी भला होगा। आसपास के गांव उन्नत होंगे। लैब में नए-नए अनुसंधान होंगे। इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। शहर को:- उच्चस्तरीय तकनीकी शिक्षा के लिए फिर यहां की प्रतिभाएं पड़ोसी राज्यों में पलायन के लिए मजबूर नहीं होंगी। उन प्रतिभाओं का इस्तेमाल शहर राज्य के विकास में हो सकेगा। {अंतरराष्ट्रीय स्तर के वैज्ञानिकों का आना-जाना लगा रहेगा। क्षेत्र में उनकी नजर पड़ेगी। संपर्क में आने से यहां की प्रतिभाओं को विदेश में उच्च अध्ययन के लिए लिंक मिलेगा। भिलाई में आईआईटी खुलने के फायदे: -कोर सेक्टर में मेन्यूफेक्चरिंग एडवांस टेक्नालॉजी पूरे प्रदेश में सिर्फ भिलाई में ही है। - ज्योग्राफिकल पाइंट ऑफ व्यू से भी भिलाई स्वभाविक हकदार है। यह हावड़ा-मुंबई रेल मार्ग से सीधा जुड़ा है। - यहां की सामाजिक सौहाद्र्रता और मल्टीकल्चर सिस्टम। {भिलाई का इंस्टीट्यूशनल डेनसिटी अधिक है। - कॉलेज पापुलेशन इंडेक्स (18 से 23 वर्ष उम्र के एक लाख युवाओं में कॉलेज गोइंग) में भी छत्तीसगढ़ में भिलाई सबसे आगे है। {विभिन्न प्रांतों भाषा-भाषी के होनहार बच्चे यहां रहते है। इसलिए हकदार:- राज्य के तकनीकी संस्थानों के लिए आईआईटी लाइट हाउस की तरह काम करेगा। इसका प्रेरक प्रभाव पड़ेगा और टेक्नीकल एजुकेशन में गुणवत्ता के प्रति जागरूकता आएगी। - आईआईटी खुले जाने से यहां एजुकेशन इंटरनेशनल लेवल का हो जाएगा। आईआईटी और स्थानीय इंजीनियरिंग कॉलेजेस के फैकल्टीज के बीच संपर्क कार्यक्रम होंगे। प्रोफेसर्स आधुनिक पाठ्यक्रम और शोधों से परिचित होंगे। इससे इंजीनियरिंग कॉलेजों में पढ़ाई का स्तर और ऊंचा उठेगा। - सबसे ज्यादा फायदा तकनीकी विवि का होगा। इन्फ्रास्ट्रक्चर, गाइडेंस और कंसल्टेंसी की सुविधा यूनिवर्सिटी को अंतर्राष्ट्रीय ख्याति दिलाने में मददगार साबित होगी। {यह रिसोर्स सेंटर की तरह होगा। पुस्तकों का भंडार होगा। दुनियाभर के शोध जनरल उपलब्ध रहेंगे।
 पार्षद की मनमानी जनता पर पड़ रही है भारी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-12 16:04:00
वार्ड-53 सेक्टर-10 की पार्षद की उदासीनता से जनता नाराज पार्षद करती है कार्यों में भेदभाव, विकास कार्य हैं रूके हुए एक हिस्से के निवासी तरस रहे हैं पानी और सफाई को जनप्रतिनिधियों से जनता इतना त्रस्त हो चुकी है कि वो अब इनसे अपना दामन छुड़ाना चाहती है। अब जनता के मन में ये विचार आने लगे हैं कि काश, ऐसा हो सकता कि समय पूर्व ही पार्षद को रिजेक्ट कर सकते। पता नहीं क्यों जनप्रतिनिधि अपने दायित्वों के प्रति गंभीर नहीं रहते हैं। उनको तो केवल अपने ही हित नजर आते हैं। ऐसी ही बेरूखी से परेशान जनता आक्रोशित होती जा रही है। आईये ,आपको एक ऐसे ही एक वार्ड से परिचय कराते हैं जहां पर समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। भिलाई। हम बात कर रहे हैं भिलाई निगम क्षेत्र में स्थित वार्ड-53 की जोकि सेक्टर-10 का क्षेत्र कहलाता है। इसकी पार्षद श्रीमती उपासना साहू है। प्राप्त जानकारीनुसार उक्त पार्षद के द्वारा भेदभाव पूर्ण व्यवहार किया जा रहा है और चेहरा देखकर काम करने की बात भी सामने आ रही है। जहाँ भाजपा के मतदाता ,बड़े- बड़े व्यवसाय व निवास हैं वहां सीवरेज , सफाई और बोरिंग कराई गयी है . यह इनके द्वारा अमर्यादित व्यवहार किया जा रहा है। जनप्रतिनिधि सभी क्षेत्रों का होता है वार्ड में हर जगह कार्य करवाना और करना उसकी जिम्मेदारी होती है। उसके द्वारा क्षेत्र व व्यक्ति देखकर विकास करवाना बेहद ही शर्मनाक है। सर्वेंट क्र्वाटर में रहने वाले लोग रिक्शा चलाते हैं और उनकी पत्नी, बच्चे झाडू-पोछा इत्यादि। कार्य करके जीवन-यापन करते हैं। खासकर उडिय़ा बस्ती के लोग समस्या से अत्यधिक जूझ रहे हैं। यहां पर शौचालय नहीं है तथा पीने के पानी की कोई व्यवस्था नहीं की गई है। बस्ती एवं सर्वेंट क्वार्टरों में रहने वाले लोगों को मजबूरन खुले में शौच जाना पड़ रहा है और पीने के पानी के लिए दर-बदर भटकना पड़ रहा है। पार्षद द्वारा इसके लिए कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है। इसके अलावा आवागमन में भी तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है। सड़क कच्ची है और उबड़-खाबड़ रूप से बनी हुई है। जिसके कारण अक्सर लोग दुर्घटना के शिकार होते रहते हैं। एक तो गाड़ी या अन्य वाहन स्लिप होकर अनियंत्रित हो जाता है, दूसरा यह कि इससे उडऩे वाला धूल । गर्मी और ठण्ड में तो लोग किसी प्रकार से आवागमन कर ही लेते हैं किंतु बरसात में कीचड़ दलदल का रूप अख्तियार कर लेता है। इसमें मुरूम डलवाने की मांग जनता के द्वारा पार्षद से पिछले तीन वर्षों से की जा रही है लेकिन वे सबको अनसुना कर हिटलरशाही चलाने पर उतारू हैं। उक्त वार्ड पर विगत दस वर्षों से सत्तासीन पार्षद राज करते आ रहे हैं जो कि समाज कल्याण की बजाये अपना कल्याण करने में लगे हैं। वैसे भी हम सभी जानते हैं कि टाउनशिप में पार्षद को कोई ज्यादा कार्य करने लायक नहीं रहता है। उन्हें केवल जनसमस्याओं को दूर करने के लिए बीएसपी के नगर सेवा विभाग को पत्र लिखना होता है। अब यहां पर प्रश्र यह उठता है कि क्या पार्षद के पास पत्र लिखने का भी समय नहीं है? उनकी ऐसी गैर जिम्मेदारीपूर्ण व्यवहार से आमजनता बेहद नाराज व आक्रोशित दिख रही है। आश्चर्य की बात यह है कि यहां की पार्षद कभी वार्ड का दौरा नहीं करती है और न ही आमजनता से मिलने में कोई दिलचस्पी दिखाती है। इनके वार्ड में अवैध रूप से कई कोचिंग सेंटर, हॉस्टल का संचालन किया जा रहा है। जिसकी शिकायत करने के बाद भी इनके द्वारा कोई कार्यवाही न किया जाना अंदरूनी सांठगांठ को दर्शा रहा है। बाक्स 000000 स्थानीय निवासी मुकेश वर्मा के द्वारा सूचना के अधिकार के तहत से.-10 में स्थित सुलभ शौचालय की जानकारी मांगी गई तो उन्होंने जवाब दिया कि उक्त शौचालय बीएसपी प्रबंधन के अधीनस्थ है। लेकिन आश्चर्यजनक बात यह है कि उक्त शौचालय के लोकापर्ण के समय लगाई गई पट्टिका में महापौर निर्मला यादव व पार्षद उपासना साहू का नाम दर्ज है जबकि नियमानुसारी ऐसा नहीं होना चाहिए था।इस पर आमजनता के बीच चर्चा का दौर जारी है और बीएसपी प्रशासन पर भी उंगली उठ रही है। इस वार्ड में सबसे ज़्यादा कोचिंग क्लास हैं जिनमे से अनेक का बीएसपी से डिस्प्यूट चल रहा है . सूत्रों के अनुसार उन अवैध कोचिंग क्लासेस को पार्षद का संरक्षण है इसीलिए बीएसपी वाले कोई कदम नहीं उठा रहे हैं . इस वार्ड में ही भिलाई के सबसे अधिक आवासीय भवनो में अवैध हॉस्टल और कोचिंग क्लास हैं , उनपर भी कोई कार्यवाही नहीं होना पार्षद की भूमिका पर संदेह पैदा करती है . लोगों का कहना है कि चुनाव के बाद आजतक पार्षद ने वार्ड का पूरा दौरा नहीं किया है. जबसे यह पार्षद बनी हैं गड़बड़ी करने वाले हॉस्टल तथा कोचिंग सेंटर वाले पर कोई कार्यवाही नहीं हुई है और वे मनमानी पर उतर आये हैं . इस वार्ड में सबसे ज़्यादा अवैध होर्डिंग और पोस्टर लगे हैं जोकि एक अंधे को भी दिखाई दे रहे हैं पर पार्षद बेपरवाह है या सांठ- गाँठ है . जनता द्वारा आवाज़ उठने लगी है , जो कभी भी उग्र रूप ले सकता है .
 भिलाई के दो बेस्ट फ्रेंड, जो इस साल पांच बार बने स्टेट टॉपर
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-13 13:34:16
भिलाई। हमारे दो होनहार स्टूडेंट्स हैं, पुलकित गोयल और सी विश्वेश। जिन्होंने अपनी प्रतिभा के बल पर केवल भिलाई बल्कि छत्तीसगढ़ का नाम रोशन किया है। इन दोनों बच्चों ने सीबीएसई 12वीं की परीक्षा में तो टॉप किया ही है। साथ ही इंजीनियरिंग के इंट्रेंस एग्जाम में भी टॉप कर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। दोनों की सफलता का एक ही बड़ा मूलमंत्र है, टाइम मैनेजमेंट। हरेक पल का सदुपयोग। टाइम की वैल्यू को समझा और ईमानदार से मेहनत की। आज उनका सलेक्शन आईआईटी बांबे के लिए हुआ है। वे 18 जुलाई को इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए रवाना हो रहे हैं। भास्कर ने उनकी इस शानदार सफलता का रहस्य जाना। दोनों होनहार बच्चों और उनकी फैमिली से खास बातचीत की। पहली बार टॉप-10 में भिलाई के 9 स्टूडेंट्स: यहपहली बार हुआ है कि जेईई एडवांस के टाप-10 स्टूडेंट्स में 9 भिलाई के हैं। इससे पहले बिलासपुर, रायपुर और कोरबा के बच्चे टाप-10 में जगह बनाते थे। एक कोचिंग सेंटर के संचालक जगदीश तुल्सीवानी ने बताया कि भिलाई के छात्र हमेशा प्रथम और द्वितीय आते थे। यह पहली बार हुआ है कि सातवां रैंक को छोड़कर सारे स्टूडेंट्स भिलाई के हैं। यहां के बच्चों ने काफी मेहनत की है। दस मंत्र, जिससे मिली लर्निंग: - एक-एकमिनट कीमती है। इसका सदुपयोग करें। -दृढ़ निश्चय और लक्ष्य निर्धारित कर पढ़े। -पढ़ाई के दौरान मोबाइल और टीवी से दूर रहे, पूरा कांसन्ट्रेट पढ़ाई पर। - जिंदगी में कभी असफल भी होते हैं, लेकिन मनोबल को गिरने दे। - परिवार के साथ हर बात शेयर, ताकि प्रॉब्लम हो। - जो कठिन लगे, उसे पहले सॉल्व करें, ताकि बार-बार परेशान करें। - गणित, फिजिक्स और कैमेस्ट्री को बार-बार सॉल्व करें, प्रैक्टिस से ज्यादा याद रहती है। -हर रात को दिन के लिए प्लान बनाए, कल क्या करना है। प्लान मुताबिक पढ़ाई करें। - किताबी कीड़ा नहीं बनें, समझकर पढ़े। - पढ़ाई के दौरान पुरानी बातों को रिकॉल करें। ये कहते हैं पैरेंट्स : सेक्टर-9के विश्वेश के पिता आर चंद्रमोहन बीएसपी में प्रोजेक्ट जीएम है। विश्वेश की मां जी मालिनी ने कहा कि उसकी शुरू से ही गणित में रुचि रही है। जब वह कोई काम को करने के लिए पकड़ लेता तो उसे कंप्लीट करके ही छोड़ता। वहीं पुलकित के पापा राजेश कुमार गोयल(छोटू) बिजनेसमैन हैं। पुलकित की मां संगीता गोयल कहती हैं, शुरू से ही मशीन, इलेक्ट्रॉनिक चीजों से उसे लगाव रहा है। हमने उसे पहचाना और उसे इंजीनियरिंग करने के लिए सपोर्ट किया। बड़े एग्जाम में दोनों का रहा दबदबा : पुलकित गोयल : 12 वीं सीबीएसई : 97% प्रदेश में दूसरा स्थान जेईई एडवांस : 52 रैंक प्रदेश में दूसरा स्थान जेईई मेन्स : 49 रैंक, प्रदेश में दूसरा स्थान बीट्स एट : 418 मार्क्स। केवीपीवाई : चयन हुआ। सी विश्वेस 12 वीं सीबीएसई : 97 प्रदेश में दूसरा जेईई एडवांस : 50 वीं रैंक, प्रदेश में दूसरा जेईई मेंस : 39 रैंक प्रदेश में प्रथम बीट्स एट : 410 मार्क्स केवीवीवाई : चयन हुआ।
 रुक रुककर किया जा रहा फोरलेन का मेंटेनेंस
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-13 13:40:36
भिलाई। फोरलेन संचालित कर रही कंपनी डीएससी वेंचर्स ने रोड के मेंटेनेंस का काम एक दिन करने और दो दिन बंद रखने के बाद शनिवार को फिर शुरू किया। उसने चंद्रा मौर्या टाकीज के पास कुछ हिस्से का डामरीकरण किया कहीं-कहीं गड्ढों को भरने की कोशिश की। मेंटेनेंस काम कितने दिन चलेगा, चलेगा भी या नहीं कुछ तय नहीं है। क्योंकि बारिश के कारण भी काम में बाधा पहुंच रही है। लेकिन इसके लिए भी ठेका कंपनी ही जिम्मेदार है। क्योंकि उसने समय पर काम शुरू नहीं किया। खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। फोरलेन की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए प्रभारी मंत्री राजेश मूणत ने 2 जुलाई को जिला प्रशासन और डीएससी वेंचर्स के अधिकारियों की बैठक ली थी। डीएससी के अधिकारियों को 15 दिन का अल्टीमेटम देते हुए रोड का मेंटेनेस तत्काल शुरू करने कहा था। 10 जुलाई को उसने कुछ काम किया, लेकिन 11 जुलाई को बारिश की वजह से फिर काम बंद कर दिया। 11 जुलाई को फिर काम रोक दिया गया। 12 जुलाई को भी काम शुरू तो किया, लेकिन खानापूर्ति की तर्ज पर। हो रही मनमानी: ठेकाकंपनी अंतत: मेंटेनेंस का काम अपनी मर्जी से कर रही है। उसने काम देर से शुरू किया। खत्म भी अपने समय पर कर सकती है क्योंकि इसके लिए उसके पास बारिश के अलावा और भी कई बहाने हैं। कंपनी को फायदा फोरलेनका मेंटेनेंस जितनी देर से होगा, कंपनी को उतना ही फायदा है। क्योंकि मेंटेनेंस देर से होगी तो दोबारा मेंटेनेंस की स्थिति भी देर से आएगी। कंपनी का पैसा बचेगा। ये भी हो सकता है कि ठेका अवधि खत्म होने तक दोबारा मेंटेनेंस की नौबत ही आए। एग्रीमेंट के अनुसार उसे ठेका अवधि खत्म होने पर रोड को ठीक-ठाक हालत में हैंड ओवर करना है। ऐसे में काम पूरा नहीं होगा: डामरीकरणमें देर हो रही है। उससे ये आशंका पैदा हो गई है कि रोड का ओवरआल मेंटेनेंस सालभर में भी पूरा नहीं हो पाएगा। क्योंकि डामरीकरण में जितनी देर होगी, ओवर आल मेंटेनेंस का काम नहीं होगा। कंपनी का भी कहना है कि बगैर इसके मेंटेनेंस के कई काम नहीं किए जा सकते। मसलन रोड शोल्डर ठीक नहीं किया जा सकता। क्योंकि डामरीकरण के बाद रोड की हाईट बढ़ जाएगी। शोल्डर की भी हाईट उतनी ही बढ़ानी पड़ेगी।
 इंडियन ऑइल के अधिकारी के अपहरण की कोशिश, मुख्य आरोपी गिरफ्तार
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-13 13:41:23
दुर्ग. भिलाई3 स्थित इंडियन ऑइल के ऑपरेशन अधिकारी का चार युवकों ने अपहरण की कोशिश की। अधिकारी के शोर मचाने पर आरोपी भाग खड़े हुए। भिलाई 3 जीआरपी ने इंडियन ऑइल के ऑपरेशन अधिकारी अभिषेक नौटियाल की शिकायत पर शास्त्री नगर भिलाई निवासी राजकुमार दुबे पिता माता प्रसाद दुबे सहित तीन अन्य के खिलाफ धारा 363, 365, 294, 506 आर्म्स एक्ट की धारा 25, 27 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर राजकुमार दुबे को गिरफ्तार कर लिया है। उसके साथियों की तलाश की जा रही है। घटना बीती रात की है। नौटियाल रात करीब दस बजे काम खत्म कर घर जाने के लिए निकले थे। पार्किंग स्थल पर पहले से मौजूद राजकुमार दुबे उसके तीन अन्य साथियों ने उन्हें रोक लिया और उन्हें अपने साथ ले जाने लगे। धारदार हथियार दिखाकर उन्हें जान से मारने की धमकी दी। नौटियाल ने किसी तरह खुद को चंगुल से छुड़ाया और बचाओ-बचाओ चिल्लाने लगे। बदली परिस्थिति से आरोपी घबराकर वहां से भाग गए। नौटियाल ने मामले की शिकायत अगले दिन दर्ज कराई। अजीआरपी ने मुख्य आरोपी राजकुमार दुबे को गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल अपहरण के पीछे आरोपियों की मंशा पता नहीं चल पाई है।
 शराब पीने से रोका तो पिता की कर दी हत्या
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-13 13:49:48
दुर्ग। शुक्रवार को भिलाई-3 इलाके के उरला गांव में शराब के नशे में चूर बेटे ने पिता के सिर पर जेक रॉड मारकर हत्या कर दी। पिता का कसूर था कि उसने बेटे को शराब पीने से रोका। पुलिस के मुताबिक शुक्रवार दोपहर दो बजे के आसपास आनंद राम मरकाम(19) घर के सामने में बैठकर शराब पी रहा था। तभी उसके पिता राम खिलावन (45) पहुंचा। उसे यह देखकर ठीक नहीं लगा। उसने मना किया तो आनंदराम गाली-गलौज करने लगा। दोनों के बीच बहस हो गई। इसके बाद राम खिलावन घर पहुंचा और इस बात को लेकर प|ी से विवाद करने लगा। दोनों को लड़ते देख आनंद राम उत्तेजित हो गया और उसने घर में रखा जेक रॉड निकाला और पिता के सिर पर पीछे से हमला कर दिया। राम खिलावन मौके पर ही गिर गया। आसपास के लोगों ने तत्काल उसे दुर्ग जिला अस्पताल पहुंचाया। सिर पर गंभीर चोट के कारण वह घंटों तक बेहोश रहा। इसके बाद उसे होश नहीं आया। शनिवार को जिला अस्पताल में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। इस मामले में आरोपी आनंद राम के खिलाफ हत्या की धारा 302 के तहत जुर्म दर्ज किया है। गांव में फैली सनसनी घटनाके बाद गांव में सनसनी फैल गई। पुलिस जब आसपास के लोगों से जब पूछताछ करने पहुंची तो उन्होंने जानकारी दी। लोगों ने यह भी बताया कि आरोपी आनंद राम इससे पहले भी शराब के नशे में लोगों परिजनों से विवाद किया था। मां ने की थी बेटे की तरफदारी: बाप-बेटे के विवाद में आरोपी की मां भी गई। उसने बेटे की तरफदारी की और पिता को डांटने से मना किया। इससे आनंद राम का हौसला बुलंद हुआ और पिता पर हमला कर दिया। उसकी मां को भी पता नहीं था कि बेटा यह कदम उठाएगा। पुलिस ने बताया कि आरोपी पहले भी नशे में घर में विवाद कर चुका है। गांव में छिपकर बैठा था पुलिसने बताया कि आरोपी आनंद राम पिता पर हमला करने के बाद गांव में छिपकर बैठा था। पुलिस को घटना की सूचना मिली, इसके बाद खोजबीन शुरू की। कुछ ही देर में आरोपी को गांव से ही गिरफ्तार किया। विवाद के बाद बेटे ने पिता के सिर पर रॉड से हमला कर दिया। उसे तुरंत जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान हो गई मौत।
 आरटीओ परिसर से हटाई गईं एजेंट्स की 18 गुमटियां
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-13 13:57:11
एजेंट्स को दफ्तर से दूर रहकर करना पड़ेगा काम अतिरिक्त परिवहन कार्यालय (एआरटीओ) परिसर में नगर निगम जिला प्रशासन के अधिकारियों की मौजूदगी में शनिवार को बेदखली अभियान चलाया गया। इस दौरान निगम के तोड़ू दस्ते ने परिसर स्थित 18 एजेंटों के खिलाफ कार्रवाई की। इसकी सूचना एजेंट्स को पहले ही दे दी गई थी, इसलिए ज्यादातर एजेंटों ने कार्रवाई से पहले ही अपनी गुमटियों को खुद ही परिसर से बाहर निकाल लिया था। शेष गुमटियों ठेलों को दल ने कब्जे में कर लिया। परिसर में एजेंटों के ठेले गुमटियों की वजह से व्यवस्थागत परेशानी की शिकायत कलेक्टर के जनदर्शन में की गई थी, जिसके बाद कलेक्टर आर संगीता के निर्देश पर निगम के तोड़ू दस्ते ने शनिवार को कार्रवाई की। मौके पर निगम के भवन अधिकारी एके दत्ता, एसडीएम संजय दीवान, तहसीलदार आरबी देवांगन एआरटीओ जेके ध्रुव आदि मौजूद थे। शनिवार को अवकाश के कारण कार्यालय में लोगों की भीड़ नहीं थी। करीब 11 बजे तोड़ू दस्ता कार्यालय पहुंच गया था। एजेंटों को कार्रवाई की आशंका पहले से थी इसलिए अवकाश होने के बावजूद एजेंट भी कार्यालय पहुंच गए थे। शुरू में एजेंटों ने विरोध करना चाहा, लेकिन पुलिस बल की मौजूदगी में वे ऐसा नहीं कर सके। जनदर्शन में एजेंटों की गुमटियों ठेलों से होने वाली परेशानी की शिकायत की गई थी। कलेक्टर के निर्देश पर निगम के तोड़ू दस्ते ने शनिवार को चलाया अभियान। एजेंट्स को कार्यालय के आसपास भी गुमटी नहीं रखने की हिदायत दी गई परिवहन कार्यालय में होने वाले कार्यों ड्राइविंग लाइसेंस, परमिट और रजिस्ट्रेशन आदि के लिए एजेंट आम लोगों और कार्यालय के बीच सेतु का काम करते हैं। एजेंट्स के बिना लोगों को परिवहन कार्यालय संबंधी कार्यों के लिए परेशान होना पड़ सकता है। परिवहन कार्यालय के साथ एजेंट्स का कांसेप्ट सभी शहरों में है। रायपुर, बिलासपुर जैसे शहरों में परिवहन कार्यालय के आसपास एजेंट्स के लिए स्थायी समाधान है। लेकिन दुर्ग कार्यालय के आसपास ऐसी व्यवस्था नहीं है। एजेंट्स को कार्यालय के आसपास भी गुमटी रखने की हिदायत दी गई है। ऐसे में एजेंट्स को कार्यालय से दूर रहकर काम करना पड़ेगा। दूसरी ओर एजेंट्स का काम कार्यालय के कर्मचारियों को करना पड़ेगा। जिससे उन पर काम का दबाव बढ़ेगा। कार्यालय में वैसे ही कर्मचारियों की कमी है।
 शासन ने पलटा फैसला, मिशन क्वालिटी एजुकेशन का एजेंडा फेल
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-13 13:58:11
युक्तियुक्तकरण की नई नीति से मिशन क्वालिटी एजुकेशन का एजेंडा फेल हो गया है। डेढ़ माह पहले सरकारी प्राइमरी मिडिल स्कूलों की शिक्षा का स्तर सुधारने कई कदम उठाए गए थे। इसमें सबसे बड़ा फैसला युक्तियुक्तकरण का था। हर स्कूल में हर विषय के लिए स्टूडेंट्स की संख्या के अनुपात में शिक्षकों का पद रखने का फैसला किया गया। तय हुआ कि आर्ट विषय लेकर कॉलेज की पढ़ाई करने वाले शिक्षक सरकारी स्कूलों के बच्चों को गणित या साइंस का विषय पढ़ाएं। एजुकेशन की क्वालिटी सुधारने के लिए मैथ्स विषय लेकर पढ़ने वाले ग्रेजुएशन करने वाले टीचर ही स्टूडेंट्स को मैथ्स पढ़ाएं। यह फैसला लेने के डेढ़ महीने बाद अब शासन ने अपना फैसला पलट दिया है। सालों तक आर्ट विषय लेकर पढ़ाई करने वाले शिक्षक अब बच्चों को साइंस, मैथ्स जैसे विषयों की पढ़ाई कराएंगे। यानी भूगोल, नागरिक शास्त्र और इतिहास पढ़ने वाले शिक्षक स्कूल की कक्षाओं में बीज गणित, अंक गणित से लेकर साइंस के सिद्धांतों को पढ़ाएंगे। प्रदेश में आर्ट विषय के सबसे ज्यादा शिक्षक हैं। ये शिक्षक अब पहले की तरह गणित या साइंस जैसे विषय पढ़ा सकेंगे। इसके लिए ट्रेनिंग का फार्मूला तय किया गया है। इस फार्मूले से पहले डाइट, सर्व शिक्षा अभियान की ओर से शिक्षकों को 5 से 12 दिनों का प्रशिक्षण शिविर लगाकर हर साल अध्यापन के नए प्रयोगों की जानकारी दी जाती रही है। इन शिविरों में भी शिक्षक बस नाम के लिए आते हैं। सालों से मिल रहे प्रशिक्षण के बावजूद हाल ये है कि क्लास में सालभर पढ़ाने के बावजूद बच्चों को हिंदी के शब्द लिखना पढ़ना नहीं आता। निजी स्कूलों में नर्सरी या क्लास 1 के बच्चे पढ़ना लिखना सीख जाते हैं। ऐसी हालत में सरकारी स्कूलों में शिक्षा का स्तर कैसे सुधरेगा, इसका अंदाज लगाया जा सकता है। युक्तियुक्तकरण को लेकर शासन के फैसले से शहर के कमजोर आय वर्ग के बच्चों को या गांव के बच्चों को क्वालिटी एजुकेशन नहीं मिल पाएगा। सरकारी स्कूलों में बस इसी वर्ग के बच्चे पढ़ रहे हैं। शहर के संपन्न तबके के पास प्राइवेट स्कूल का विकल्प है। वहां क्वालिटी एजुकेशन के तमाम इंतजाम हैं। लेकिन सरकारी स्कूलों में शिक्षा की हालत बदतर है। शिक्षकों के स्कूल आने जाने का समय तय नहीं है। साल बीतने के बावजूद बच्चों का कोर्स पूरा नहीं होता है।
 सिलेंडर से रेगुलेटर हटाया, गैस लीक की, फिर आग लगाकर की खुदकुशी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-17 11:04:21
भिलाई। 45 लाख रुपए की फर्जी डकैती मामले में आरोपी प्रकाश रंजन सेठ की पत्नी जूली ने मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात करीब एक बजे आत्महत्या कर ली। कारणों का फिलहाल पता नहीं चल सका है, लेकिन माना जा रहा है कि उसने प्रकाश की करतूत से हुई बदनामी के कारण ऐसा आत्मघाती कदम उठाया। इस मामले में आत्महत्या के साथ ही इसके लिए अपनाए गए तरीके ने सबको चौंका दिया है। जूली ने पहले ढेर सारे कपड़ों से खुद को लपेट लिया। घरेलू गैस सिलेंडर का रेगुलर हटाया। फिर पेचकस से सिलेंडर के नोडल को कुछ देर तक दबाए रखा। उसके आसपास जब गैस इकट्ठा हो गई तो आग लगा ली। घटना में उसका पांच साल का बेटा आदित्य भी हल्का झुलस गया है। क्या था मामला: घटनाके तार नीरज शुक्ला के घर 14 जुलाई की रात को हुई फर्जी डकैती से जुड़े हुए हैं। डकैती का मास्टरमाइंड रजत दयाल था। उसके प्लान को प्रकाश ही लीड कर रहा था। वह अपने साथियों के साथ रातभर नीरज के घर में रहा। सुबह रजत की कार लेकर साथियों समेत फरार हो गया। जांच का विषय बना तरीका: घटना के लगभग आधे घंटे बाद तक तो जूली के कमरे के किसी सामान में आग लगी और ही सिलेंडर पर कोई निशान थे। पुलिस के अनुसार जूली के शरीर पर झुलसने के बाद भी कई परतों में कपड़े लिपटे हुए थे। वह दरवाजे के पास ही पड़ी थी। पास ही कुर्सी, बिना पाइप रेगुलेटर का सिलेंडर, मैच बाक्स और पेचकस भी थे। सिलेंडर के वाल्व वाला हिस्सा और जूली के पैर सटे हुए थे। अंदाजा लगाया जा रहा है कि जूली ने सिलेंडर के सामने बैठकर पेचकस से गैस लीक किया होगा। पर पुलिस को यह सवाल परेशान कर रही है कि उसने आत्महत्या से पहले बच्चे को कमरे से क्यों बाहर नहीं किया। तरीका अलग, पर आत्महत्या ही: जूली ने अलग ढंग से खुदकुशी की है। पर यह आत्महत्या ही है। तरीके का गहराई से अध्ययन किया गया है। आगे की कार्रवाई की जा रही है।' बीपीपाल, एसडीओपीपाटन आत्महत्या के तरीके ने पुलिस को भी चौंकाया, पति की करतूत से हुई बदनामी के कारण खुदकुशी करने की आशंका, बेटा भी झुलसा ।
 निगम अफसरों को पता ही नहीं, वे विभाग के सचिव हैं या प्रभारी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-17 11:05:09
भिलाई। निगम के अधिकारी अपने कामकाज को लेकर कितने गंभीर है इसका जरा नमूना देखिए। पर्यावरण एवं उद्यानिकी विभाग के सचिव ईई आरके साहू हैं, मगर उन्हें पता ही नहीं है। वे कहते हैं मैं सचिव नहीं, विभाग का प्रभारी हूं। शायद अवधेश शर्मा होंगे। शर्मा कहते हैं मैं पहले था, अब तो साहू ही हैं। इधर अधिकारियों की मनमर्जी से परेशान विभाग की सलाहकार समिति की प्रभारी श्वेता दिवाकर भारती ने इस्तीफा दे दिया। श्वेता ने बुधवार को अध्यक्ष राजेंद्र अरोरा को अपना इस्तीफा सौंप दिया। उन्होंने आरोप लगाया है कि विभाग के अफसर सब कुछ अपनी मर्जी से कर रहे हैं। वे बिना कोई प्लानिंग के और सलाहकार समिति की अनुशंसा के काम कर रहे हैं। सालभर से समिति की एक भी बैठक नहीं हुई है। उद्यानों का रखरखाव ठेके पर दिया जा रहा है। बावजूद अलग से ठेके पर और कर्मचारी रख रहे हैं। ऐसा लगता है कि इस निगम में सलाहकार समित की जरूरत ही नहीं है। उन्होंने अध्यक्ष से पर्यावरण एवं उद्यानिकी समिति को भंग करने की मांग की। मैं सचिव नहीं, प्रभारी हूं:' बैठक बुलवाने और प्रभारी को विभाग के प्रस्तावों से संबंधित जानकारी देने का काम सचिव का है। मैं उद्यानिकी विभाग का सचिव थोड़ी हूं, मैं तो विभाग का प्रभारी हूं। सचिव तो अवधेश शर्मा थे। वैसे भी जहां तक बैठक बुलवाने की बात है समिति की प्रभारी का काम है। वे स्वयं अफसरों से कह सकती हैं, किसी विषय पर जानकारी भी ले सकती हैं। वे स्वयं अपने अधिकार का इस्तेमाल नहीं कर रही हैं। आरकेसाहू, ईईप्रभारी उद्यानिकी मैं पहले था, अब तो साहू ही सचिव हैं: 'मैंपहले उद्यानिकी विभाग का सचिव था। अब तो इसका प्रभार ईई आरके साहू को दे दिया गया है। साहू ही विभाग के सचिव हैं। अवधेशशर्मा, ईई। बैठक होती ही नहीं: ' हर दो महीने में सलाहकार समिति की बैठक होनी चाहिए। यहां तो सालभर से नहीं हुई है। विभाग के अफसर अपनी मर्जी से उद्यानों के रखरखाव का काम ठेके पर दे रहे हैं। इसके बावजूद ठेके पर और श्रमिक रख रहे हैं। श्वेता दिवाकर भारती। दो महीने में बैठक जरूरी: नगर निगम एक्ट 46 (3) में प्रावधान है कि समिति की बैठक हर दो महीने में कम से कम एक बार होनी ही चाहिए। एमआईसी का विभाग प्रभारी सदस्य बैठक की अध्यक्षता करेगा। सलाह देती है समिति : छत्तीसगढ़नगर पालिक निगम अधिनियम 1956 की धारा 46 में सलाहकार समिति के गठन का प्रावधान है। अध्यक्ष निगम के प्रत्येक विभाग के लिए धारा 37 के अधीन मेयर इन कौंसिल के सदस्य के रूप में संबंधित विभाग के कार्यकलाप में सलाह देने के लिए गठित करेगा।
 कब चालू होगा फ्लाई ओवर बीएसपी कह रहा- नहीं मालूम
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-17 11:06:31
भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र के तीनों निर्माणाधीन फ्लाई ओवर अपने तय समय से दो साल भर पीछे चल रहे है। चार साल पहले बनना शुरू हुए तीनों फ्लाई ओवर को अब तक बनकर तैयार हो जाना था। अभी कम से कम साल भर बल्कि संयंत्र के भीतर बन रहे दो फ्लाई ओवर में उससे भी अधिक समय भी लग सकता है। यानी संयंत्र कर्मियों शहरवासियों को फ्लाई ओवर पर आवागमन के लिए अभी सालभर और इंतजार करना पड़ेगा। भिलाई इस्पात संयंत्र अपने 7 मिलियन टन आधुनिकीकरण विस्तारीकरण परियोजना के तहत शहर में रोड नेटवर्क पर भी काम कर रहा है। इसके अंतर्गत 73.11 करोड़ रुपए की लागत से तीन फ्लाई ओवर का निर्माण किया जा रहा है। इनमें दो संयत्र के भीतर कर्मचारियों के लिए और एक बाहर बोरिया चौक से खुर्सीपार फाटक से कुछ दूर पहले तक। इस ब्रिज का उपयोग संयंत्र कर्मियों के अलावा आम नागरिक भी कर सकेंगे। ओवरब्रिज का निर्माण 22 दिसंबर 2010 से शुरू हुआ है। टेंडर शर्तों के मुताबिक 13 जुलाई 2012 तक यह पूरा हो जाना था। इनमें मुर्गा चौक के पास का ब्रिज बनकर तैयार हो गया है, लेकिन इलेक्ट्रिफिकेशन, ओवरब्रिज से पानी का ड्रेनेज और एप्रोच रोड में भूमिगत पाइप लाइन का डायवर्सन संबंधित काम अभी तक पूरा नहीं हो सका है। कब चालू होगा- इसका जवाब नहीं: काफी काम हो चुका है। थोड़ा बहुत ही बचा है। एप्रोच रोड का डामरीकरण का कार्य बरसात के बाद किया जाएगा। 2010 में दिए गए कांट्रेक्ट के अनुसार ओवरब्रिज का निर्माण कार्य 2012 में पूरा होना था। बचे काम पूरा होने के पश्चात ओवरब्रिज का उपयोग शुरु हो सकेगा। ब्रिज की परिवहन क्षमता देश में बने एवं उपयोग किए जा रहे नेशनल हाइवे के ओवरब्रिज की परिवहन क्षमता के बराबर है। निर्माण में किसी प्रकार की तकनीकी खामियां नहीं है। (बीएसपी जनसंपर्क विभाग के जवाब पर आधारित।) फ्लाईओवर से शहरवासियों को ये फायदा : जीईरोड पर गाड़ियों का दबाव कम हो जाएगा। मुर्गा चौक पर बनने वाली यह फ्लाई ओवर क्रमांक-2 का नेटवर्क बोरिया चौक से आरंभ होकर हेल्थ सेंटर, सेक्टर-3 भट्ठी थाना, सीईजेड चौक के ऊपर से होते हुए सेक्टर-1 स्थित भिलाई महिला समाज के मसाला केंद्र के निकट नीचे उतरेगी। यहां से एक रोड नेटवर्क संयंत्र के बाउंड्रीवाल और साउथ ईस्टर्न रेलवे लाइन के बीच से गुजरते हुए खुर्सीपार से होकर सीधे हथखोज चौक के पास फ्लाई ओवर क्रमांक-1 से मिल जाएगी। रायपुर से आने वाली गाडिय़ां हथखोज चौक से प्लांट जा सकेंगी। ऐसा होगा बीएसपी का फ्लाईओवर: - डबरापारा के पास जीई रोड से शुरू होने वाला फ्लाई ओवर क्रमांक-1 वाई आकार का होगा। एक मार्ग सीधे संयंत्र के अंदर जाएगा। दूसरा बोरिया गेट से मुर्गा चौक की ओर बनने वाले फ्लाई ओवर से जुड़ेगा। - फ्लाई ओवर क्रमांक-2 बोरिया चौक से शुरू होगा जो हेल्थ सेंटर सेक्टर-3, भट्ठी थाना, मुर्गा चौक के ऊपर से होते हुए सेक्टर-1 महिला समाज के पास मसाला केंद्र के निकट उतरेगा। - तीसरा फ्लाई ओवर जोरातराई गेट से शुरू होकर पेरीफेरल यार्ड के रेलवे लाइन को पार करते हुए एनएसपीसीएल की ओर बन रहा है। बीएसपी प्रबंधन का साफ कहना है कि प्रोजेक्ट में देरी से निर्माण लागत बढ़ेगी, लेकिन यह अतिरिक्त बोझ ठेकेदार को वहन करना होगा कि संयंत्र प्रबंधन को। आखिर पब्लिक तो परेशान होगी। इसका ध्यान नहीं। नहीं मिली एनओसी: दो फ्लाई ओवर क्रमांक एक और तीन रेलवे लाइन के ऊपर से गुजरेगी। इसके लिए रेलवे से सहमति जरूरी है। बताया जाता है कि अभी तक इस प्रक्रिया में भी काफी देर हुई।
 कलेक्टर की चौखट पर रोती रही महिला, बताया-बेटे से मिलने नहीं दे रहा पति, पुलिस भी मदद नहीं कर रही
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-19 12:17:47
दुर्ग। दो साल के बेटे को एक नजर देखने के लिए तड़प रही नेहरू नगर भिलाई की प्रतिभा लीलारिया के सब्र का बांध गुरुवार को टूट गया। कलेक्टोरेट बिल्डिंग के मेन गेट के सामने पोर्च पर वह आधे घंटे तक धरने पर बैठी और पूरे समय रोती रही। उन्होंने बताया कि उसके पति शैलेष लीलारिया ने उसे घर से निकाल दिया है और बच्चे को रख लिया है। इस दौरान भीड़ जुट गई थी। अधिवक्ता चंद्रपक्षी रामरतन साहू उसे एसडीएम कुरुवंशी के पास ले गए। एसडीएम नहीं थे तब उसे लेकर एडीएम केके अग्रवाल से मिले। फिर एसपी से मिलने पहुंची। नहीं मिले तो डीएसपी मंडावी से मिलकर समस्या बताईं। 'एसडीएम से मेरी बात हुई है। महिला की बात भी सुन ली है। पति को बच्चे समेत पेश करने समन तामील करवाया जाएगा। बच्चे को सौंपने पर निर्णय कोर्ट करेगा।' एमआरमंडावी, डीएसपी,दुर्ग बात दो साल के बेटे को लेकर है। कानूनी तौर पर प्रतिभा बच्चे को अपने पास रखने का अधिकारी है। पति बच्चे से अलग नहीं कर सकता।' सोहनलालचंद्रपक्षी, प्रतिभाके वकील चार महीने से तारीख पर तारीख चार माह से हर पेशी में रही है। अबफिर पेशी बढ़ा दी गई है। अब 23 जुलाई को पेशी होगी। अप्रैलमें प्रतिभा ने एसडीएम आरए कुरुवंशी के कोर्ट में बेटे को दिलवाने के लिए आवेदन दिया। तब से हर पेशी तारीख को राजनांदगांव से आती हैं। पति हमेशा की तरह आज भी नहीं आए। पति दुकान पर तो जाता है, कोर्ट में क्यों नहीं आता प्रतिभा ने डीएसपी को बताया कि उसके पति की सेक्टर-6 मार्केट में दुकान है। वह दुकान पर रहता है। फिर भी पुलिस उसे कोर्ट में पेश नहीं कर रही है। वह कभी लखनऊ, तो कभी मथुरा चला जाता है बच्चे को लेकर। ताकि मैं देख सकूं। वह जनदर्शन में आवेदन करने के बाद पुलिस के पास गई थी। हर जगह फरियाद कर रही हूं कि मुझे मेरा बच्चा दिला दो। कोई सुन ही नहीं रहा है। पुलिस समंस तामील नहीं करती डीएसपीमंडावी को उनके वकील चंद्रपक्षी ने घटना के बारे में बताया कि प्रतिभा ने अपने बेटे को पति से दिलवाने के लिए एसडीएम कोर्ट में आवेदन लगाया है। कोर्ट से उसके पति के लिए वारंट जारी होता है जिसे पुलिस तामील नहीं करती। मामला अप्रैल से चल रहा है। पुलिस कभी ताला होने की सूचना भेजती है, कभी घर पर मिलने की बात। पति करता है मारपीट प्रतिभा ने बताया कि उसकी शादी 31 नवंबर 2010 को नेहरू नगर निवासी शैलेष लीलारिया से हुई। दो साल 2 माह का एक बेटा है। दहेज के लिए परेशान करने पर उन्होंने सुपेला थाने में पति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। उनके पति ने भी उनके खिलाफ दांत से काटने की शिकायत दर्ज करवाई है।
 हाई पावर कमेटी इंटरनल कमेटी ने एक साथ किया प्लांट का दौरा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-19 12:19:40
गुरुवारको मिनिस्ट्रीयल हाई पावर कमेटी सेल की हाई लेवल कमेटी के मुखिया ने संयुक्त रूप से बीएसपी में घटनास्थल पंप हाउस 2 ब्लास्ट फर्नेस का निरीक्षण किया। पूरा दौरा गोपनीय रखे जाने दो अलग कमेटी के सदस्यों का साथ घटनास्थल का दौरा करने से जांच पर सवाल उठने लगे हैं। दोनों जांच कमेटी के सदस्यों का पूरा दौरा कार्यक्रम इतना गोपनीय रखा गया था कि तीनों सदस्य 24 घंटे तक भिलाई में रहे लेकिन किसी को भनक तक नहीं लगने दी। पूरे समय सीआईएसएफ के साथ पुलिस के जवान टीम के सदस्यों को घेरे हुए थे। बीएसपी के पीआर डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने भी इस तरह की किसी तरह टीम के आने की बात से इंकार कर दिया। टीम में मिनिस्ट्रीयल हाई पावर कमेटी के मुखिया केके मल्होत्रा के साथ सेल की हाई लेवल कमेटी के संयोजक सेल के ईडी आपरेशन एन भट्टाचार्य के साथ कमेटी का एक अन्य सदस्य शामिल था। टीम बुधवार की शाम को भिलाई पहुंची। गुरुवार की सुबह सीधे प्लांट पहुंच कर घटनास्थल का दौरा किया। टीम दोपहर को इस्पात भवन पहुंची। यहां सीईओ सहित ईडी अन्य अफसरों के साथ मीटिंग की। मीटिंग का ब्यौरा तो नहीं मिल पाया लेकिन सूत्रों के मुताबिक हादसे के बाद घटनास्थल में किए गए सुरक्षा उपायों के साथ ही प्लांट के अन्य हिस्सों में रखरखाव को लेकर तैयार शेड्यूल की समीक्षा की गई। इसके बाद शाम करीब पांच बजे टीम के सदस्य रायपुर से होते हुए दिल्ली के लिए रवाना हो गए। 17 को सौंपनी थी रिपोर्ट बतायाजा रहा है कि सेल की हाई लेवल कमेटी ने तो निर्धारित समय पर 16 जुलाई को रिपोर्ट सौंप दी। मिनिस्ट्रीयल हाई पावर कमेटी को रिपोर्ट 17 जुलाई को सौंपनी थी। कमेटी ने रिपोर्ट सौंपी की नहीं यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। गुनहगार कौन बीएसपी हादसा सेल ने बीएसपी में 12 जून को पंप हाउस 2 में गैस रिसाव के घटना की जांच के लिए हाई लेवल कमेटी बनाई थी। वहीं इस्पात मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की घोषणा के बाद मंत्रालय ने भी अलग से हाई पावर कमेटी का गठन किया था। ऐसा इसलिए किया गया ताकि घटना के कारणों के तह तक पहुंचा जा सके। अब तक दोनों कमेटियों ने अलग-अलग समय पर घटनास्थल का दौरा कर घटना की जांच की। अब जबकि जांच समय खत्म हो चुका है ऐसे में दोनों कमेटियों के मुखिया का संयुक्त दौरे पर सवाल उठने लगे हैं। दौरे इसलिए सवालों के घेरे में
 पुलिस कंट्रोल रूम से नहीं मिलती अपराध की जानकारी
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-07-19 12:33:35
पुलिस कंट्रोल रूम बना नेट सर्चिंग और गपशप का अड्डा नहीं देते थाने वाले किसी भी अपराध की कंट्रोल रूम को तुरंत सूचना कंट्रोल रूम के कुछ कर्मचारी जागरूक पर अधिकतर लापरवाह समाज के रक्षक अर्थात पुलिस विभाग का सदैव मखौल उड़ता रहा है, खाकी वर्दी की छवि आमजनता के बीच हमेशा से बहुत बुरी रही है लेकिन इसके बावजूद प्रशासन में कोई कसावट आती नजर नहीं आ रही है। जहां एक तरफ प्रदेश के गृहमंत्री अपने उद्बोधन में कसावट लाने की बातें कहते हैं, खाकी को जनता व मीडिया के बीच अपनी छवि सुधारने का आहवान करते हैं तो वहीं दूसरी तरफ उनके ही लोग इस आदेश को ठेंगा दिखा अपना स्वार्थ साधने में लगे हुए हैं- भिलाई। जब पुलिस वाले ही खाकी पर निशानिया सवाल खड़ा करने लग जाये तो इससे शर्मनाक बात कुछ और नहीं हो सकती है। यहां पर प्रश्न यह उठता है कि आखिर ऐसा कहने पर मजबूर क्यों होना पड़ रहा है। अभी तक हम देखते-सुनते आ रहे हैं कि जनता व मीडिया ही पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाती रही है लेकिन अब विभागीय लोगों के द्वारा इस प्रकार के गंभीर आरेाप लगाया जाये तो यह बेहद ही चिंतनीय विषय है। प्राप्त जानकारीनुसार इन दिनों कंट्रोल रूम के कर्मचारियों व अधिकारी से थाने वाले अत्यधिक परेशान हैं एवं इनमें आक्रोश व्याप्त नजर आ रहा है। ज्ञात हो कि मीडिया को जानकारी देने के हिसाब से से.-6, कोतवाली थाना में पुलिस विभाग द्वारा कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है। इसके अलावा कहीं किसी की घटना या दुर्घटना घटी तो आपातकाल में जनता एक सरलतम नंबर का इस्तेमाल कर सूचना दे सकें । इससे फायदा यह होगा कि हर घटना की जानकारी सम्बंधित थाने तथा मीडिया तक पहुचं सकेगी और तुरंत कार्यवाही प्रारम्भ की जा सकती है। इसके अलावा किसी थाना क्षेत्र में हुई दुर्घटना या अपराध की सूचना थाने से कंट्रोल रूम पर भेजी जानी चाहिए, इसके पीछे तर्क यह दिया जाता है कि कंट्रोल रूम से भी सभी अपराधों पर लगाम लगाने में मदद मिल सके। लेकिन आजकल ठीक इसके विपरीत कार्य हो रहा है। पुलिस कंट्रोल रूम केवल नाम का रह गया है। इसकी उपयोगिता धीरे-धीरे समाप्त हो रही है तथा आमजनता इनकी क्रियाकलापों से खुश नहीं दिखाई पड़ रही है। ऐसा लगता है कि पुलिस कंट्रोल रूम में बैठने वाले केवल समय व्यतीत करने आते हैं। जब भी किसी थाने के द्वारा कंट्रोल रूम मे बैठे व्यक्ति को अपराध के विषय में पहले तो तुरंत जानकारी नहीं दी जाती है और यदि दी भी गयी तो वो उसे अपडेट न करके अपने पास रख लेता है। अपनी इच्छानुसार उस खबर को कंट्रोल रूम में देता है और उसकी ड्यूटी समाप्त होने के बाद आने वाले कर्मी की बिना बताये ही घर जाता है। जब कंट्रोल रूम फोन किया जाता है तो वहां तैनात पुलिसकर्मी सब ठीक है, बोलकर पल्ला झाड़ लेता है। कभी-कभी तो विकट स्थिति उत्पन्न हो जाती है कि कंट्रोल रूम पुलिस सूचना केन्द्र न होकर गृहकार्य को निपटाने का अड्डा बन जाता है। ऐसा लगता है कि पुलिस कंट्रोल रूम मात्र औपचारिकता केन्द्र के रूप में इस्तेमाल करने बनाया गया है। कंट्रोल रूम में खबर देने के बावजूद उसे आगे तक मैसेज न करने से थानेवाले परेशान चल रहे हैं। जबकि नियमत: उन्हें सम्बंधित अधिकारी और मीडिया तक हर क्राइम खबर को बढ़ाना चाहिए। इससे स्थानीय थाने वालों पर आरोप लगता है कि वो जान-बूझकर मामले की दबा रहे हैं, इसी वजह से घटनाएं छुपाई जाती हो। उनके ऐसे कृत्यों से खाकी वाले अंदर ही अंदर कुढ़ रहे हैं लेकिन बदनामी के डर से खुलकर कुछ कह नहीं पा रहे हैं। बाक्स १. भाभी बेवसाइट से अपराधों पर लगायेंगे लगाम एक दिन अचानक जब हमारे प्रतिनिधि पुलिस कंट्रोल रूम पहुचे तो वहां देखा कि कुछ पुलिसकर्मी फेसबुक में देशी भाभी वेबसाइट खोलकर बैठे हैं और उनको किसी के आने-जाने की कोई खबर नहीं है। जब हमने देखा तो पाया कि वो इंटरनेट में अपराधियों को खोज रहे हैं। हमारे पत्रकार ने उनसे जब इसका कारण पूछा तो उन्होंने हंसते हुए बताया कि आजकल अपराधी ऐसे ही वेबसाइटो से पकड़ाते हैं। उनकी बाते सुनकर हमें हैरत भी हुई और हंसी के फव्वारे भी छूटे। 2. लगातार बजती है घंटी पर कोई उठाता नहीं जब कोई जानकारी लेने पुलिस कंट्रोल रूम मे फोन करो तो निरंतर फोन की घंटी बजती रहती है लेकिन कोई रिसीव करने की जहमत तक नहीं उठाता है। ऐसे में कई बार बड़ी वारदातें हो चुकी है। इस प्रकार के आरोप अक्सर जनता लगाती है। आपको याद होगा कि विगत दिनों बैकुंठ नगर, वार्ड-22 में एक युवक को पीट-पीटकर मार डाला गया मृतक के परिजनों ने कई बार लगातार कंट्रोल रूम में फोन किया लेकिन कोई रिस्पांस नहीं मिला अगर समय पर पुलिस आ जाती तो उसकी जान बच सकती थी। 3. कंट्रोल रूम है भगवान भरोसे परिस्थितियों को देखकर ऐसा लग रहा है कि कंट्रोल रूम अब केवल भगवान भरोसे है। कंट्रोल रूम में कार्यरत कर्मी अपनी मर्जी के अनुसार कार्य कर रहे हैं। उनको आमजनता व मीडिया से कोर्ई सरोकार नहीं है। उन्होंने सब कुछ ऊपर वाले के भरोसे छोड़ दिया है। जबकि कंट्रोल रूम वाले आरोप लगाते हैं कि उनको थाने से सीधे खबर तुरंत नहीं मिलती है . इधर - उधर से ज़्यादा खबर मिलती है। ऐसे में उनके कर्मचारी अपडेट नहीं रहते हैं तो यह उनकी गलती नहीं है।
 jagran.com/news/national-criminal-justice-system-needs-to-be-fasttracked-says-supreme-court-11525079.html
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-02 09:13:50
न्याय की धीमी रफ्तार पर सुप्रीमकोर्ट चिंतित
 jagran.com/news/oddnews-oxygen-mask-is-needed-to-eat-a-branded-dish-4214.html
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-03 23:48:01
लोगों के लिए चैलेंज है यह डिश
 jagran.com/news/spotlight-classical-music-is-forever-9758369.html
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-03 23:48:11
फिर से सराहा जा रहा है शास्त्रीय संगीत
 jagran.com/news/sports-medal-is-birthday-gift-to-my-son-vijendar-11528459.html
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-03 23:48:19
रजत पदक बेटे के लिए जन्मदिन का तोहफा: विजेंद्र
 jagran.com/news/world-india-nepal-relation-is-older-like-himalay-and-gang-modi-11527518.html
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-03 23:49:52
मोदी ने कहा, हिमालय और गंगा जितना पुराने हैं भारत-नेपाल के रिश्ते
 ट्विटर पर अपनी न्यूड तस्वीरें देखकर दंग रह गई ये अभिनेत्री
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-04 00:01:28

मुंबई। तेलुगु फिल्म अभिनेत्री अंजलि द्विवेदी तब दंग रह गईं, जब उन्होंने सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर अपनी न्यूड तस्वीरें देखीं। किसी ने उनका फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाकर उस पर उनकी न्यूड तस्वीरें पोस्ट कर दी थी। अंजलि ने इस मामले में तुरंत पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

तेलुगु फिल्मों की मशहूर अभिनेत्री अंजलि द्विवेदी पिछले महीने ही मध्य प्रदेश से मुंबई शिफ्ट हुई थी। अंजलि हिंदी फिल्मों में काम ढूंढने के लिए मुंबई आई हैं। अंजलि ने मलवानी पुलिस स्टेशन में इस मामले की शिकायत दर्ज कराई है।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, अंजलि ने मध्य प्रदेश के रीवा जिले के अपने दोस्तों से संपर्क में रहने के लिए अपना ट्विटर अकाउंट बनाया था। अंजलि के एक दोस्त ने फोन करके बताया कि उनके नाम पर एक और ट्विटर अकाउंट पर है, जिस पर उनकी कुछ न्यूड तस्वीरें हैं। अंजलि ने इसके बाद खुद उस अकाउंट पर अपनी न्यूड फोटो देखीं तो पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

अंजलि ने पुलिस से तुरंत यह अकाउंट ब्लॉक करते दोषी को ढूंढने के लिए कहा है। पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है और साइबर क्राइम विभाग की मदद से दोषी की तलाश की जा रही है।

पढ़ें: प्रेग्‍नेंट होने के बावजूद न्‍यूड हुई ये अमेरिकी पॉप स्‍टार

ये भी देखें: न्‍यूड हुईं माइली साइरस

 प्रेग्नेंट होने के बावजूद न्यूड हुईं अमेरिकी पॉप स्टार क्रिस्टिना!
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-04 00:01:30

नई दिल्ली। अमेरिकी पॉप गायिका क्रिस्टिना एग्युलेरा जल्द ही दूसरे बच्चे की मां बनने वाली हैं, लेकिन उन्हें न्यूड होने से कोई गुरेज नहीं। क्रिस्टिना ने 'वी' मैगजीन के लिए पूरी तरह न्यूड होकर तहलका मचा दिया है।

33 वर्षीय प्रेग्नेंट क्रिस्टिना की जो न्यूड फोटो जारी हुई है, उसमें एक सफेद दीवार के सहारे बिल्कुल न्यूड होकर पोज दे रही हैं। इस फोटो में उन्होंने अपने स्तनों को बालों और हाथ से कुछ हद तक कवर किया हुआ है।

क्रिस्टिना इस महीने मां बन जाएंगी। उनके मंगेतर मैथ्यू रटलर भी इस बच्चे का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। अभी क्रिस्टिना और मैथ्यू ने शादी नहीं की है। क्रिस्टिना को अपने पूर्व पति जॉर्डन ब्रैटमैन से एक छह साल का बेटा है।

देखें: न्‍यूड होकर पिलर पर चढ़ी शर्लिन चोपड़ा

क्लिक करके जानें, किस मॉडल ने न्‍यूड होकर तहलका मचाया

 कंगना रनौत ने एक साथ इतनी फीस बढ़ाई!
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-04 00:01:30

मुंबई। खबर है कि अभिनेत्री कंगना रनौत ने फिल्म क्वीन की सफलता के बाद अपनी फीस पचास फीसद बढ़ा दी है। 27 वर्षीय अभिनेत्री ने कहा, मैंने फीस इसलिए बढ़ाई है क्योंकि मैं इसकी हकदार हूं। इसके पीछे कोई खास वजह नहीं है। मैं बॉलीवुड में पिछले सात साल से काम कर रही हूं। मैंने अब तक जो भी सफलता हासिल की है उसके आधार पर मैंने अपनी फीस बढ़ाई है। उन्होंने कहा, मैं इसके लायक हूं। यह मेरा निजी फैसला है। वर्ष 2006 में फिल्म गैंगस्टर से अपना बॉलीवुड करियर शुरू करने वाली कंगना ने कई सुपरहिट फिल्में दी हैं। उनकी हाल ही में रिलीज हुई फिल्मों क्वीन और रिवॉल्वर रानी को खासा पसंद किया गया था।

पढ़ें: कंगना ने किया ऐसा किस कि इनके होंठ से खून बहने लगा

ये भी पढ़ें: शुद्धि के लिए सलमान की फीस जानकर चकरा जाएगा आपका सिर

 अगले साल सात फेरे लेंगी सलमान की बहन अर्पिता!
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-04 00:01:30

मुंबई। सलमान खान की शादी का तो पता नहीं, लेकिन उनकी बहन अर्पिता खान जल्द ही सात फेरे लेंगी। खबर है कि अर्पिता अगले साल जनवरी में दिल्ली के आयुष शर्मा से शादी कर रही हैं।


सूत्रों ने बताया कि, अर्पिता की शादी हैदराबाद में होगी। कुछ महीनों पहले ही अर्पिता और आयुष की सगाई हुई थी। दरअसल, शुक्रवार यानी 1 अगस्त को अर्पिता का जन्मदिन था और चार अगस्त को उनके भाई अरबाज खान का जन्मदिन है। इसलिए खान परिवार इस खास दिन को खास तरीके से सेलेब्रेट करना चाहते हैं। इसलिए रविवार को पनवेल के फार्महाउस में एक पार्टी दी जाएगी। शादी से पहले अर्पिता का इस घर में ये आखिरी बर्थडे है। इसलिए इसे खास बनाने में कोई कसर नहीं रखना चाहते हैं।


सोहेल खान ने अर्पिता की शादी के बारे में कहा कि, अर्पिता जब चाहेगी तभी इसी बारे में बात होगी। इससे पहले वे लोग इस बारे में कुछ भी नहीं कहना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि, इस पार्टी में बस करीबी रिश्तेदार और दोस्तों को ही बुलाया जाएगा।

पढ़ें - सलमान ने कहा, शाहरुख हैं बॉलीवुड के एकमात्र किंग

पढ़ें - सलमान से जुड़ी खबरें

 करिश्मा कपूर के दिल पर हुई ये किसकी दस्तक?
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-04 00:01:30

मुंबई। लगता है अभिनेत्री करिश्मा कपूर के जीवन में प्यार ने फिर से दस्तक दी है। एक ओर उन्होंने तलाक की अर्जी डाल दी है और दूसरी ओर वे अपने जिंदगी की नई शुरुआत करने के बारे में भी सोचने लगी है।


दरअसल, इन दिनों करिश्मा कपूर उद्योगपति संदीप तोशनीवाल को डेट कर रहीं हैं। दोनों को कई जगहों पर साथ देखा गया है। हाल ही में संदीप ने करिश्मा का बर्थडे भी सेलेब्रेट किया। संदीप एक फार्मास्यूटिकल कंपनी के मालिक हैं। संदीप ने भी तलाक की अर्जी डाल दी है। बताया जाता है कि संदीप दो बेटियों के पिता हैं और तलाक का इंतजार कर रहे हैं।

चर्चा है कि करिश्मा और संदीप काफी करीब आ गए हैं और इस रिश्ते को लेकर काफी गंभीर भी हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि साल के अंत तक दोनों शादी के बंधन में बंध जाएंगे। दोनों खूब सारा समय साथ भी बिताते हैं। दोनों कई बातों में एक जैसे हैं। संदीप इस बारे में कुछ भी कहने से इंकार कर रहे हैं।


पढ़ें - आलिया से नाराज हैं बेबो

पढ़ें - बॉलीवुड की खबरें

 18 अक्टूबर को सात फेरे लेंगे दीया मिर्जा और साहिल संघा
हैलोरायपुर न्यूज Correspondent 2014-08-04 00:01:30

मुंबई। अभिनेत्र